breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंबिजनेसबिजनेस न्यूजबीमारियां व इलाज
Trending

कोरोना के कारण कल देश में जनता कर्फ्यू: मेट्रों सहित 3,700 ट्रेनें नहीं चलेंगी, गोएयर, इंडिगो की उड़ानें रद्द

पीएम मोदी ने देश से अपील की है कि रविवार, 22 मार्च को जनता कर्फ्यू में लोग सुबह 7 से रात 9 बजे तक अपने घरों में ही रहें

नई दिल्ली. Corona effect Janta curfew 22March-No Metro-train – देश में कोरोनावायरस के बढ़ते असर को देखते हुए पीएम मोदी ने 22 मार्च,रविवार को देशभर में जनता कर्फ्यू (Janta curfew) का एलान किया है। इसी को देखते हुए DMRC ने कहा है कि कल, 22 मार्च को मेट्रो नहीं (No Metro) चलेगी और भारतीय रेलवे बोर्ड ने भी घोषणा कर दी है कि शनिवार मध्यरात्रि से रविवार रात 10 के बीच कोई यात्री ट्रेनें नहीं चलाई (No train) जाएगी।

रविवार को 3,700 ट्रेनें बंद कर दी जाएगी ताकि पीएम द्वारा घोषित जनता कर्फ्यू को प्रभावी बनाया जा सकें और कोरोना के संक्रमण को रोकने में पहल की जा सकें।

इतना ही नहीं, सूत्रों के अनुसार, न्यूज एजेंसी PTI के हवाले से खबर आई है कि मेल और एक्सप्रेस ट्रेनें भी रविवार तड़के ही बंद कर दी जाएंगी और सारी उपनगरीय ट्रेन सेवाओं को भी काफी सीमित कर दिया (Corona effect Janta curfew 22March-No Metro-train) जाएगा।

इतना ही नहीं, जनता कर्फ्यू की मुहिस को सफल बनाने के लिए इंडिगो और गोएयर ने तकरीबन 1 हजार उड़ानें रद्द करने का निर्णय लिया है।

कोरोनावायरस (Coronavirus) के कारण भारतीय रेलवे (Indian Railway) ने कहा है कि, ‘शनिवार और रविवार की मध्यरात्रि 10 बजे से देश के किसी भी स्टेशन से कोई पैसेंजर या एक्सप्रेस ट्रेन नहीं (Corona effect Janta curfew 22March-No Metro-train) चलेगी।’

शुक्रवार को रेलवे बोर्ड ने एक आदेश जारी करते हुए कहा कि मुंबई, दिल्ली, कोलकाता, चेन्नै और सिकंदराबाद में उपनगरीय रेल सेवाओं में भी बड़ी कटौती होगी और उतनी ही ट्रेनें चलाई जाएंगी जितने से जरूरी यात्राएं संभव हो सकें।

रेलवे बोर्ड ने प्रत्येक रेलवे जोन को इस बात का अधिकार दिया है कि वह खुद फैसला लें कि रविवार को कम से कम कितनी ट्रेनें वह अपने जोन में चलाना चाहते है।

रेलवे ने बताया है कि कोरोना के कारण गैरजरूरी यात्राओं पर प्रतिबंध लगाने के विचार से अभी तक  245 ट्रेनें रद्द की जा चुकी है।

ध्यान दें कि गुरुवार को प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोनावायरस पर राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा था कि कोरोना से मिलकर लड़ने के लिए वह जनता से रविवार को ‘जनता कर्फ्यू‘ का पालन करने की अपील करते है।  

गौरतलब है कि जनता कर्फ्यू के कारण 22 मार्च को 3,700 ट्रेनें नहीं चलाई (Corona effect Janta curfew 22March-No Metro-train) जाएंगी, इसका मतलब है कि पहले से की गई बुकिंग भी रद्द मानी जाएगी। हालांकि यात्रियों को पूरा रिफंड भी दिया जाएगा।

 इस समय देशभर में प्रतिदिन 2,400 पैसेंजर ट्रेनें और 1,300 मेल व एक्सप्रेस ट्रेनें चलती हैं।

