अन्य ताजा खबरें फिल्म रिव्यू मनोरंजन

‘बेफिक्रे’ युवाओं की बे-फिकरे की वही घिसीपिटी पुरानी कहानी

बेफिक्रे

हम जब फिल्म देखने जाते है, तो हमेशा पहले से एक बात दिमाग में कही न कही घर की हुइ होती हैl वो है फिल्म के पात्रl (एक्टर,एक्ट्रेस) निर्माता,निर्देशक इत्यादि इत्यादि और उस वजह से फिल्म से अपेक्षाऐ बड जाती हैl और जब वह इन अपेक्षाओ पे खरा नहीं उतरती है तो बहुत ही दुःख होता है l

कहा बीस साल पहले निर्माता-निर्देशक आदित्य चोपड़ा ‘दिलवाले दुल्हनियां ले जाएंगे’ जैसी सुपरहिट प्रेम कहानी लेकर आए थे, और कहा आज आदित्य चोपड़ा की ‘बेफिक्रे’ में नायिका वाणी कपूर अपने बॉयफ्रेंड रणवीर सिंह को अपने घर ले जाती है और माता-पिता के सामने ऐलान कर देती है कि वह नायक रणवीर के संग लिव इन रिलेशनशिप में रहने जा रही है और इसके लिए वह उनकी आज्ञा नहीं ले रही बल्कि उन्हें बता रही हैl

देखते ही देखते हमारे समाज में कितने बड़े बदलाव आ गए है l पर हमारा भारत ऐसा नहीं है न था न होगा l चलो हम चलते है कहानी पर तो आज के यूथ से अपने कनेक्शन को परखने के लिए ‘बेफिक्रे’ में दो ऐसे युवाओं को चुना जो प्रेम और विवाह जैसे कमिटमेंट से कोसों दूर हैं। धरम (रणवीर सिंह) और शायरा (वाणी कपूर) का हाल ही में ब्रेकअप हुआ है। कहानी एक गाने के साथ फ्लैशबैक में पहुंचती है। वन नाइट स्टैंड के तहत धरम और शायरा की मुलाकात होती है। दोनों इस बात पर एकमत हैं कि शारीरक संबध होने से एक होने का मतलब यह कतई नहीं कि दोनों में प्यार हों। दोनों ही अपनी तरह के बेफिक्रे हैं।

एक-दूसरे को अजीबो-गरीब डेयर देते हुए दोनों करीब आते हैं और फिर अचानक लिव इन का फैसला करते हैं, मगर इस शर्त के साथ कि दोनों उनके बीच प्यार वाली फीलिंग नहीं लाने देंगे। धरम खुद को हवस का पुजारी बताता है और शायरा खुद को फ्रेंच लड़की के रूप में देखती है। एक साल के साथ रहने के दौरान दोनों को अहसास होता है कि वे एक-दूसरे के लिए नहीं बने हैं और तब दोनों आपसी सहमति से ब्रेकअप कर लेते हैं। ब्रेकअप के बाद दोनों अच्छे दोस्त बनने का फैसला करते हैं। एक-दूसरे के आड़े वक्त में काम आकर दोस्ती निभाते भी हैं और इसी सिलसिले में शायरा को एक बैंकर शादी के लिए प्रपोज करता है। धरम एक अच्छे दोस्त की मानिंद उसे अपना घर बसाने की सलाह देता है। यहां धरम भी अपने लिए एक फ्रेंच लड़की को चुनता है। दोनों की शादी तय होती है, मगर जैसे-जैसे शादी की तारीख पास आती है, दोनों के बीच शादी और प्यार को लेकर कन्फ्यूजन पैदा हो जाता है।
क्यों देखे इस फिल्म को, फ्रांस घुमना हो या आज के युवाओं की फ्रांस वाली सोच, सब कुछ है इस फिल्म में, पेरिश के एफिल टावर की खूबसूरती व रणवीर सिंह का अभिनय इस फिल्म को थोडा देखने लायक बनता है l कुछ सोंग अच्छे बन पड़े है l बस इसके अलावा फिल्म में देखने लायक कुछ भी नहीं l

 

About the author

समय धारा

Add Comment

Click here to post a comment