breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंबिजनेसबिजनेस न्यूज
Trending

kingFisher-JetAirways के बाद ‘पवनहंस’ की बारी..? क्या आसमान पर आफत है जारी..!!

Kingfisher-Jet-Airways-now-Pawan-Hans-in-Crisis-No-Salary-to-Staff-for-April

नई दिल्ली, 28 अप्रैल (समयधारा) : किंगफिशर – जेटएयरवेज के बंद होने के बाद अब एयरलाइन इंडस्ट्रीज में एक और संकट के बादल मंडरा रहे है l

पवन हंस हेलीकाप्टर कंपनी संकट में है l यह सरकारी कंपनी घोर संकट में चल रही है l

कंपनी पर 230 करोड़ रुपये के अलावा और भी कई देनदारियां बताई जा रही है l

2018-19 में कंपनी को 89 करोड़ का घाटा हुआ है l कंपनी के पास अपने कर्मचारियों को वेतन देने के लिए पैसे नहीं है l

कंपनी की माली हालात काफी खराब बतायी जा रही है l कर्मचारियों को वेतन न मिलने से  कर्मचारियों को

अपने बच्चों के स्कूल-कोचिंग की फीस और ईएमआई की चिंता सताने लगी है।

गौरतलब है कि सरकार ने पिछले साल पवनहंस को बेचने की कोशिश की थी।

वही पवनहंस के कर्मचारियों का कहना है कि इसमें हमारी क्या गलती है। कंपनी की पॉलिसी गलत रहीं।

kingFisher-JetAirways के बाद 'पवनहंस' की बारी..? क्या आसमान पर आफत है जारी..!!
kingFisher-JetAirways के बाद ‘पवनहंस’ की बारी..? क्या आसमान पर आफत है जारी..!!

अब जब कंपनी डूबने लगी है तो हमारा क्या होगा? हमें सैलरी कौन देगा?

समस्या और अधिक बढ़ी तो कर्मचारी कोर्ट जाने के बारे में भी सोच रहे हैं। 

गौरतलब है की आसमान में आफत की बारिश कम होने का नाम नहीं ले रही है l

पहले किंगफिशर के विजय माल्या के भाग जाने के बाद बंद हो गयी उसके बाद जेट एयरवेज भी पिछले दिनों बंद हो गयी

और अब पवन हंस हेलीकाप्टर के बंद होने से आसमान में संकट और गहरा गया है l

kingFisher-JetAirways के बाद 'पवनहंस' की बारी..? क्या आसमान पर आफत है जारी..!!
kingFisher-JetAirways के बाद ‘पवनहंस’ की बारी..? क्या आसमान पर आफत है जारी..!!

धीरे-धीरे यह संकट और गहराता जा रहा है l सरकारी नीतियों व कंपनी की गलत फैसलों से बड़ी-बड़ी हवाई कंपनियों की हवा निकल रही है l

उन्हें अपने खर्चों से उबरने का सही तरिका नहीं मिल रहा है l

Kingfisher-Jet-Airways-now-Pawan-Hans-in-Crisis-No-Salary-to-Staff-for-April

जिस वजह से कंपनीया हानि में चल रही है इन्हें जबरदस्त घाटा हो रहा है

जेट एयरवेज ने डूबने से पहले भारतीय हवाई कम्पनी सहारा को भी खरीदा था l 

अब इस नए संकट से सरकार कैसे निपटेगी यह तो आने वाला वक्त ही बताएगा l 

(इनपुट एजेंसी से)

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: