breaking_newsHome sliderअन्य ताजा खबरें

“31 अक्टूबर” आज नहीं 21 अक्टूबर को होगी रिलीज

मुंबई: बॉलीवुड में ज़्यादातर कामर्शियल और मसाला फिल्में बनती हैं जिनका मकसद दर्शकों का मनोरन्जन करना भर होता है। ऐसी फिल्में देखते समय दर्शक कुछ देर के लिए तनाव मुक्त रहता है, लेकिन फिल्म खत्म होने के बाद कुछ गाने या कुछ दृश्यों से ज्यादा फिल्म में याद करने लायक कुछ नहीं होता या यूं कहें कि मसाला फिल्मों से समाज में कोई खास परिवर्तन नहीं आता। लेकिन पिछले कुछ समय से बॉलीवुड में सच्ची घटनाओं पर आधारित फिल्में बनने का ट्रेंड हो चला है। ऐसी फिल्में समाज को आईना दिखाती हैं, साथ ही समाज में व्याप्त बुराइयों की ओर जनता का ध्यान खींचने में भी कामयाब होती हैं। मशहूर खिलाड़ियों मिल्खा सिंह, मेरी कॉम और हालिया प्रदर्शित महेंद्र सिंह धोनी के जीवन पर आधारित फिल्मों ने न सिर्फ अच्छी कमाई की बल्कि उभरते हुए खिलाड़ियों के लिए प्रेरणादायक भी रहीं। आमतौर पर ऐसी फिल्मों के प्रदर्शन के लिए फिल्म के निर्माता, निर्देशक को ज्यादा जद्दोजहद नहीं करनी पड़ती लेकिन अगर फिल्म की कहानी किसी राजनीतिक घटना से जुड़ी हो तो उसके प्रदर्शन के लिए फिल्म के निर्माताओं को काफी मशक्कत करनी पड़ती है। पिछले दिनों “फ़ैनटम” फिल्म के प्रदर्शन से पहले फिल्म के कई दृश्यों को लेकर बवाल उठा था, फिर पंजाब के ड्रग माफियाओं पर बनी फिल्म “उड़ता पंजाब” को भी अनेक प्रकार का विरोध झेलना पड़ा। अब हालिया निर्मित फिल्म  ’31 अक्टूबर’ के प्रदर्शन में रुकावटें आ रही हैं।

 

ज्ञातव्य है कि वर्ष 1984 में प्रधान मंत्री श्रीमती इन्दिरा गांधी की हत्या के बाद देश भर में सिख विरोधी दंगे हुए थे। दंगे हुए थे या करवाए गए थे, ये आम जनता के लिए अभी तक स्पष्ट नहीं है। इस फिल्म के लेखक निर्देशक “हैरी सचदेवा” इस फिल्म के जरिये उस वक़्त के हालात जनता को दिखाना चाहते हैं, लेकिन उनका कहना है कि फिल्म के प्रदर्शन से पहले ही फिल्म के प्रदर्शन को लेकर रुकावटें डाली जा रही हैं। सोहा आली खान और वीर दास द्वारा अभिनीत इस फिल्म के खिलाफ याचिका दायर की गई है। इस बारे में हैरी सचदेवा का कहना है कि दिल्ली स्थित कांग्रेस पार्टी के एक करीबी ने इस फिल्म की रिलीज में रोड़ा अटकाया है। पहले यह फिल्म 7 अक्तूबर को रिलीज़ होने वाली थी लेकिन अब 7 के बजाय 21 अक्तूबर को रिलीज़ होगी।

फिल्म ’31 अक्टूबर’ के लेखक-निर्देशक हैरी सचदेवा ने कहा, “इस विषय पर काम शुरू करने के समय से ही मुझे पता था कि मुझे ऐसी फिल्म बनाने से रोकने की बहुत कोशिश की जाएगी। शुरुआत से ही यह एक मुश्किल यात्रा थी, लेकिन हमने हार नहीं मानी और न अब मानेंगे। सेंसर से अब धमकी मिल रही है लेकिन हम मजबूती से यह फिल्म बड़े पर्दे पर आगे लेकर जाएंगे और उस वक़्त की सच्चाई लोगों को बताएँगे। लोग इस विषय को बाहर लाना चाहते हैं। दुनिया को 1984 की वास्तविकता बताने से कोई रोक नहीं सकता।”

मैजिक ड्रीम्स प्रोडक्शंस प्राइवेट लिमिटेड, पैनोरमा स्टूडियो, आनंद प्रकाश और हैरी सचदेवा द्वारा सह-निर्मित इस फिल्म में सोहा और वीर प्रमुख भूमिकाओं में हैं। यह शिवाजी लोटन पाटील द्वारा निर्मित है।

(आईएएनएस)

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Close