breaking_news Home slider टेक न्यूज टेक्नोलॉजी

सावधान! अगर आप भी व्हाट्स एप पर करते है चैटिंग तो हो सकती है ये खतरनाक बीमारी

साभार-गूगल

लोकप्रिय मैसेंजर एप व्हाट्स एप पर अगर आप भी चैटिंग करते रहते है तो संभल जाएं क्योंकि इससे आपको बेहद खतरनाक बीमारी हो सकती है। दरअसल, स्मार्टफोन पर कई मैसेंजर एप के होने से आजकल जिसे देखो वही अपने फोन पर चैटिंग करता रहता है। ऐसे में यदि आपको भी चैटिंग की लत है तो अब इस लत को जल्द से जल्द छोड़ दीजिए, क्योंकि यह लत आपको बीमार बना सकती है। दरअसल, ऐसा हम नहीं बल्कि अमेरिकी विशेषज्ञ बोल रहे हैं। हाल ही में आई एक रिपोर्ट के अनुसार चैटिंग और गेमिंग की लत के शिकार युवाओं में गठिया के मामलों में रिकॉर्ड तोड़ बढ़ोतरी दर्ज की गई है। पूर्व में हुए कुछ अध्ययनों में अत्यधितक टेक्सटिंग और गेमिंग  को गर्दन, पीठ, कंधे और कमर दर्द के साथ-साथ अनिद्रा व आंखों की रोशनी कमजोर पड़ने जैसी स्वास्थ्य समस्याओं के लिए भी जिम्मेदार ठहराया जा चुका है। आज हम आपको बता रहे हैं कि चैटिंग की लत कैसे आपके लिए हानिकारक हो सकती है।

हड्डियां-मांसपेशियां हो रहीं कमजोर

आमतौर पर जब भी हम चैटिंग करते हैं तो आरामदेह अवस्था में ही बैठे रहते हैं। इससे हड्डियों,मांसपेशियों, नसों और जोड़ों पर जरूरत से ज्यादा दबाव पड़ता है। साथ ही उनमें क्षरण की गति  भी बढ़ जाती है। कई देर तक एक जैसी पोज में बैठने से उस हड्डी पर जोर पड़ता है और जब यह सिलसिला ज्यादा देर तक चलता है तो फिर आपको इस जगह पर असहनीय दर्द होने लगता है।

टेढ़ी हो जाती हैं उंगलियां

चैटिंग के दौरान जब अंगूठे कीबोर्ड पर मैसेज टाइप करने में व्यस्त होते हैं तो स्मार्टफोन का सारा भार लिटिल फिंगर (कनिष्ठा) पर आ जाता है। इससे यह उंगली धीरे-धीरे हथेली की ओर मुड़ती चली जाती है। विशेषज्ञ इस अवस्था को ‘स्मार्टफोन पिंकी’ कहते हैं। उनके मुताबिक स्मार्टफोन पर लंबे समय तक चैटिंग करने से अंगूठे और उंगलियों के आसपास के जोड़े जरूरत से ज्यादा सक्रिय हो जाते हैं। उनमें मौजूद कार्टिलेज में या तो क्षरण की शिकायत होने लगती है या फिर आसपास बेतरतीब हड्डियां विकसित होने लगती हैं।

झुक जाती है गर्दन और पीठ

लोग जब सीधी मुद्रा में खड़े या बैठे होते हैं तो उनके सिर का वजन 4.5 से 5.5 किलोग्राम के बीच होता है। चैटिंग में आप उस भार को लंबे समय तक ऐसे ही सहन करते हैं जिससे आपकी गर्दन और पीठ झुक जाती है। पीठ पर ज्यादा बोझ पड़ने से इसमें दर्द भी होने लगता है और रीढ़ की हड्डी भी कमजोर होती है।

बढ़ रहा है कलाई का दर्द

जब लोग स्मार्टफोन पर घंटों चैटिंग करते हैं तो उंगलियों और कलाई के रास्ते कोहनी को जाने वाली एक नस पर अतिरिक्त दबाव पड़ता है। लंबे समय तक हाथ इसी मुद्रा में मोड़े रखने पर नस में खून का प्रवाह भी बाधित हो सकता है। इससे लोग को असहनीय दर्द झेलना पड़ता है।

कम हो रही है आंखों की रोशनी

आंखों के डॉक्टरों की मानें तो स्मार्टफोन पर ज्यादा चैटिंग करने वालों की आंखें नॉर्मल काम करने वाले लोगों की अपेक्षा कहीं ज्यादा कमजोर होती है।  इससे आंखों में पर्याप्त मात्रा में आंसू का उत्पादन नहीं हो पाता। धूल-मिट्टी और प्रदूषकों से आंखों की कोशिकाओं और रेटिना की रक्षा करने के लिए आंसू काफी अहम माने जाते हैं। वैज्ञानिक भाषा में इस समस्या को ड्राई आई सिंड्रोम कहते हैं।

 

About the author

समय धारा

Add Comment

Click here to post a comment

अन्य ताजा खबरें