breaking_newsअन्य ताजा खबरेंअपराधअपराधदेश

दुखद! यूपी के हाथरस में गैंगरेप पीड़िता की दिल्ली के अस्पताल में मौत,परिजन धरने पर

पीड़ित महिला की हालत इतनी बुरी थी कि उसकी रीढ़ की हड्डी और शरीर में कई जगह फ्रैक्चर आएं थे। इतना ही नहीं,पीड़िता की जीभ भी काट दी गई थी...

UP Hathras gangrape victim died in Delhi hospital

नई दिल्ली: मानवता और इंसानियत को शर्मसार करने वाली घटना उत्तर प्रदेश के हाथरस में दो सप्ताह पहले हुई जब एक 20वर्षीय दलित युवती का गैंगरेप (UP Hathras gangrape) करके उसे बेहरमी से पीटा गया।

आखिरकार मंगलवार को यूपी के हाथरस (Hathras) में गैंगरेप की शिकार इस पीड़ित महिला की मंगलवार को दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में दर्दनाक मौत हो गई।

UP Hathras gangrape victim died in Delhi hospital

पीड़ित महिला के साथ न केवल हैवानियत की गई बल्कि उसे इतनी पशुआत्मक तरीके से पीटा गया था कि उसका इलाज दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में ICU में इलाज चल रहा था।

पीड़िता की मौत के बाद परिजन अस्पताल के बाहर इंसाफ की गुहार लगाते हुए धरने पर बैठे है।

रेप का आरोप गांव के ही चार-पाच लोगों पर है। कथित रूप से दो हफ्ते पहले उसके गांव के ही चार-पांच लोगों ने न केवल उसका सामूहिक बलात्कार किया था बल्कि उसे यातनाएं देकर पीटा गया था।

पीड़ित महिला की हालत इतनी बुरी थी कि उसकी रीढ़ की हड्डी और शरीर में कई जगह फ्रैक्चर आएं थे। इतना ही नहीं,पीड़िता की जीभ भी काट दी गई थी।

पीड़िता के पिता और भाई सफरदजंग अस्पताल के बाहर धरने पर बैठ गए। उनका धरना समाप्त करने के लिए पुलिसवालों को भावुक अपील तक करनी पड़ी।

गैंगरेप पीड़िता का परिवार और उनके कुछ समर्थक अस्पताल के बाहर डेरा डाले हुए हैं और मांग कर रहे हैं कि उन्हें बताया जाए कि पीड़िता का शव कहां है। 

पीड़ित परिवार का दावा है कि उन्हें हाथरस लौटने पर मजबूर किया जा रहा है क्योंकि अधिकारी गुपचुप तरीके से पीड़िता के शव को ठिकाने लगाने की कोशिश कर रहे हैं।

इससे पूर्व पुलिसवालों ने पीड़िता के पिता को गाड़ी में बैठा लिया था लेकिन उसके भाई ने जाने से इनकार कर दिया और विरोध जारी रखा।

 बाद में पिता भी कार से बाहर आ गए।

UP Hathras gangrape victim died in Delhi hospital

गौरतलब है कि परिवार ने धरने पर से तब तक हटने से मना कर दिया जब तक कि उन्हें पीड़िता के शव का पता नहीं बता दिया जाता और यह आश्वासन नहीं मिल जाता कि उन्हें न्याय मिलेगा और इस जघन्य अपराध के चारों आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा दी जाएगी।

पुलिस का कहना है कि कोरोना की वजह से पिता और पुत्र द्वारा शुरू किए गए प्रदर्शन को नियंत्रित करना अब मुश्क‍िल हो गया था।

साथ ही पुलिस के अनुसार प्रदर्शनकारी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं कर रहे और कईयों ने मास्क भी नहीं पहने।

मामले में सभी चार आरोपी जेल में हैं। पीड़िता दलित जाति से थी, वहीं सभी आरोपी कथित रूप से उच्च जाति से संबंध रखते हैं।

 

कब हुई पूरी वारदातUP Hathras gangrape story

up-hathras-gangrape-accuse--victim-died-in-delhi-hospital_optimized

20 साल की पीड़िता पर 14 सितंबर को राजधानी दिल्ली से लगभग 200 किमी दूर स्थित हाथरस के एक गांव में हमला किया गया था।

आरोपी उसे उसके दुपट्टे से खींचकर खेतों में लेकर गए थे।वो अपने परिवार के साथ घास काट रही थी।

पीड़िता के परिवार का आरोप है कि यूपी पुलिस ने उनकी शिकायत पर पहले कोई एक्शन नहीं लिया, लेकिन मामले पर गुस्सा बढ़ने लगा, जिसके बाद पुलिस हरकत में आई।

पीड़िता के भाई ने एक न्यूज चैनल को बताया ‘मेरी मां, बहन और बड़ा भाई एक खेत में घास काटने गए थे।

मेरा भाई घास का बड़ा बंडल लेकर घर चला गया और मेरी मां और बहन घास काटते रहे। दोनों एक-दूसरे से थोड़ी दूरी पर थे।

तभी चार-पांच लोग पीछे से आए और मेरी बहन का दुपट्टा उसके गले में डालकर उसे घसीटकर बाजरा के खेतों में ले गए।’

उसने आगे बताया, ‘मेरी मां को महसूस हुआ कि बहन गायब है। तब उन्होंने उसे ढूंढना शुरू किया, जिसके बाद मेरी बहन उन्हें बेहोश मिली।

उन्होंने उसका रेप किया था। पुलिस ने हमारी शुरुआत में कोई मदद नहीं की। कोई एक्शन नहीं लिया। उन्होंने चार-पांच दिनों बाद जाकर एक्शन लिया।’

हालांकि, यूपी पुलिस ने इन आरोपों को खारिज किया है। यूपी पुलिस की ओर से हाथरस के पुलिस अफसर प्रकाश कुमार का एक वीडियो जारी किया गया है, जिसमें उन्होंने कहा है कि ‘हमने एक आरोपी को जल्दी ही गिरफ्तार कर लिया था और उससे बाकी तीन के नाम निकलवाए, जिसके बाद उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया गया।’

 

 

UP Hathras gangrape victim died in Delhi hospital

(इनपुट एजेंसी से भी)

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

5 − two =

Back to top button