Home slider अन्य ताजा खबरें बॉलिवुड-हॉलिवुड मनोरंजन

हैप्पी बर्थडे : ‘आक्रोश’, ‘विजेता’, ‘अर्ध सत्य’, के निर्माता गोविंद निहलानी

गोविन्द निहलानी

नई दिल्ली, 19 दिसंबर:  गोविंद निहलानी भारतीय फिल्म जगत में एक जानामाना नाम हैं। अपनी उम्र के 74वें पड़ाव पर पहुंचे गोविंद को समानांतर फिल्मों को मुख्यधारा की फिल्मों के बराबर ला खड़ा करने और सामाजिक और राजनीतिक मुद्दों को बेहद कुशलता से पर्दे पर उतारती उत्कृष्ट फिल्मों के निर्माण के लिए जाना जाता है।

गोविंद ने ‘आक्रोश’, ‘विजेता’, ‘अर्ध सत्य’, ‘रुकमावती की हवेली’, ‘द्रोहकाल’, ‘देव’ और ‘हजार चौरासी की मां’ जैसी समानांतर और कालजयी फिल्में बनाई हैं। उनकी फिल्मों को समीक्षकों और दर्शकों, दोनों ही वर्गो ने सराहा है।

व्यावसायिक फिल्मों में कैमरामैन वी.के. मूर्ति के सहायक के रूप में काम करके जहां उन्हें तकनीकी कौशल हासिल करने का मौका मिला, वहीं श्याम बेनेगल जैसे मंझे हुए फिल्मकार के साथ काम करके उन्हें समानांतर सिनेमा के निर्देशन की बारीकियां सीखने में मदद मिली।

कराची में 19 दिसंबर, 1940 को जन्मे गोविंद निहलानी का परिवार 1947 के विभाजन के दौरान भारत आ गया था। अपने करियर की शुरुआत उन्होंने विज्ञापन फिल्मों से की थी, जिसके बाद उन्हें प्रसिद्ध निर्देशक श्याम बेनेगल के साथ उनकी फिल्मों ‘निशांत’, ‘मंथन’, ‘जुनून’ में एक छायाकार के रूप में अपने कैरियर की शुरुआत करने का मौका मिला।

लेकिन उन्हें निर्देशक के रूप में अपना हुनर साबित करने का मौका 1980 में प्रदर्शित फिल्म ‘आक्रोश’ के जरिए मिला।

सच्ची कहानी पर आधारित इस फिल्म की पटकथा प्रख्यात नाटककार विजय तेंदुलकर ने लिखी थी। निहलानी की इस फिल्म को कई राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कारों से नवाजा गया था।

अस्सी के दशक में जब गोविंद निहलानी की पहली फिल्म ‘अर्धसत्य’ आई थी, तो न सिर्फ तहलका मचा गई थी, बल्कि एक नया कीर्तिमान भी गढ़ गई थी। ‘अर्धसत्य’ में निहलानी ने अपने कैमरे और कहानी के माध्यम से जो तानाबाना बुना था, उसे आज भी एक खास स्थान हासिल है।

‘अर्धसत्य’ ने अलग-अलग वर्गो में पांच फिल्मफेयर पुरस्कार जीते थे।

पश्चिम बंगाल के नक्सलबाड़ी आंदोलन पर आधारित उनकी फिल्म ‘हजार चौरासी की मां’ भी फिल्मी पायदान पर एक अलग उपलब्धि हासिल करने में सफल रही थी।

इसी प्रकार उनकी फिल्म ‘द्रोहकाल’ ने भी दर्शकों और आलोचकों सभी का दिल जीत लिया था। प्रख्यात अभिनेता और निर्देशक कमल हासन ने ‘द्रोहकाल’ का तमिल रीमेक ‘कुरुथीपुनल’ भी बनाया था, जिसे बाद में 68 वें अकादमी पुरस्कार के लिए सर्वश्रेष्ठ विदेशी भाषा फिल्म श्रेणी में भारत की आधिकारिक प्रविष्टि के तौर पर चुना गया।

निहलानी की फिल्में ऐसी नहीं होतीं, जिन्हें आप देखें और देखकर भूल जाएं। अव्वल तो उनकी फिल्म का प्रभाव फिल्म खत्म होने के बाद शुरू होता है।

उनके पात्र आमतौर पर बुद्धिमान, गंभीर और विश्वास से भरे नजर आते हैं तो वहीं उनके कई पात्रों के भीतर एक आग दिखाई देती है, समाज के प्रति आक्रोश दिखाई देता है।

निहलानी रंगमंच को भी बॉलीवुड के समान ही बेहद सशक्त माध्यम मानते हैं। उनका मानना है कि सिनेमा और रंगमंच दो बहनों की तरह हैं और बॉलीवुड के प्रभुत्व के बावजूद रंगमंच का अपना अलग स्थान और महत्व है।

निहलानी को ‘जुनून’, ‘हजार चौरासी की मां’, ‘तमस’, ‘आक्रोश’, ‘अर्धसत्य’ और ‘दृष्टि’ के लिए राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है। इसके अलावा उन्हें पांच फिल्मफेयर पुरस्कार और 2002 में नागरिक सम्मान ‘पद्मश्री’ से भी नवाजा जा चुका है।

–आईएएनएस

About the author

समय धारा

Add Comment

Click here to post a comment

अन्य ताजा खबरें