 Corona effect Janta curfew 22March-No Metro-train

दरअसल कोरोनावायरस (Coronavirus) पर प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्र के नाम संबोधन गुरुवार रात 8 बजे दिया। इ
समें पीएम मोदी ने देश से अपील की है कि रविवार, 22 मार्च से जनता कर्फ्यू (Janta curfew) की मांग करता हूं और जनता से अपील है कि इस दौरान जनता सुबह 7 से रात 9 बजे तक अपने-अपने घरों में ही (Modi’s speech on Coronavirus call public curfew) रहें।

पीएम मोदी ने राष्ट्र के नाम कोरोनावायरस पर अपने संबोधन में कहा कि “मैं प्रत्येक देशवासी से खुद के लिए जनता कर्फ्यू की मांग करता हूं।

जनता के लिए, जनता पर, जनता द्वारा लगाया गया कर्फ्यू ताकि हम सभी कोरोनावायरस के संक्रमण से बच सकें। हमारा यह प्रयास देशहित में आत्मसंयम का मजबूत संकल्प का पालन होगा। यह संकल्प देश को आने वाली चुनौतियों से लड़ने के लिए तैयार करेगा।”

मोदी ने  कोरोनावायरस को गंभीर स्थिति बताते हुए आगे कहा कि “वह चाहते है कि रविवार 22 मार्च के दिन देश की जनता पुलिस, स्वास्थ्यकर्मियों, फायरमैन, डॉक्टर्स, नर्स, एयरपोर्ट कर्मियों, मीडियाकर्मियों और ऑटो रिक्शावालों के लिए रविवार शाम पांच बजे पांच मिनट तक आभार व्यक्त (Modi’s speech on Coronavirus call public curfew)करें। चूंकि यह लोग दिन रात अपनी जान खतरे में डालकर मानवता की सेवा कर रहे है।

इन्हें आभार व्यक्त करने के लिए जनता ताली, घंटी या थालियां बजाकर रविवार को शाम 5 बजे, पांच मिनट के लिए ऐसे लोगों का हौंसला बढ़ाएं। राज्य सरकारें जनता कर्फ्यू का पालन (Modi’s speech on Coronavirus call public curfew) कर ना सुनिश्चित करें।”

उन्होंने कहा कि सभी देशवासी रूटीन चेकअप के लिए अस्पताल जाने की आदत से जितना हो सकें, बचें। अगर बहुत जरूरी हो तो अपनी पहचान के डॉक्टर से फोन पर ही आवश्यक सलाह ले लें। 

मोदी ने कहा की कोरोनावायरस से हम सभी को मिलकर लड़ना है। यह एक वैश्विक महामारी है जिसका अर्थव्यवस्था पर भी असर पड़ रहा है।

सरकार ने COVID-19 इकोनॉमिक टास्क फोर्स (economic task force) का गठन करने का निर्णय लिया है। यह टास्क फोर्स यह सुनिश्चित करेगी की आर्थिक मुश्किलों को नियंत्रित करने के लिए जितने भी प्रभावी कदम है, उन्हें उठाया जाए।

कोरोनावायरस (Coronavirus) का सबसे ज्यादा आर्थिक संकट मध्यमवर्ग, निम्ममध्यमवर्ग और निम्न वर्ग पर पड़ा है। उच्च वर्ग से आग्राह है कि कोरोनावायरस के चलते जो लोग ऑफिस नहीं आ पा रहे है, उनका वेतन न काटा जाएं। 

मैं देशवासियों को आश्वस्त करता हूं कि दूध,दवाईयां और अन्य खाद्द वस्तुओं की कमी नहीं है, इनका संग्रह न करें। सामान जमा करने की होड़ न लगाएं।

60-65 आयुवर्ग के लोगों से विशेष आग्राह है कि वे घर से बाहर न निकलें। कोरोनावायरस पूरी मानवजाति पर संकट है।

पीएम मोदी (PM Modi) ने नवरात्रि के उपल्क्ष्य में संयम और संकल्प पर जोर दिया और लोगों से आग्राह किया कि जहां तक हो सकें भीड़ में जाने से बचें और जितना संभव हो सभी देशवासी घरों में ही रहें और सावधानी बरतें।

हमें कोरोनावायरस सरीखी वैश्विक महामारी से मिलकर लड़ना है।

 
 
 
 Corona effect Janta curfew 22March-No Metro-train
 
(इनपुट एजेंसी से भी)

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

two × 1 =

Back to top button