breaking_newsअन्य ताजा खबरेंबीमारियां व इलाजहेल्थ
Trending

गर्भनिरोधक गोलियां खाओं घुटने की गंभीर चोटों से बच जाओं

गर्भनिरोधक गोलियां 15 से 19 आयु वर्ग की युवतियों के लिए ज्यादा सुरक्षित होती हैं

वाशिंगटन,3 मई: Contraceptive pills- अगर कोई आपसे पूछे कि गर्भनिरोधक की गोलियों का क्या फायदा होता है? तो सभी की तरह आप भी कहेंगे कि अनचाही प्रेग्नेंसी को रोकने में यह सहायक होती है लेकिन क्या आपको पता है कि गर्भनिरोधक गोलियों का केवल इतना ही उपयोग नहीं है, बल्कि इनकी बदौलत आप अपने घुटने को गंभीर चोटों (severe knee injuries) से बचा भी सकते हो।

अक्सर सलाह दी जाती है कि महिलाओं को गर्भनिरोधक की गोलियों (Contraceptive pills) का सेवन नहीं करना चाहिए लेकिन अब एक शोध में इन गोलियों के फायदे सामने आए हैं। गर्भनिरोधक गोलियां (Contraceptive pills) लेने से महिलाओं में घुटने की गंभीर चोटों (severe knee injuries) का खतरा कम हो सकता है। 

द फिजिशियन एंड स्पोर्ट्समेडिसिन पत्रिका में प्रकाशित इस अध्ययन में 15 से 49 वर्ष की आयु की 1,65,000 महिला मरीजों ने भाग लिया।

ब्राउन विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने अमेरिका के राष्ट्रीय डेटाबेस से एक दशक की दवाओं और बीमा सूचनाओं का अध्ययन किया।

उन्होंने पाया कि गर्भनिरोधक गोलियां 15 से 19 आयु वर्ग की युवतियों के लिए ज्यादा सुरक्षित होती हैं। उनमें घुटने की चोट क्रुसिएट लिगामेंट (एसीएल) के बाद सर्जरी होने की जरुरत 63 प्रतिशत कम होती है। 

यह अध्ययन एथलीटों के लिए महत्वपूर्ण साबित हो सकता है। तकरीबन दो में से एक एथलीट को एसीएल चोट का सामना करना पड़ता है जिसके कारण वे एथलेटिक स्पर्धा में वापसी नहीं कर पाते और उनमें से 20-50 फीसदी लोगों को चोट लगने के 10-20 साल के अंदर गठिया का रोग हो जाता है। 

एसीएल चोट की समस्या युवा एथलीटों को ज्यादा होती है और ये पुरुषों के मुकाबले महिलाओं को दो से आठ गुना ज्यादा लगती हैं। 

(इनपुट एजेंसी से भी)

 

यह भी पढ़े: विश्व दमा दिवस-2 मई : सर्दी नहीं गर्मी भी है आपके अस्थमा का बड़ा कारण

यह भी पढ़े:प्यारी-छोटी सी यह आदत, आपके बच्चों की बीमारी भगा देगी दूर ..!!!

यह भी पढ़े: घर को रोशन करने वाली LED, आपके जीवन में कर सकती है अंधेरा, जानें कैसे?

 

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: