breaking_newsअन्य ताजा खबरेंबीमारियां व इलाजहेल्थ
Trending

HealthNews 24/7: क्या आप अपने बच्चे को दे रही है?बड़ी से बड़ी बीमारी का इलाज है टच थेरेपी

इस थेरेपी के बारे में आपके लिए जानना इसलिए भी जरूरी है चूंकि आज की इस भागदौड़ भरी जिंदगी में अक्सर वर्किंग महिलाएं अपने बच्चों को मेड या आया के पास छोड़ देती है

HealthNews 24-7:Benefits of Mother’s touch therapy

मां का स्पर्श बच्चे के लिए वो प्रथम एहसास है जो पैदा होने से पहले ही उसे कोख में महसूस हो जाता है।

यही कारण है कि जन्म के बाद मां का दूध और मां के स्पर्श को डॉक्टरों ने भी किसी वरदान से कम नहीं माना है।

एक मां का अपने बच्चे को छाती से लगाकर सुलाना, खिलाना-पिलाना…कई लोगों की नजर में बहुत ही मामूली सी बात हो सकती है

लेकिन क्या आपको पता है कि जिसे आप मामूली सी बात समझ रहे है,

मां का वहीं स्पर्श बच्चे को बड़ी से बड़ी खतरनाक बीमारी से बचाने में किसी वरदान से कम नहीं है।

डॉक्टर इसे ही टच थेरेपी (touch therapy)कहते है।

मां का अपने बच्चे को छाती से चिपकाकर सुलाना या फिर झप्पी देना टच थेरेपी ही कहलाता है,

और मां की इस टच थेरेपी (Mother’s touch therapy) से बच्चा न केवल शारीरिक रूप से बल्कि भावनात्मक रूप से भी सुदृढ़ व सुरक्षित रहता है।

चलिए बताते है कि मां की टच थेरेपी के क्या है फायदे (HealthNews 24-7:Benefits of Mother’s touch therapy)

इस थेरेपी के बारे में आपके लिए जानना इसलिए भी जरूरी है,

चूंकि आज की इस भागदौड़ भरी जिंदगी में अक्सर वर्किंग महिलाएं अपने बच्चों को मेड या आया के पास छोड़ देती है

और बीमार पड़ने पर भले ही उनका महंगे से महंगा और बेहतर इलाज कराये लेकिन वो फायदा नहीं दे पाती,

जो उनकी टच थेरेपी उनके बच्चे को दे सकती है। अब आप सोचेंगे कैसे? तो चलिए बताते है:

(HealthNews 24-7:Benefits of Mother’s touch therapy)

1. उन्हें अच्छे से सुलाएं : अगर आप अपने बच्चे की नींद के कुछ वक्त बाद तक अपने बेहद करीब रखें और थपथपाएं।

यह उनकी नींद के लिए बेहद फायदेमंद है। आपकी झप्पी की गरमाहट उन्हें आराम देती है,

और इसका उपचारात्मक प्रभाव भी होता है, जो उन्हें बेहतर रूप से सोने में मदद करती है। 

गुरुग्राम में फोर्टिस मेमोरियल रिसर्च इंस्टिट्यूट की कार्डियोलोजिस्ट शरद टंडन ने एक मां की झप्पी से जुड़ी कुछ वैज्ञानिक लाभों के बारे में बताया है। 

1. प्रतिरक्षा में बढ़ोतरी : बच्चे को अपने सीने से लगाना, पुचकारना उनके स्वास्थ्य के लिए लाभकारी हो सकता है।

इससे उनकी श्वेत रक्त कणिकाएं बढ़ती हैं, जो आपके बच्चों को काफी हद तक बीमारियों से बचाए रख सकती हैं।

2. आपकी प्यार भरी झप्पी आपके बीमार बच्चे को जल्द ठीक होने में भी मदद करती है।

यह उनके शरीर से ओक्सिटोसिन को अलग करती है। इसकी सलाह विशेषज्ञ भी देते हैं।

जन्म के समय से पूर्व ही पैदा होने वाले बच्चों के परिजनों को भी यह सलाह दी जाती है। 

सबसे महत्वपूर्ण बात यह भी है कि 90 प्रतिशत चिकित्सकों और विशेषज्ञों का मानना है कि,

एक नवजात शिशु अपनी मां की पहचान उसकी झप्पी (HealthNews 24-7:Benefits of Mother’s touch therapy) से ही करता है।

मां के तन की खुशबू और छुअन ही उसे एहसास दिलाती है कि वह अपनी मां की गोद में है। 

‘हगीस’ के एक सर्वेक्षण से यह बात सामने आई है। 

HealthNews 24-7:Benefits of Mother’s touch therapy

(इनपुट एजेंसी से भी)

Tags

Reena Arya

रीना आर्य एक ज्वलंत और साहसी पत्रकार व लेखिका है। वे समयधारा.कॉम की एडिटर-इन-चीफ और फाउंडर भी है। लेखन के प्रति अपने जुनून की बदौलत रीना आर्य ने न केवल बड़े-बड़े ब्रांड्स में अपने काम के बल पर अपनी पहचान बनाई बल्कि अपनी काबलियत को प्रूव करते हुए पत्रकारिता के पांच से छह साल के सफर में ही अपने बल खुद एक नए ब्रैंड www.samaydhara.com की नींव रखी।रीना आर्य हर मुद्दे पर अपनी बेबाक राय रखने पर विश्वास करती है और अपने लेखन को लगभग हर विधा में आजमा चुकी है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: