breaking_newsHome sliderटेक न्यूजटेक्नोलॉजी

4जी के बाद अब तैयार हो जाएं 5जी की तोड़ू स्पीड के लिए, ये है खासियत

सैमसंग, नोकिया और वर्जिन जैसी कई कंपनियां 5जी नेटवर्क की टेस्टिंग कर चुकी हैं पर इसे अभी लॉन्च नहीं किया गया है’दक्षिण कोरिया 2018 में 5जी नेटवर्क का ट्रायल शुरू कर सकता है, जापान 2020 में इसे आम लोगों के लिए उपलब्ध कराएगा। रिपोर्ट की मानें तो 2021 तक विश्व में 5जी पर चलने वाले 15 करोड़ फोन होंगे और भारत में इसके आते ही धमाल मच जाएगा। वैसे भी भारत में 4 जी के आते ही कितनी चीजें बदली हैं ये आपने देखा ही होगा तो ऐसे में जब उसकी दोगुनी स्पीड वाला 5 जी आएगा तो सोचिए कि कैसे होगा नजारा।

5जी तकनीक

सबसे पहले 5जी तकनीक का परीक्षण 2010 में किया गया। इसके जरिए 1,000 जीबी प्रति सेकेंड की रफ्तार से डाटा भेजा जा सकता है। कई विज्ञान फंतासी फिल्मों और टीवी शो में जिस तरह व्यक्ति वर्चुअली (आभासी रूप में) कहीं भी उपस्थित हो जाता है, ठीक उसी तरह इस तकनीक से ऐसा करना संभव होगा। हालांकि अभी तक इसके बारे में पूरी जानकारी नहीं दी जा रही है, लेकिन फिर भी कहा जा रहा है कि इसके आते ही न सिर्फ भारतीय बाजार की बल्कि पूरी दुनिया की दशा ही बदल जाएगी।

सबसे तेज नेटवर्क की खूबियां

5 जी जिंदगी को बेहतर बना देगा। यह खुद ब-खुद जान जाएगा कि उपकरण की बैटरी कमजोर पड़ रही है और नेटवर्क की फ्रीक्वेंसी घटा देगा, जिससे फोन और कंप्यूटर जैसे गैजेट कम ऊर्जा की खपत करेंगे। इस नेटवर्क से लोगों, घरों, इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों और परिवहन-स्वास्थ्य जैसी सेवाओं को आपस में जोड़ा जा सकेगा। मिसाल के तौर पर अगर फ्रिज में दूध कम है तो यह फोन पर एसएमएस भेजकर इसकी जानकारी दे देगा।

वर्चुअल रियलिटी गेम का बाजार में तेजी 

पांचवी जनरेशन के नेटवर्क की दस्तक के साथ जानकार वर्चुअल रियलिटी गेम का बाजार तेजी से बढ़ने का अनुमान लगा रहे हैं। फेसबुक संस्थापक मार्क जुकरबर्ग के मुताबिक 5जी के इस्तेमाल से वर्चुअल रियलिटी तकनीक का अनुभव और आनंद कई गुना बढ़ जाएगा। तब कोई भी वर्चुअल दुनिया से बाहर नहीं होगा,क्योंकि उस समय तक हर चीज इंटरनेट से शुरू हो चुकी होगी।

100 गुना तेज डाटा होगा अपलोड-डाउनलोड

2020 के टोक्यो ओलंपिक में 5जी नेटवर्क के इस्तेमाल की तैयारी चल रही है। 1000 जीबी प्रति सेकेंड की गति से डाटा ट्रांसफर करने वाले इस नेटवर्क से ओलंपिक मुकाबले देखने का मजा कई गुना बढ़ जाएगा। वैसे,जापान और तकनीक का पुराना रिश्ता है। 1964 में टोक्यो में हुए ओलंपिक खेलों का पहली बार सेटेलाइट से रंगीन प्रसारण किया गया था। अब बारी है 5जी नेटवर्क के प्रदर्शन की, जो मौजूदा 4 जी तकनीक से 100गुना तेज डाटा अपलोड-डाउनलोड करती है। अब तो बस सभी को आने वाले सालों का इंतजार है जब 4 जी तकनीक से 100 गुना तेज डाटा अपलोड-डाउनलोड वाला 5 जी आएगा।

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1 × three =

Back to top button