breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंबिजनेस न्यूजराज्यों की खबरें

गुमशुदा CCD के मालिक का शव मिला, जानियें उनका पूरा सफ़र

Body-of-VG-Siddhartha-Founder-of-Cafe-Coffee-Day-recovered from Netravati River

कर्नाटक, 31 जुलाई (समयधारा) : मशहूर कॉफ़ी चैन के मालिक वीजी सिद्धार्थ का शव नेत्रावती नदी में मिल गया l

वीजी सिद्धार्थ सोमवार की शाम से लापता थे। सिद्धार्थ कर्नाटक के मंगलुरु स्थित नेत्रावती नदी के पास से,

सोमवार शाम से गायब बताए जा रहे थे। पुलिस उनकी तलाश में जुटी थी।

गौरतलब है कि वीजी सिद्धार्थ कैफे कॉफी डे के संस्थापक हैं। सिद्धार्थ कर्नाटक के पूर्व मुख्‍यमुंत्री एसएम कृष्‍णा के दामाद भी हैं।

ये 1983 में J M Financial में ट्रेनी बने और शेयर ट्रेडर के तौर पर करियर की शुरुआत की।

इन्होंने पिता से मिले 7.5 लाख रुपये से अपने कारोबार की शुरुआत की।

वीजी सिद्धार्थ ने Mindtree में हाल में 20.41 फीसदी हिस्सा बेचा था। Sivan Securities पर खासा कर्ज था।

इन पर इनकम टैक्स की 300 करोड़ की देनदारी थी। CCD को Coca Cola को बेचने की भी खबरें थीं।

Body-of-VG-Siddhartha-Founder-of-Cafe-Coffee-Day-recovered from Netravati River

वी जी सिद्धार्थ की एक कथित चिट्ठी ने इस पूरे मामले में एक PE इन्वेस्टर और इनकम टैक्स को सवालों के घेरे में ला दिया है।

हालांकि इनकम टैक्स विभाग ने सिद्धार्थ की चिट्टी में लगाए सभी आरोपों से पल्ला झाड़ा है।

साथ ही चिट्ठी में दस्तखत पर भी सवाल उठाए हैं। उनका कहना है कि उनके रिकॉर्ड में जो दस्तखत हैं वो चिट्ठी से मेल नहीं खाते।

Body-of-VG-Siddhartha-Founder-of-Cafe-Coffee-Day-recovered from Netravati River, गुमशुदा CCD के मालिक का शव मिला, जानियें उनका पूरा सफ़र
गुमशुदा CCD के मालिक का शव मिला, जानियें उनका पूरा सफ़र

इससे पहले, 

कल कर्नाटक में राजनीतिक संकट समाप्त होने के बाद एक बार फिर यह राज्य चर्चा में आ गया है l

CCD  के फाउंडर सिद्धार्थ की गुमशुद्की अब एक राज में तब्दील होती जा रही है l अभी तक उनके बारें में कुछ भी नहीं पता चला है l

इस समय,  नेत्रावती नदी में उनकी तलाश जोरों-शोरों से शुरू है l

कहा जा रहा है की आर्थिक तंगी और कंपनी के काफी देनदारी होने से वह काफी तनाव में थे l

58 साल के बिजनेसमैन वीजी सिद्धार्थ एशिया के सबसे बड़े कॉफी एस्टेट के मालिक हैं।

वो कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री और पूर्व विदेश मंत्री एसएम कृष्णा के दामाद हैं l 

उनकी कृष्णा की बेटी मालविका से शादी हुई है और दो बेटे हैं।

गौरतलब  है कि CCD के फाउंडर वीजी सिद्धार्थ सोमवार की शाम से लापता चल रहे हैं।

आखिरी बार उन्हें बेंगलुरू से 375 किलोमीटर दूर मंगलुरु की नेत्रावती नदी के पास देखा गया।

वो अपने ड्राइवर के साथ गाड़ी में थे और फोन पर बात कर रहे थे। यहां गाड़ी रुकवाकर वो उतर गए और एक घंटे तक वापस नहीं आए।

