तृणमूल कांग्रेस के सांसद की गिरफ्तारी को कहा ‘बदले की राजनीति’ : ममता

कोलकाता, 3 जनवरी:  पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार द्वारा मंगलवार को तृणमूल कांग्रेस के सांसद सुदीप बंदोपाध्याय की गिरफ्तारी को ‘बदले की राजनीति’ करार दिया और मोदी सरकार के ‘प्रतिशोधात्मक रवैये’ के खिलाफ राष्ट्रव्यापी आंदोलन की घोषणा की। बंदोपाध्याय को केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने रोज वैली चिट फंड घोटाला मामले में गिरफ्तार किया है।

ममता ने इसके बदले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तथा भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अध्यक्ष अमित शाह की गिरफ्तारी की मांग की।

उन्होंने कहा, “हम मोदी तथा अमित शाह की राजनीतिक बदले की भावना की घोर निंदा करते हैं। उन्होंने हमारे संसदीय दल के नेता सुदीप बंदोपाध्याय को गिरफ्तार कर लिया। वे एक दिग्गज राजनीतिज्ञ हैं और हमारी पार्टी के वरिष्ठ नेता हैं।”

ममता ने कहा, “यह सब केवल नोटबंदी के खिलाफ हमारी लड़ाई को लेकर हो रहा है। हम जनता के साथ हैं और रहेंगे। जनता के साथ रहने से हमें कोई नहीं रोक सकता और नोटबंदी के खिलाफ हम अपना प्रदर्शन जारी रखेंगे।”

उन्होंने फेसबुक पोस्ट में कहा, “हम इसकी निंदा, निंदा और निंदा करते हैं।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी पार्टी केंद्र सरकार के प्रतिशोधी रवैये के खिलाफ देशव्यापी आंदोलन करेगी।

उन्होंने कहा, “हम नौ जनवरी को कोलकाता स्थित भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के सामने विरोध-प्रदर्शनकरेंगे और 10 व 11 जनवरी को दिल्ली, असम, ओडिशा व त्रिपुरा सहित 10 विभिन्न राज्यों में धरना दिया जाएगा।”

ममता ने कहा, “मैं भी सरकार चलाती हूं और मेरे पास भी चोरों, गुंडों व लुटेरों को गिरफ्तार करने का अधिकार है। यह गिरफ्तारी प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) के दबाव में की गई है।”

उन्होंने कहा, “यह बदले की राजनीति है, क्योंकि नोटबंदी पर तृणमूल कांग्रेस केंद्र के खिलाफ लड़ाई लड़ रही है।”

आरोपों को खारिज करते हुए भाजपा नेता पीयूष गोयल ने कहा कि किसी भी जांच प्रक्रिया में केंद्र सरकार दखलंदाजी नहीं करती।

गोयल ने कहा, “हमने किसी भी जांच प्रक्रिया में कभी हस्तक्षेप नहीं किया।”

नोटबंदी के खिलाफ विपक्ष के विरोध के बारे में पूछे जाने पर गोयल ने कहा, “यह विपक्ष की राजनीति है। भारत की जनता ने सरकार के इस कदम का समर्थन किया है।”

–आईएएनएस

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error:
Close