breaking_newsअन्य ताजा खबरेंडाइटदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंफैशनबीमारियां व इलाजलाइफस्टाइलविश्वहेल्थ
Trending

विश्व दमा दिवस-2 मई : सर्दी नहीं गर्मी भी है आपके अस्थमा का बड़ा कारण

रोज के व्यायाम-अधिक गर्मी-काक्रोज-घर के पालतू जानवर, बाहर का वायु प्रदूषण, सुगंधित सौन्दर्य प्रसाधन, सर्दी, फ्लू, ब्रोंकाइटिस, साइनोसाइटिस का संक्रमण, धूम्रपान, व्यक्ति विशेष को कुछ विशेष खाद्य पदार्थों से एलर्जी, महिलाओं में हार्मोनल बदलाव एवं कुछ विशेष प्रकार की दवाएं भी अस्थमा का कारण बन सकती हैं

2-may-world-asthma-day-how-to-cure-asthma-tips-and-tricks-to-cure-dama

नोएडा, 2 मई : अक्सर लोगों को यही लगता है की अस्थमा सिर्फ सर्दी में ही ज्यादा होता है l गर्मी तो अस्थमा के मरीजों के लिए अच्छी होती है l

तो अपनी धारणाओं को बदलना होगा l आज के मॉडर्न जमाने में दमा जैसी बिमारी सिर्फ सीजन देखकर नहीं आती l

यह अब आम दिनों में भी आपके शरीर के अन्दर घर कर सकती है l

इस बीमारी को अगर भगाना है तो सिर्फ और सिर्फ आपको सावधानी बरतने की जरुरत है l   

चिकित्सा विशेषज्ञों का कहना है कि गर्भावस्था में धूम्रपान से बच्चे को दमा (अस्थमा) होने का खतरा हो सकता है।

दूषित वातावरण के कारण यह बीमारी किशोरों, वयस्कों या अन्य लोगों को भी हो सकती है।

व्यक्ति जहां रहता है यदि वहां का वातावरण धूल और गंदगी भरा हो तो दमा होने की संभावना बहुत बढ़ जाती है।

विश्व दमा दिवस (2 मई) के अवसर पर जेपी हॉस्पिटल के पल्मोनरी एवं क्रिटिकल केयर मेडिसिन विभाग के वरिष्ठ चिकित्सक

डॉ. ज्ञानेंद्र अग्रवाल ने कहा, “घर की कुछ वस्तुएं जिनसे रोगी को एलर्जी होती हो या एलर्जी के अन्य कारक जैसे कॉकरोच,

जानवरों के बालों की रूसी तथा फफूंद भी अस्थमा होने के कारण हो सकते हैं।

विश्व दमा दिवस-2 मई : सर्दी नहीं गर्मी भी है आपके अस्थमा का बड़ा कारण
विश्व दमा दिवस-2 मई : सर्दी नहीं गर्मी भी है आपके अस्थमा का बड़ा कारण

कुछ विशिष्ट प्रकार के वायरस के कारण भी अस्थमा हो सकता है।”

उन्होंने कहा कि आनुवांशिक या अन्य वजह जैसे घर के पालतू जानवर, बाहर का वायु प्रदूषण, सुगंधित सौन्दर्य प्रसाधन,

सर्दी, फ्लू, ब्रोंकाइटिस, साइनोसाइटिस का संक्रमण, धूम्रपान, व्यक्ति विशेष को कुछ विशेष खाद्य पदार्थों से एलर्जी,

महिलाओं में हार्मोनल बदलाव एवं कुछ विशेष प्रकार की दवाएं भी अस्थमा का कारण बन सकती हैं।

 

2-may-world-asthma-day-how-to-cure-asthma-tips-and-tricks-to-cure-dama
2-may-world-asthma-day-how-to-cure-asthma-tips-and-tricks-to-cure-dama

डॉ. अग्रवाल ने कहा, “यह बीमारी किसी भी उम्र के लोगों को हो सकती है। जब किसी व्यक्ति के श्वसन के रास्ते में सूजन आ जाती है

तो श्वसन मार्ग संकीर्ण हो जाता है और छाती में ऑक्सीजन उचित मात्रा में नहीं पहुंच पाती है।

व्यक्ति की सांसें उखड़ने लगती है। रोग के कारण मरीज छोटी-छोटी सांसें लेता है और छाती में कसाव महसूस करता है।

मरीज की सांसें फूलने लगती हैं और वह बार-बार खांसने लगता है।”

डॉ. ज्ञानेंद्र अग्रवाल ने बताया, “अगर सांस से संबंधित तकलीफ, सीने में जकड़न, सांसों में घरघराहट, सांस तेज लेते हुए पसीना आना,

बेचैनी महसूस होना, सिर भारी होना, जोर-जोर से सांस लेने के कारण थकावट होना, उल्टी होना और खांसी होने

जैसा महसूस हो, तो ये अस्थमा के लक्षण हो सकते हैं। इस बीमारी के कारण रोगी को बहुत अधिक खांसी होती है।

खांसी द्वारा मरीज अपनी छाती के कफ को बाहर लाने की कोशिश करता है।

अधिकांशत: अस्थमा सुबह व्यायाम के समय एवं रात में लोगों को परेशान करता है।”

दमा श्वसन तंत्र में लंबे समय तक रहने वाली बीमारी है। इस बीमारी में व्यक्ति का सांस लेना मुश्किल हो जाता है।

कई बार ऐसा देखा गया है कि अस्थमा से पीड़ित व्यक्ति डॉक्टर के परामर्श से दवाई या इनहेलर तो ले लेते हैं

लेकिन स्थिति में थोड़ा सुधार होते ही दवाई लेना छोड़ देते हैं। यह जोखिम भरा हो सकता है।

2-may-world-asthma-day-how-to-cure-asthma-tips-and-tricks-to-cure-dama

( इनपुट आईएएनएस से भी )

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: