breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंबिजनेसमनी मंत्रा
Trending

Post Office की यह योजनायें आपकी छोटी सेविंग को बना देगी कुबेर का खजाना

पोस्ट ऑफिस एक फायदे अनेक, बढायें धन जगा रहे विश्वास

india-post-office-small-saving-scheme-postoffice-services

नई दिल्ली, 12 जून (समयधारा) : सेविंग कौन नहीं करना चाहता  और सेविंग से लोग फायदा भी ज्यादा चाहते है l 

प्राइवेट बैंकों या योजनाओं में पैसा डूब जाने का खतरा हमेशा बना रहता है l

शेयर मार्केट में लोग अपना पैसा लगना नहीं चाहते l तो अब बात आती है कि पैसा कहा लगाया जाएँ खासकर छोटी-छोटी कमाई l

जहा पैसा सुरक्षित भी रहे और हमें रिटर्न भी अच्छा मिले l तो दोस्तों पोस्ट ऑफिस से अच्छा कोई दूसरा विकल्प नहीं है l

आज हम आपको पोस्ट ऑफिस की इन स्माल सेविंग स्कीम के बारे में बताएँगे l  

देश में पोस्टल सर्विस देने वाली India Post, Small Saving Schemes भी चलाती है,

जो काफी पॉपुलर हैं। खासकर छोटे शहरों में इन सेविंग स्कीम्स को ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है।

इंडिया पोस्ट 10 तरह के स्मॉल सेविंग स्कीम्स चलाता है-

india-post-office-small-saving-scheme-postoffice-services

ऊपर बतायीं गयी किसी भी योजना में आप निवेश कर सकते है l या आप यहाँ क्लिक (पोस्ट ऑफिस एक फायदे अनेक)  करके और अधिक जानकारी ले सकते है l 

सबसे बड़ी बात, इन पोस्ट ऑफिस में सरकार का दखल होता है l इसलिए हमारे पैसें सुरक्षित रहते है

और पोस्ट ऑफिस की सेविंग स्कीम्स पर सरकार की ओर से तय किए गए इंटरेस्ट रेट्स लगते हैं।

पोस्ट ऑफिस की स्मॉल सेविंग्स स्कीम्स के बारे में अहम जानकारियां ये रहीं-

अकाउंट खोलने के लिए मिनिमम अमाउंट

  • सेविंग्स अकाउंट (चेक अकाउंट)-          20 रुपए
  •  सेविंग्स अकाउंट (नॉन चेक अकाउंट)-  20 रुपए
  •  मंथली इनकम स्कीम-                      1500 रुपए
  •  फिक्स्ड डिपॉजिट अकाउंट-                200 रुपए
  •  पब्लिक प्रॉविडेंट फंड-                        500 रुपए
  •  सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम-     1000 रुपए

india-post-office-small-saving-scheme-postoffice-services

पोस्ट ऑफिस अकाउंट पर लगने वाले इंटरेस्ट रेट

  •   सेविंग्स डिपॉजिट- 4 फीसदी सालाना
  •  1- ईयर टाइम डिपॉजिट-  7 फीसदी तिमाही
  •  2- ईयर टाइम डिपॉजिट-  7 फीसदी तिमाही
  •  3- ईयर टाइम डिपॉजिट-  7 फीसदी तिमाही
  •  5- ईयर टाइम डिपॉजिट-  7.80 फीसदी तिमाही
  •  5- ईयर रिकरिंग डिपॉजिट- 7.30 फीसदी तिमाही
  • 5 ईयर सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम- 8.70 फीसदी क्वार्टरली और पेड
  •  5- ईयर मंथली इनकम स्कीम- 7.70 फीसदी सालाना
  •  5- ईयर नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट- 8 फीसदी सालाना
  •  पब्लिक प्रॉविडेंट फंड स्कीम- 8 फीसदी सालाना
  •  किसान विकास पात्र-  7.7 फीसदी (12 महीनों में मैच्योरिटी) सालाना
  •  सुकन्या समृद्धि अकाउंट स्कीम- 8.50 फीसदी सालाना

समय से पहले खाता बंद करने के नियम – प्रीमैच्योर क्लोजर

  • सेविंग्स अकाउंट कभी भी बंद कराया जा सकता है।
  • रिकरिंग डिपॉजिट के लिए तीन सालों के बाद ही प्रीमैच्योर क्लोजर की अनुमति होती है (बस सेविंग्स अकाउंट रेट)।
  •  टाइम डिपॉजिट- छह महीनों के बाद बंद कराया जा सकता है।
  • मंथली इनकम स्कीम- एक साल बंद कराया जा सकता है।
  • सीनियर सिटीजंस सेविंग्स स्कीम- एक साल के बाद बंद कराया जा सकता है।

india-post-office-small-saving-scheme-postoffice-services

इनमे सबसे बड़ी बात होती है इनकम टैक्स से छूट की l जीहाँ पोस्ट ऑफिस में  सेविंग से अनगिनत फायदे भी होते है l जिनमे सबसे बड़ा फायदा है  इनकम टैक्स बेनेफिट्स का 

पोस्ट ऑफिस की कुछ सेविंग स्कीम्स पर इनकम टैक्स बेनेफिट्स भी मिलते हैं। ये लाभ टाइम डिपॉजिट, सीनियर सिटीजन सेविंग्स स्कीम, पब्लिक प्रॉविडेंट फंड और नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट्स पर मिलती हैं। ये स्कीम होल्डर्स एक साल में इनकम टैक्स एक्ट के सेक्शन 80C के तहत टैक्सेबल इनकम पर 1.5 लाख की छूट पा सकते हैं।

इतना ही नहीं पोस्ट ऑफिस में एक जनसुरक्षा स्कीम(Jansuraksha ​Scheme) भी है  जिसमे प्रधानमंत्री की फायदेमंद योजनायें भी है l 

आप नीचे लिखे लिंक को क्लिक करके पोस्ट ऑफिस स्कीम की सभी जानकारी पा सकते है l 

पोस्ट ऑफिस एक फायदे अनेक

india-post-office-small-saving-scheme-postoffice-services

Tags

Reena Arya

रीना आर्य एक ज्वलंत और साहसी पत्रकार व लेखिका है। वे समयधारा.कॉम की एडिटर-इन-चीफ और फाउंडर भी है। लेखन के प्रति अपने जुनून की बदौलत रीना आर्य ने न केवल बड़े-बड़े ब्रांड्स में अपने काम के बल पर अपनी पहचान बनाई बल्कि अपनी काबलियत को प्रूव करते हुए पत्रकारिता के पांच से छह साल के सफर में ही अपने बल खुद एक नए ब्रैंड www.samaydhara.com की नींव रखी।रीना आर्य हर मुद्दे पर अपनी बेबाक राय रखने पर विश्वास करती है और अपने लेखन को लगभग हर विधा में आजमा चुकी है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error: