breaking_newsअन्य ताजा खबरेंऑटोलेटेस्ट ऑटो न्यूज
Trending

Self-driving कारों के पेटेंट दाखिल करने में Samsung इलेक्ट्रॉनिक्स सबसे आगे

शीर्ष 10 कंपनियों में केवल तीन कंपनियां - बॉश, टोयोटा मोटर कॉर्प और कांटिनेंटल एजी ही वाहन उद्योग की कंपनियां हैं

सियोल,2जनवरी: #Samsungelectronicsleadingtofileself-drivingcarspatent- यूरोप में पारंपरिक कार निर्माताओं की तुलना में सेल्फ ड्राइविंग कारों के सबसे ज्यादा पेटेंट आवेदन सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स को. ने दाखिल किए हैं।

यूरोपीयन पेटेंट कार्यालय (EPO) द्वारा सोमवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक, यूरोप में 2017 में सेल्फ ड्राइविंग कारों के कुल 3,998 आवेदन दाखिल किए गए, जोकि 2011 में दाखिल किए गए 922 आवेदन की तुलना में तीन गुणा है।

 Samsung electronics leading to file self-driving cars patent application

साल 2011-2017 की अवधि में सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स ने सबसे अधिक 624 पेटेंट आवेदन दाखिल किए हैं, जिसके बाद अमेरिकी आईटी दिग्गज इंटेल कॉर्प है, जिसने 590 आवेदन दाखिल किए हैं।

ईपीओ के आंकड़ों से पता चलता है कि अमेरिकी चिप निर्माता क्वालकॉम इंक ने 361, दक्षिण कोरिया की ही एलजी इलेक्ट्रॉनिक्स ने 348, जर्मनी की इंजीनियरिंग फर्म बॉश ने 343 पेटेंट आवेदन दाखिल किए हैं।

आंकड़ों से पता चलता है कि सेल्फ ड्राइविंग कारों के विकास का प्रयास पारंपरिक वाहन निर्माताओं की तुलना में सूचना और प्रौद्योगिकी से जुड़ी कंपनियां अधिक जोर शोर से कर रही है।

इस सूची में शामिल शीर्ष 10 कंपनियों में केवल तीन कंपनियां – बॉश, टोयोटा मोटर कॉर्प और कांटिनेंटल एजी ही वाहन उद्योग की कंपनियां हैं।

–आईएएनएस

यह भी पढ़े: #HERO की नई #Destini125- आपके प्यार-परिवार का परफेक्ट-सुरक्षित हमसफर

यह भी पढ़े: Maruti की ये सस्ती फैमिली कार आपकी ड्राइविंग को बना देगी मजेदार

यह भी पढ़े: Volvo कार्स, Ericsson ink ने कनेक्टेड कारों के लिए पार्टनरशिप की

 

Tags

Reena Arya

रीना आर्य एक ज्वलंत और साहसी पत्रकार व लेखिका है। वे समयधारा.कॉम की एडिटर-इन-चीफ और फाउंडर भी है। लेखन के प्रति अपने जुनून की बदौलत रीना आर्य ने न केवल बड़े-बड़े ब्रांड्स में अपने काम के बल पर अपनी पहचान बनाई बल्कि अपनी काबलियत को प्रूव करते हुए पत्रकारिता के पांच से छह साल के सफर में ही अपने बल खुद एक नए ब्रैंड www.samaydhara.com की नींव रखी।रीना आर्य हर मुद्दे पर अपनी बेबाक राय रखने पर विश्वास करती है और अपने लेखन को लगभग हर विधा में आजमा चुकी है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: