breaking_newsHome sliderअपराधदेशदेश की अन्य ताजा खबरें

उल्टा चोर कोतवाल को डांटे,एयर इंडिया पर ‘लोगों से धोखाधड़ी करने व घटिया सेवा प्रदान करने’ का आरोप लगाया गायकवाड ने

मुंबई, 30 मार्च: एयर इंडिया के विमान में ड्यूटी मैनेजर की चप्पल से पिटाई करने वाले शिवसेना सांसद रवींद्र गायकवाड़ ने बुधवार को यहां एयरलाइंस पर हमला करते हुए उस पर ‘लोगों से धोखाधड़ी करने तथा घटिया सेवा प्रदान करने’ का आरोप लगाया। बीते 23 मार्च को एयर इंडिया के एक कर्मचारी से गालीगलौच तथा मारपीट करने के बाद एक सप्ताह तक मीडिया से दूर रहे गायकवाड़ ने कहा कि उनका गुस्सा एयरलाइंस द्वारा अक्षम तथा घटिया सेवा को लेकर था न कि बिजनेस क्लास की सीट को लेकर। 

गायकवाड़ ने कहा, “मीडिया केवल एयर इंडिया का पक्ष पेश कर रहा है, जो भ्रामक है।”

उन्होंने कहा, “उस दिन पुणे-नई दिल्ली की उड़ान में मेरे पास बिजनेस क्लास का टिकट था और मुझे बिजनेस क्लास का ही बोर्डिंग पास जारी किया गया था। विमान में सवार होने तक मुझे यह सूचना नहीं दी गई कि उस विमान में बिजनेस क्लास है ही नहीं।”
बुधवार को जारी एक बयान में उन्होंने कहा कि उन्होंने कई बार इकोनॉमी क्लास में यात्रा की है, इसलिए उस दिन उन्हें कोई असुविधा नहीं हुई।

यह भी पढ़े: 25 चप्पलों का ऐसा किया वार, अब नहीं हो पाएंगे कभी किसी भी प्लेन में सवार

उन्होंने कहा, “मैं एक आम आदमी हूं और सादा जीवन जीता हूं। मैं गरीबों, किसानों मजदूरों से घुलमिल जाता हूं। इसलिए मेरी चिंता इकोनॉमी क्लास में यात्रा करने को लेकर नहीं थी, बल्कि यात्रियों को टिकट पर दी गई सुविधाएं मुहैया न कराने को लेकर थी।”

गायकवाड़ ने बयान में कहा, “यहां तक कि दूसरी कतार में एक विकलांग यात्री बैठा था, लेकिन उनकी सुविधा के लिए मैंने उन्हें पहली कतार वाली अपनी सीट देने की पेशकश की। बिजनेस क्लास में सीट न मिलने को लेकर मेरे गुस्से की बात को फैलाकर मेरे बारे में लोगों में मेरी गलत छवि बनाई गई।”

एयर इंडिया पर अपना गुस्सा उतारते हुए उन्होंने कहा कि यात्रियों को उनके टिकट के हिसाब से सुविधाएं नहीं दी गईं और जब उन्होंने शिकायत पुस्तिका मांगी तो वह उन्हें तब तक नहीं दी गई, जब तक विमान उस दिन दिल्ली में उतर नहीं गया।

गायकवाड़ ने कहा कि उन्होंने एयरलाइंस के कर्मचारियों से वरिष्ठ अधिकारियों से मिलाने का आग्रह किया और तब तक वह विमान में ही बैठे रहे।

सांसद ने कहा, “अचानक, सुकुमार नामक एक व्यक्ति तमतमाते हुआ अंदर घुसा और चिल्लाकर कहने लगा, यह सांसद कौन है मैं किसी सांसद को नहीं जानता..मैंने यहां तक कहा कि आप वरिष्ठ नागरिक हैं, शांत रहिए और मुझपर अपना गुस्सा मत उतारिए।”

यह भी पढ़े:शिवसेना सांसद की मुश्किलें बड़ी, एफआईआर(FIR) के बाद एयर इंडिया ने किया ‘ब्लैक लिस्ट’

लेकिन वह शांत नहीं हुए और कहने लगे कि वह बीते 25 वर्षो से सांसदों से निपटते आए हैं और उनके (गायकवाड़) के खिलाफ वह मोदी (प्रधानमंत्री) से शिकायत करेंगे, जबकि इस दौरान उनके साथी उन्हें शांत कराने का प्रयास करते रहे।

गायकवाड़ ने दावा किया, “वह हालांकि शांत नहीं हुए और मुझपर झपटे और मुझे विमान से बाहर खींचना शुरू कर दिया। लेकिन उनके साथियों ने कहा कि वह पागल हैं और वह उन पर ध्यान नहीं दें। उन्होंने एक सांसद के रूप में मेरे पद का अपमान किया और यहां तक कि प्रधानमंत्री का नाम तक लिया।”

उन्होंने कहा कि अंत तक एयरलाइंस के अधिकारियों ने उनकी शिकायत नहीं ली और इसकी सूचना वरिष्ठ अधिकारियों को नहीं दी। हालांकि बाद में एक वरिष्ठ सहायक महाप्रबंधक आए और उनसे माफी मांगते हुए उन्हें आदर सहित विमान से बाहर लेकर आए। 

एयरलाइंस द्वारा उनकी यात्रा पर पाबंदी को लेकर महाराष्ट्र के उस्मानाबाद से शिवसेना सांसद गायकवाड़ ने कहा कि बीते सप्ताह एयर इंडिया ने एकपक्षीय तौर पर पुणे के उनके टिकट को रद्द कर दिया।

यह भी पढ़े: शिवसेना के ‘चप्पल मार’ सांसद ‘गायकवाड़’ का एयर इंडिया ने दोबारा रद्द किया टिकट

गायकवाड़ ने कहा, “इस पाबंदी के बारे में मुझे आधिकारिक सूचना नहीं दी गई..मुझे यह बात मीडिया से पता चली..किस नियम के तहत ऐसा किया गया। पाबंदी लगाने से पहले क्या जांच की गई। मेरे अधिकारों का हनन करने से पहले क्या कर्मचारी के खिलाफ कोई कार्रवाई की गई।”

उन्होंने इस बात को दोहराया कि इस संबंध में उन्होंने लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन तथा केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ए.गजपति राजू से पहले ही शिकायत की है। 

एयरलाइंस द्वारा गायकवाड़ का टिकट मंगलवार को रद्द किए जाने के बाद उन्होंने मुंबई-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस में टिकट बुक कराया, लेकिन वह ट्रेन में सवार नहीं हुए।

खबर है कि उन्होंने अंतिम समय में ट्रेन न पकड़कर निजी वाहन से मुंबई से दिल्ली आने का मन बनाया और वह बुधवार शाम तक दिल्ली पहुंचने वाले हैं।

–आईएएनएस

Show More

Dharmesh Jain

धर्मेश जैन www.samaydhara.com के को-फाउंडर और बिजनेस हेड है। लेखन के प्रति गहन जुनून के चलते उन्होंने समयधारा की नींव रखने में सहायक भूमिका अदा की है। एक और बिजनेसमैन और दूसरी ओर लेखक व कवि का अदम्य मिश्रण धर्मेश जैन के व्यक्तित्व की पहचान है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 − two =

Back to top button