breaking_newsअन्य ताजा खबरेंडाइटबीमारियां व इलाजलाइफस्टाइलहेल्थ
Trending

क्या…? नहीं खाते मक्खन-पनीर-चीज तो जल्द ही होगी आपकी मौत.!!

Eating-High-Carbohydrate-Foods  Avoid Fat-Rich-Foods Might-Increase-Risk-of-an-Early-Death

नई दिल्ली, 19 जून  : क्या…? नहीं खाते मक्खन-पनीर-चीज तो जल्द ही होगी आपकी मौत.!!

जी हाँ अगर आप मक्खन-पनीर-चीज-पिजा आदि नहीं खाते है तो जल्द ही आपकी मौत हो जायेंगी l

घबाराएँ नहीं..!  जो लोग यह खाते है और जो लोग यह सारी चीजें नहीं खाते है तुलना उनकी हो रही है l 

यह खुलासा एक स्टडी से सामने आया है, जोकि सालों से चल रही अवधारणा के एकदम उल्ट है l 

आज तक आपने पढ़ा-सुना होगा कि वसायुक्त या चिकनाई वाला खाना ज्यादा खाया तो आप लंबा जी नहीं सकेंगे,

लेकिन अगर हम कहें कि आपने ज्यादा वसायुक्त वाला भोजन नहीं खाया तब आप जल्दी मौत के करीब पहुंचेंगे तो आपको यकीन नहीं होगा,

लेकिन यह बिल्कुल सच है और यह बात हम नहीं कह रहे बल्कि हालिया स्टडी से सामने आई है,

जोकि सालों से चल रही अवधारणा के एकदम उल्ट है l 

Eating-High-Carbohydrate-Foods  Avoid Fat-Rich-Foods Might-Increase-Risk-of-an-Early-Death

दरअसल, कम वसा और अधिक कार्बोहाइड्रेट युक्त आहार लेने वालों की उम्र पनीर और मक्खन ,

जैसे समृद्ध वसा वाले खाद्य पदार्थ लेने वालों की तुलना में कम होती है।

यह अध्ययन उस प्रचलित अवधारणा के उलट बताता है कि वसा की उच्च मात्रा (ऊर्जा का 35 प्रतिशत) मृत्यु के जोखिम को कम करती है।  

वहीं, कार्बोहाइड्रेट का उच्च सेवन (ऊर्जा का 60 प्रतिशत) मृत्यु दर के उच्च जोखिम से संबंधित है।

कनाडा के मैकमास्टर यूनिवर्सिटी के प्रमुख महशीद दहघान ने कहा, “वसा के सेवन में कमी से कार्बोहाइड्रेट की खपत में वृद्धि हो जाती है

और हमारे निष्कर्ष यह बताते हैं कि दक्षिण एशियाई जैसे इलाके के लोगों (जो बहुत अधिक वसा का उपभोग नहीं करते,

बल्कि कार्बोहाइड्रेट का उपभोग अधिक करते हैं) में मृत्यु दर अधिक क्यों होती है।”  

इस शोध के लिए पांच महाद्वीपों के 1,35,000 लोगों पर सर्वेक्षण किया गया था।  यह शोध ‘लैंसेट’ पत्रिका में प्रकाशित हुआ है।  

Eating-High-Carbohydrate-Foods  Avoid Fat-Rich-Foods Might-Increase-Risk-of-an-Early-Death

( इनपुट समयधारा के पुराने पन्ने से )

 

Tags

dharmesh Jain

धर्मेश जैन एक स्वतंत्र लेखक है और साथ ही समयधारा के को-फाउंडर व सीईओ है। लेखन के प्रति गहन रुचि ने धर्मेश जैन को बिजनेस के साथ-साथ लेख लिखने की ओर प्रोत्साहित किया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: