breaking_newsएजुकेशनएजुकेशन न्यूजदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंराजनीति

JEE-NEET Exams2020: शिक्षा मंत्री ने कहा-छात्र परीक्षा चाहते है,राजनीति न करें

भारत सहित विश्व की विभिन्न यूनिवर्सिटीज के 150 से ज्यादा शिक्षाविदों ने पीएम मोदी को एक पत्र लिखा है और कहा है कि जेईई (मुख्य) और नीट (JEE-NEET) में यदि और देरी हुई तो छात्रों का भविष्य प्रभावित होगा...

नई दिल्ली:JEE-NEET Exams 2020: जेईई और नीट परीक्षाओं के आयोजन को लेकर सरकार और विपक्ष में ठनी हुई है। ऐसे में सरकार की ओर से एक बार फिर केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक (Education Minister Ramesh Pokhriyal) ने कहा है कि ज्यादातर छात्र और उनके परिजन चाहते है कि JEE और NEET की परीक्षाएं तय समय पर ही हो। इस मुद्दे पर राजनीति बंद होनी चाहिए।

डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक (Ramesh Pokhriyal) ने कहा है कि कोविड-19 (COVID-19) के समय हमारे लिए छात्रों की सुरक्षा और उनका भविष्य अहम है।

JEE-NEET Exams 2020 परीक्षाओं को पहले भी दो बार टाला गयाहै। अधिकतर तर छात्र और उनके माता-पिता इस परीक्षा को कराने के पक्षधर है।

निशंक ने यह भी बताया कि सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने भी अपने निर्णय में इस बात को कहा है कि हम छात्रों का एकेडमिक वर्ष खराब नहीं कर सकते।

उन्‍होंने लोगों/राजनीतिक दलों से इस मुद्दे पर बिना-वजह विरोध और राजनीति न करने का आग्रह किया है।

केंद्रीय मंत्री निशंक ने कहा है कि 80 प्रतिशत छात्र JEE-NEET Exams 2020 के एडमिट कार्ड डाउनलोड कर चुके हैं।

NEET के लिए 15.97 लाख में से, 10 लाख से अधिक छात्रों ने और JEE के लिए 8.58 लाख में से 7.50 लाख के आसपास छात्रों ने एडमिट कार्ड डाउनलोड किए है।

अधिकतर मामलों में स्टूडेंट्स की सुविधा के लिए एग्ज़ाम सेंटर्स को कई बार चेंज किया गया है।

 निशंक ने बताया कि 99 फीसदी छात्रों को उनकी पसंद का सेंटर मिला है।

नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) ने इन परीक्षाओं के लिए दिशानिर्देश और  SOP तैयार किए है।

इसके साथ ही बेहतर समन्वय के लिए एनटीए (NTA) और राज्यों के बीच लगातार मीटिंग हो रही है।

गौरतलब है कि कई छात्रों सहित विपक्ष, कई शिक्षक, अभिनेता और सामाजिक कार्यकर्ता भी NEET और JEE एंट्रेस परीक्षाओं के स्थगन की मांग पुरजोर तरीके से देश में उठा रहे है।

गैर भाजपा शासित राज्‍यों के मुख्यमंत्रियों ने बुधवार को डिजिटल बैठक करके इस मुद्दे पर एक बार सुप्रीम कोर्ट जाने की बात कही है।

इस बैठक में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सुझाव दिया था कि परीक्षा की तारीख आगे बढ़ाने की मांग के साथ मुख्यमंत्रियों को सुप्रीम कोर्ट  जाना चाहिए।

ध्यान दें कि मेडिकल और इंजीनियरिंग संस्थाओं में दाखिले के लिए होने वाली इन प्रवेश परीक्षाओं के आयोजन में अब एक महीने से भी कम वक्त बचा है।

हालांकि सुप्रीम कोर्ट की मंजूरी के बाद देश में परीक्षाएं कराने की तैयारियां चल रही हैं। दूसरी ओर, बिहार, उड़ीसा और गुजरात जैसे राज्यों में भारी बाढ़ और परिवहन असुविधाओं के चलते गरीब तबके के छात्र इन परीक्षाओं को देने में मानसिक रूप से तैयार नही है और स्थिति संभलने तक टालने का आग्रह कर रहे है।

देशभर में कल कांग्रेस नीट और जेईई परीक्षाओं (JEE-NEET Exams 2020) के स्थगन की मांग लेकर विरोध-प्रदर्शन करने जा रही है।

हालांकि इस मुद्दे पर सियासत इतनी तेज हो गई है कि अब भारत सहित विश्व की विभिन्न यूनिवर्सिटीज के 150 से ज्यादा शिक्षाविदों ने पीएम मोदी को एक पत्र लिखा है और कहा है कि जेईई (मुख्य) और नीट (JEE-NEET) में यदि और देरी हुई तो छात्रों का भविष्य प्रभावित होगा।

 

JEE-NEET Exams 2020

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

thirteen − twelve =

Back to top button