breaking_news Home slider देश राज्यो की खबरें

पंजाब चुनाव : मोदी ने खेला इमोशनल ट्रम कार्ड, पाक का डर दिखा मांगा वोट

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पंजाब में (साभार-गूगल)

कोटकपुरा (पंजाब), 30 जनवरी: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए चुनाव प्रचार करते हुए रविवार को एक जनसभा में पाकिस्तान का डर दिखाकर लोगों से वोट मांगा। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कुछ लोग प्रदेश में आतंकवाद को जिंदा रखना चाहते हैं। मोदी ने बिना किसी का नाम लिए लोगों को चेताया कि ऐसी पार्टी को वोट न दें, जो निहित स्वार्थ के लिए सरकार बनाने पर नजरें गड़ाए हुए हैं। उनका इशारा कांग्रेस और आम आदमी पार्टी (आप) की तरफ था। 

मोदी ने पाकिस्तान से सटे पंजाब में मजबूत सरकार बनाने के लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और शिरोमणि अकाली दल गठबंधन को वोट देने की अपील की।

मोदी ने चंडीगढ़ से 225 किलोमीटर दूर पंजाब के मालवा क्षेत्र के कोटकपुरा में कहा, “पंजाब सीमावर्ती राज्य है। पाकिस्तान हमेशा ही पंजाब को अस्थिर करने के अवसर तलाशता है। यदि एक कमजोर सरकार सत्ता में आई या बाहरी लोगों की सरकार सत्ता में आई या भोगविलास में लिप्त सरकार सत्ता में आई तो यह पंजाब और पूरे देश के लिए बुरा होगा।”

उन्होंने कहा, “हमें यह सुनिश्चित करना है कि हमारे पास एक मजबूत सरकार हो। आपको यह सुनिश्चित करना है कि आप सही तरीके से वोट करें।”

पंजाब की 117 विधानसभा सीटों के लिए चार फरवरी को मतदान होने हैं। इस बार मुख्य मुकाबला अकाली दल-भाजपा गठबंधन, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी (आप) के बीच है।

उन्होंने कहा कि कुछ लोग पंजाब में आतंकवाद को जिंदा रखना चाहते हैं। उन्होंने लोगों को चेताया कि कांग्रेस की चाल में न फंसें। 

मोदी ने कहा, “कांग्रेस के नेताओं ने पंजाब के सारे युवाओं को आतंकवादी कहा। अब वे पंजाब के सारे युवाओं को नशाखोर कह रहे हैं। पंजाब को ऐसे लोगों से बचाइए जो इसे पुराने अंधेरे दिनों की ओर धकेल देंगे।”

मोदी ने चुनाव प्रचार के दौरान इस्तेमाल होने वाली भाषा के गिरते स्तर के लिए कांग्रेस और आप को दोषी बताया।

उन्होंने कहा, “पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के लिए जो कुछ कहा जा रहा है, उसे सुनकर मैं दुखी हूं। उनके लिए बहुत गलत शब्दों का इस्तेमाल किया गया। यह तानाशाह की भाषा है। क्या लोकतंत्र इस तरह काम करता है? अगर लोकतांत्रिक परंपराओं को तोड़ा गया, तो यह देश के लिए बुरा होगा। जिन लोगों ने अन्ना हजारे के साथ नाइंसाफी की, क्या आपको लगता है कि वे बादल को सम्मान देंगे?”

मोदी ने कहा कि अपने राजनीतिक जीवन में वह दो नेताओं अटल बिहारी बाजपेयी और प्रकाश सिंह बादल का बेहद सम्मान करते हैं, क्योंकि वे कभी दूसरों के बारे में गलत नहीं बोलते।

उन्होंने कहा, “हमें इन नेताओं से सीखना चाहिए कि सार्वजनिक जीवन कैसे जीया जाता है। हम भी कांग्रेस के खिलाफ लड़ रहे हैं। लेकिन हम ऐसा कभी नहीं कहते कि फलां-फलां को जेल भेज देंगे।”

मोदी ने कहा कि आप नेताओं को निर्वाचन आयोग के काम में कमियां निकालने और उस पर मोदी के आदेश पर चलने का आरोप लगाने के बजाय अपने काम पर ध्यान लगाना चाहिए।

मोदी ने गुरु ग्रंथ साहिब को अपवित्र करने का मुद्दा भी उठाया और कहा कि केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) पूरे मामले की विस्तार से जांच करेगा और दोषियों को सजा दी जाएगी।

–आईएएनएस

About the author

समय धारा

Add Comment

Click here to post a comment