breaking_newsअन्य ताजा खबरेंअपराधदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंबिजनेसबिजनेस न्यूज
Trending

ED ने गुजरात के एक और व्यापारी को भगोड़ा घोषित करने की मांग की

गुजरात के व्यापारी संदेशरा बंधुओं को भगोड़ा घोषित किया जाए - ED

नई दिल्ली, 27 अक्टूबर :  

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शुक्रवार को अदालत से गुजारिश की कि गुजरात के व्यापारी संदेशरा बंधुओं को भगोड़ा घोषित किया जाए

और उनकी भारत और विदेशों में स्थित संपत्तियों को जब्त करने की अनुमति दिया जाए,

क्योंकि दोनों ने भारतीय बैंकों की देशी-विदेशी शाखाओं से साल 2004-12 के दौरान

अपनी फार्मास्यूटिकल कंपनी के माध्यम से 8,100 करोड़ रुपये का कर्ज लेकर गबन किया है। 

एजेंसी के एक अधिकारी ने बताया कि चेतन जयंतीलाल संदेसरा

और नितिन जयंतीलाल संदेसरा के अलावा ईडी ने अदालत से इनकी रिश्तेदार दीप्ति संदेसरा

और उसके सहयोगी हितेष पटेल को भी भगोड़ा घोषित करने की मांग की है। 

अधिकारी ने कहा, “हमने अदालत से स्टर्लिग बॉयोटेक समूह के प्रवर्तकों को भी भगोड़ा घोषित करने की मांग की है

और उनकी भारत और विदेशों में स्थित संपत्तियों को आर्थिक भगोड़ा अपराध अधिनियम की

धारा 4 के तहत जब्त करने की कार्रवाई करने के लिए अनुमति देने की मांग की है।”

ईडी ने कहा कि संदेसरा बंधुओं और दीप्ति के नाइजीरिया भागने की सूचना मिली है,

जबकि हितेष को अमेरिका में देखा गया है। सभी चारों आरोपी स्टर्लिग समूह के प्रवर्तक हैं

और कानूनी कार्रवाई से बचने के लिए देश से फरार हो गए हैं। 

एजेंसी ने कहा कि आरोपियों ने विभिन्न देशों में 100 से ज्यादा कंपनियां बनाई हैं,

जिसमें संयुक्त अरब अमीरात, अमेरिका, ब्रिटेन, ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड, मॉरिशस,

बारबाडोस और नाइजीरिया समेत अन्य देश शामिल हैं।

इन भगोड़े आरोपियों की विदेश स्थित संपत्तियों में रिचमंड ओवरसीज, सनशाइन ट्रस्ट कॉर्प,

सीपको बीवीआई, सीपको नाइजीरिया और अटलांटिक ब्लू वॉटर सर्विसिस प्रा. लि. शामिल हैं। 

अधिकारी ने बताया, “जांच से पता चला है कि संदेसरा की नाइजीरिया में तेल का कारोबार समेत कई संपत्तियां हैं।

इसके अलावा इनकी ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड में अचल संपत्ति भी है।

इन सभी संपत्तियों को आर्थिक भगोड़ा अपराध अधिनियम के तहत जब्त करने की मांग की गई है।”

–आईएएनएस

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: