breaking_newsHome sliderदेशराजनीति

मोदी सरकार ने अर्थव्यवस्था को चौपट कर दिया : मनमोहन सिंह

नई दिल्ली, 18 मार्च : मोदी सरकार ने अर्थव्यवस्था को चौपट कर दिया,बड़े-बड़े वादे किए लेकिन पूरे नहीं किए : मनमोहन सिंह

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने रविवार को नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली केंद्र सरकार पर भारत की अर्थव्यवस्था की हालत खराब करने का आरोप लगाया और कहा कि सरकार ने जम्मू एवं कश्मीर विवाद को लेकर कुप्रबंधन का परिचय दिया है। पूर्व प्रधानमंत्री ने सरकार के ढाई युद्ध लड़ने को तैयार रहने के बयान को खोखला वादा करार दिया। उन्होंने किसानों की आय दोगुनी करने के वादे को जुमला करार दिया। मनमोहन सिंह ने कहा कि मोदी सरकार ने अर्थव्यवस्था को चौपट कर दिया है।

उन्होंने कहा, “भाजपा सरकार ने अर्थव्यवस्था को चौपट कर दिया है। जब मोदीजी (2014 में) चुनाव प्रचार कर रहे थे, तब उन्होंेने बड़े-बड़े वादे किए थे, लेकिन वे वादे पूरे नहीं किए गए।”

पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा, “भाजपा ढाई युद्ध लड़ने की बात करती है लेकिन जब पर्याप्त रक्षा खर्च प्रदान करने की बात आती है तो यह अब तक खोखले वादे ही प्रतीत होते हैं। “

उन्होंने बताया, “आज हमारे देश का रक्षा व्यय सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का 1.6 फीसदी है जो रक्षा संबंधी हमारी चुनौतियों को पूरा करने की दृष्टि से अपर्याप्त है।”

कांग्रेस नेता ने नोटबंदी और वस्तु एवं सेवा कर लागू करने के तरीके की आलोचना की और कहा कि भाजपा ने हर साल दो करोड़ रोजगार पैदा करने का वादा किया था।

उन्होंने कहा, “हमने तो दो लाख नौकरियां भी नहीं देखी। इसके बजाय नोटबंदी के संबंध में बगैर सोचे-विचारे लिए गए फैसले और जल्दबाजी में जीएसटी लागू करने के फैसले से तमात रोजगार समाप्त हो गए।”

मनमोहन ने कहा, “मोदीजी ने खुद कहा कि हम छह सालों में किसानों की आय दोगुनी कर देंगे। अब अगर आपको छह सालों में किसानों की आय दोगुनी करनी है, तो आपको न्यूनतम 12 प्रतिशत विकास दर की जरूरत है और यह नामुमकिन है। इसलिए उनका यह बयान भी एक ‘जुमला’ है।”

सिंह ने यहां कांग्रेस के अधिवेशन को संबोधित करते हुए कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की अगुवाई वाली सरकार ने छोटे और मझोले उद्योग के लिए समस्या खड़ी कर दी और अनौपचारिक क्षेत्र के लिए भी समस्या पैदा किया है।

तीन दिवसीय अधिवेशन का समापन रविवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के संबोधन के साथ हुआ।

 

–आईएएनएस

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

14 − one =

Back to top button