ड्राइवर को जब वो ढूंढने पर नहीं मिले, तब उसने परिवार वालों को सूचना दी।

सीसीडी (Cafe Coffee Day) के फाउंडर और कर्नाटक के पूर्व सीएम एसएम कृष्णा के दामाद, 

वीजी सिद्धार्थ के लापता होने के बाद एक पत्र सामने आया है।

Body-of-VG-Siddhartha-Founder-of-Cafe-Coffee-Day-recovered from Netravati River

वीजी सिद्धार्थ ने लापता होने से दो दिन पहले कंपनी के बोर्ड को एक बहुत ही निराशा से भरी चिट्ठी लिखी थी।

37 सालों तक कड़ी मेहनत से अपनी कंपनियों और सहायक कंपनियों में प्रत्यक्ष रूप से 30,000 नौकरियां और टेक्नोलॉजी कंपनी में,

जिसकी शुरुआत से ही मैं बड़ा शेयरहोल्डर रहा हूं, उसमें 20,000 नौकरियां पैदा करने के बावजूद

मैं एक सही मुनाफे वाला बिजनेस मॉडल खड़ा करने में नाकाम रहा हूं।

Body-of-VG-Siddhartha-Founder-of-Cafe-Coffee-Day-recovered from Netravati River

मैंने अपने काम को सबकुछ दे दिया। मैं उन सभी लोगों को निराश किया है, जिन्होंने मुझमें विश्वास किया।

मैं काफी लंबे वक्त से लड़ रहा था लेकिन आज मैं हार मान रहा हूं।

प्राइवेट इक्विटी पार्टनर्स में से एक की ओर से शेयर बायबैक करने के लिए मुझपर काफी दबाव पड़ रहा है,

जबकि ये ट्रांजैक्शन मैं एक दोस्त से बड़ी रकम उधार लेकर छह महीने पहले ही पूरा कर चुका हूं।

दूसरे देनदारों की ओर से पड़ रहे दबाव के चलते भी मैं परिस्थितियों के आगे घुटने टेक रहा हूं।

इनकम टैक्स के पूर्व डीजी की ओर से भी मैं कई तरह के शोषण झेल रहा था। दो मौकों पर हमारे शेयर जब्त करने की कोशिश,

माइंडट्री के साथ होने वाली डील को ब्लॉक करने की कोशिश और फिर हमारी ओर से रिवाइज्ड रिटर्न फाइल कर दिए जाने के बावजूद

CCD शेयरों को लेने की कोशिश की जा रही थी। ये बड़ी नाइंसाफी थी और इसे गंभीर लिक्विडिटी क्रंच पैदा हुआ।

मैं आप सभी को मजबूत रहने और इस बिजनेस को नए मैनेजमेंट के साथ चलाने का आग्रह करता हूं।

सारी गलतियों को मैं अकेला जिम्मेदार हूं। सभी फाइनेंशियल ट्रांजैक्शन्स मेरी जिम्मेदारी हैं।

मेरी टीम, ऑडिटर्स और सीनियर मैनेजमेंट को मेरे किसी भी ट्रांजैक्शन के बारे में नहीं पता।

कानून को बस मुझे जिम्मेदार ठहराना चाहिए क्योंकि मैंने ये सारी जानकारियां किसी से भी नहीं,

यहां तक कि अपने परिवार से भी साझा नहीं की हैं।

Body-of-VG-Siddhartha-Founder-of-Cafe-Coffee-Day-recovered from Netravati River

मेरा इरादा कभी किसी को धोखा देना नहीं था। मैं एक आंत्रप्रेन्योर के तौर पर फेल हो चुका हूं। मैं इसे स्वीकार कर रहा हूं।

आशा करता हूं कि आप सब किसी दिन ये सबकुछ समझेंगे और मुझे माफ कर देंगे।

मैंने हमारी संपत्तियों की एक लिस्ट बनाई है और उसमें सभी संपत्तियों की कीमत दर्ज है।

हमारी संपत्तियों की कीमत हमारी देनदारियों से ज्यादा है, ऐसे में हम सभी का कर्ज चुका सकतें हैं।

आपका,

VG सिद्धार्थ.

(इनपुट एजेंसी से)

 

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: