breaking_news Home slider बिजनेस मार्केट

पिछले सप्ताह शेयर मार्केट में तेजी का मुख्य कारण रहा जीएसटी

last week india stock market decline due to negative global signal
last week india Stock market, market declines due to negative global signals, पिछले सप्ताह मार्केट, मार्केट न्यूज़, इंडिया स्टॉक मार्केट, शेयर बाजार की चाल, मार्केट का हाल, STOCK MARKET NEWS AND UPDATES IN HINDI, stock market latest news, share market, share bazaar, share bajar, market last week, india stock market trends,trading, sensex, nifty,nifty future,NSE,BSE,Nifty-50,

नई दिल्ली, 8 जुलाई : देश में एक जुलाई से जीएसटी (वस्तु एवं सेवा कर) लागू हो गया है और बीते सप्ताह शेयर बाजारों में इसके असर से तेजी देखने को मिली। साप्ताहिक आधार पर सेंसेक्स 439.02 अंकों या 1.41 फीसदी की तेजी के साथ 31,360.63 पर बंद हुआ तथा निफ्टी 144.90 अंकों या 1.52 फीसदी की तेजी के साथ 9,665.80 पर बंद हुआ। बीएसई के मिडकैप में 2.03 फीसदी तथा स्मॉलकैप में 2.72 फीसदी की तेजी आई। सोमवार को सेंसेक्स 300.01 अंकों या 0.97 फीसदी की तेजी के साथ 31,221.62 पर बंद हुआ। मंगलवार को सेंसेक्स में गिरावट आई 11.83 अंकों या 0.04 फीसदी की गिरावट के साथ 31,209.79 पर बंद हुआ। बुधवार को एक बार फिर सेंसेक्स में तेजी आई और यह 35.77 अंकों या 0.11 फीसदी की तेजी के साथ 31,245.56 पर बंद हुआ। गुरुवार के सेंसेक्स 123.78 अंकों या 0.4 फीसदी की तेजी के साथ 31,369.34 पर बंद हुआ। कारोबारी सप्ताह के अंतिम दिन शुक्रवार को सेंसेक्स 8.71 अंकों या 0.03 फीसदी की गिरावट के साथ 31,360.63 पर बंद हुआ। 

सेंसेक्स के तेजी वाले शेयरों में प्रमुख रहे : महिंद्रा एंड महिंद्रा (2.04 फीसदी), मारुति सुजुकी (2.93 फीसदी), टाटा मोटर्स (0.99 फीसदी), इंफोसिस (0.04 फीसदी), ल्युपिन (5.31 फीसदी), अडाणी पोर्ट्स (2.32 फीसदी), कोल इंडिया (2.81 फीसदी), आईटीसी (3.17 फीसदी), एनटीपीसी (0.41 फीसदी) और एलएंडटी (1.06 फीसदी)।

सेंसेक्स के गिरावट वाले शेयरों में प्रमुख रहे : आईसीआईसीआई (0.1 फीसदी), बजाज ऑटो (2.96 फीसदी), हीरो मोटोकॉर्प (0.45 फीसदी) और विप्रो (0.83 फीसदी)। 

व्यापक आर्थिक आंकड़ों में, मार्किट इकॉनमिक्स ने सोमवार को कहा कि क्रय प्रबंधक सूचकांक (पीएमआई) ने आंकड़ों ने यह पता चला है कि देश के विनिर्माण क्षेत्र में जून में मंदी आई है। इसका मुख्य कारण नए आडर्स में गिरावट तथा उत्पादन की वृद्धि दर में आई कमी है। जून में यह 51.6 पर रही, जबकि मई में यह चार महीने के सबसे निम्न स्तर 50.9 पर थी।

अमेरिका के वाणिज्य मंत्रालय के मुताबिक, वैश्विक मोर्चे पर, अमेरिका का व्यापार घाटा मई में 2.3 फीसदी रहा। यह घाटा मई में 46.5 अरब डॉलर रहा, जबकि अप्रैल में यह 47.6 अरब डॉलर था। 

चीन में जून में फैक्ट्ररी गतिविधियों में तेजी देखी गई। कैक्सिन चाइना मैनुफैक्चरिंग पर्चेजिंग मैनेजर्स सूचकांक जून में 50.4 पर रहा, जबकि मई में यह 49.6 पर था। 

–आईएएनएस

About the author

समय धारा

Add Comment

Click here to post a comment