#IIFA 2017: जानें आखिर करण जौहर ने क्यों कहा-“कंगना ना ही बोले तो अच्छा है..कंगना बहुत बोलती हैं”

न्यूयॉर्क, 17 जुलाई : फिल्मकार करण जौहर के साथ वरुण धवन और सैफ अली खान, जो फिल्मी परिवार से ताल्लुक रखते हैं, रविवार रात आईफा अवार्ड्स के दौरान परिवारवाद पर बहस को एक बार फिर बढ़ावा देने से नहीं चूके।

आईफा शो के माजबान करण और सैफ ने इस विवादित मुद्दे को उछालने में कसर नहीं छोड़ी, गौरतलब है कि फिल्म ‘क्वीन’ की अभिनेत्री कंगना ने उनके (करण) चैट शो के दौरान उन्हें परिवारवाद का ध्वजवाहक यानी परिवारवाद को बढ़ावा देने वाला कहा था।

जब मेटलाइफ स्टेडियम के मंच पर वरुण फिल्म ‘ढिशूम’ के लिए सर्वश्रेष्ठ हास्य कलाकार का पुरस्कार लेने पहुंचे तो सैफ ने मजाक में कहा कि वह (वरुण) फिल्म उद्योग में आज इस मुकाम पर अपने पिता की वजह से हैं।

सैफ ने चुटकी लेते हुए कहा, “तुम यहां अपने पापा की वजह से हो।”

वरुण भी नहीं चूके और उन्होंने भी कह दिया, ‘..और आप यहां अपनी मम्मी (शर्मिला टैगोर) की वजह से हैं।”

इस पर करण ने तुरंत कहा, “मैं यहां अपने पापा (दिवंगत फिल्मकार यश जौहर) की वजह से हूं।”

वरुण ने फिर करण पर मजाक में निशाना साधने में कोई कसर नहीं छोड़ी और कहा, “आपकी फिल्म में एक गाना है..’बोले चूड़ियां, बोले कंगना।”‘

करण ने इस पर चुटकी लेते हुए कहा, “कंगना ना ही बोले तो अच्छा है..कंगना बहुत बोलती हैं।” 

आईफा अवार्डस में फिल्म ‘द ब्लैक प्रिंस’ के अभिनेता सतिंदर सरताज और फिल्म ‘पिंक’ की अभिनेत्री तापसी पन्नू, करण से उनकी फिल्मों में काम करने या उनके शो ‘कॉफी विद करण’ में आने की इच्छा जाहिर की।

सरताज ने कहा, “‘कॉफी विद करण’ का मेहमान बनना मेरा सपना है। सर, एक बार जरूर बुलाना।”

–आईएएनएस

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error:
Close