breaking_newsअन्य ताजा खबरेंअपराधदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंराजनीतिराज्यों की खबरें
Trending

बुलंदशहर में साधुओं की ह्त्या पर उद्धव का योगी को कॉल, प्रियंका गाँधी अखिलेश का यह आया बयान

इस घटना को कोई भी धार्मिक रंग न दे, इस अमानवीय घटना के विरोध में हम सब उनके साथ है : उद्धव ठाकरे

bulandshahr-do-sadhuon-ki-hatya-ki-sabhi-khabare 
उत्तर प्रदेश : बुलंदशहर में दो साधुओं की ह्त्या पर पूरे देश में बवाल मच गया है l इस हत्याकांड में  नशेड़ी आरोपी को तो पकड़ लिया गया हैl 
पर विपक्ष इस पर काफी बवाल मचा रहा है l महाराष्ट के CM उद्धव ठाकरे ने मुख्यमंत्री योगी को फोन कर मामले की जानकारी ली,
और इस पर अपनी चिंता जताई l  कहा की इस अमानवीय घटना के विरोध में हम सब उनके साथ है l
इस पर राजनीति नहीं होनी चाहिए l जिस तरह की इसी घटना पर हमने कठोर कार्रवाई की है,
ठीक उसी तरह आप भी इस अमानवीय घटना पर कठोर कार्रवाई करोगे l इस घटना को कोई भी धार्मिक रंग न दे l 

इस घटना को कोई भी धार्मिक रंग न दे, इस अमानवीय घटना के विरोध में हम सब उनके साथ है : उद्धव ठाकरे
इस घटना को कोई भी धार्मिक रंग न दे, इस अमानवीय घटना के विरोध में हम सब उनके साथ है : उद्धव ठाकरे


वही उत्तर प्रदेश के ही  पूर्व सीएम और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी इस मामले पर राजनीति नहीं करने की अपील की है।
bulandshahr-do-sadhuon-ki-hatya-ki-sabhi-khabare 
उन्होंने ट्वीट कर कहा उप्र के बुलंदशहर में मंदिर परिसर में दो साधुओं की नृशंस हत्या अति निंदनीय व दुखद है l 
इस प्रकार की हत्याओं का राजनीतिकरण न करके,

बुलंदशहर में मंदिर परिसर में दो साधुओं की नृशंस हत्या अति निंदनीय व दुखद है
बुलंदशहर में मंदिर परिसर में दो साधुओं की नृशंस हत्या अति निंदनीय व दुखद है
इनके पीछे की हिंसक मनोवृत्ति के मूल कारण या आपराधिक कारण की गहरी तलाश करने की आवश्यकता होती है l 
इसी आधार पर समय रहते न्यायोचित कार्रवाई करनी चाहिए l यह रहा उनका ट्वीट 


वहीं, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने सूबे की योगी आदित्यनाथ सरकार पर कानून-व्यवस्था को लेकर तीखा हमला बोला है।
bulandshahr-do-sadhuon-ki-hatya-ki-sabhi-khabare 
उन्होंने ट्वीट कर कहा 
अप्रैल के पहले 15 दिनों में ही उप्र में सौ लोगों की हत्या हो गई।
तीन दिन पहले एटा में पचौरी परिवार के 5 लोगों के शव संदिग्ध परिस्थितियों में पाए गए। कोई नहीं जानता उनके साथ क्या हुआ।

ऐसे जघन्य अपराधों की गहराई से जाँच होनी चाहिए और इस समय किसी को भी इस मामले का राजनीतिकरण नहीं करना चाहिए
ऐसे जघन्य अपराधों की गहराई से जाँच होनी चाहिए और इस समय किसी को भी इस मामले का राजनीतिकरण नहीं करना चाहिए
आज बुलंदशहर में एक मंदिर में सो रहे दो साधुओं को बेरहमी से मौत के घाट उतार दिया गया।.
.ऐसे जघन्य अपराधों की गहराई से जाँच होनी चाहिए और इस समय किसी को भी इस मामले का राजनीतिकरण नहीं करना चाहिए।
निष्पक्ष जाँच करके पूरा सच प्रदेश के समक्ष लाना चाहिए। यह सरकार की ज़िम्मेदारी है। यह रहा प्रियंका गाँधी का ट्वीट


क्या है पूरा मामला जानियें 
यह अमानवीय घटना  अनूपशहर कोतवाली के गांव पगोना की  है।
bulandshahr-do-sadhuon-ki-hatya-ki-sabhi-khabare 
यहां के एक शिव मंदिर में पिछले करीब 10 वर्षों से साधु जगदीश (55 वर्ष) और शेर सिंह (35 वर्ष) रहते थे।
सोमवार देर रात दोनों साधुओं की धारदार हथियार से हत्या कर दी गई।
मंगलवार की सुबह मंदिर पहुंचे लोगों ने साधुओं के शव देखकर पुलिस को सूचना दी।
मौके पर पहुंची पुलिस ने शवों का पंचनामा करके पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया।
इधर सूचना फैलते ही मौके पर दर्जनों लोग जमा हो गए। लोगों ने साधुओं के हत्या का विरोध किया।
लोगों के गुस्से को देखते हुए मौके पर भारी पुलिस फोर्स तैनात की गई।
साधुओं की हत्या की घटना को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संज्ञान में लिया है।
उन्होंने डीएम और एसएसपी को मौके पर जाकर मामले की जांच करके विस्तृत रिपोर्ट देने का आदेश दिया है।
सीएम ने कहा है कि दोषियों की तत्काल गिरफ्तार करके उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए।
एसएसपी संतोष कुमार सिंह ने बताया कि फिलहाल अभी बहुत कुछ नहीं कहा जा सकता है।
दो दिन पहले एक नशेड़ी राजू ने बाबा का चिमटा चुरा लिया था। इस बात को लेकर बाबा ने उसे फटकार लगाई थी।
राजू इस बात को लेकर बाबा से चिढ़ गया था। पुलिस को आशंका है कि सोमवार देर रात वह तलवार लेकर मंदिर में पहुंचा और साधुओं की हत्या कर दी।
bulandshahr-do-sadhuon-ki-hatya-ki-sabhi-khabare 

Show More

shweta sharma

श्वेता शर्मा एक उभरती लेखिका है। पत्रकारिता जगत में कई ब्रैंड्स के साथ बतौर फ्रीलांसर काम किया है। लेकिन अब अपने लेखन में रूचि के चलते समयधारा के साथ जुड़ी हुई है। श्वेता शर्मा मुख्य रूप से मनोरंजन, हेल्थ और जरा हटके से संबंधित लेख लिखती है लेकिन साथ-साथ लेखन में प्रयोगात्मक चुनौतियां का सामना करने के लिए भी तत्पर रहती है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

seven − two =

Back to top button