breaking_newsअन्य ताजा खबरेंबीमारियां व इलाजहेल्थ
Trending

कब कराएं जोड़ों या घुटनों की सर्जरी? जानें सही समय और कितने प्रतिशत है फायदेमंद

आप निर्णय नहीं ले पा रहे कि टोटल नी रिप्लेसमेंट या घुटनों की सर्जरी के लिए सही समय और तरीका क्या है?...

नई दिल्ली,13 जून: Total Knee replacement or Knee surgery right time

क्या आप भी जोड़ों या घुटनों की समस्या यानि नी आर्थराइटिस (Knee arthritis) से परेशान है?

क्या आपको भी घुटनों की सर्जरी (Knee surgery) के लिए बोल दिया गया है?

आप समझ नहीं पा रहे कि डॉक्टर ने सही कहां है या नहीं?  

आप निर्णय नहीं ले पा रहे कि टोटल नी रिप्लेसमेंट या घुटनों की सर्जरी

(Total Knee replacement or Knee surgery right time) के लिए सही समय और तरीका क्या है?…

अगर ये सभी आपको भी सवाल है तो आज हम आपके इन सभी सवालों का जवाब एक्सपर्ट के हवाले से लाएं है।

प्राप्त रिपोर्ट के अनुसार देश में तकरीबन 4.5 से 5 करोड़ लोग घुटनों की समस्या यानि आर्थराइटिस (arthritis)से परेशान है।

सबसे पहले आपके लिए ये जानना जरूरी है कि क्या नी आर्थराइटिस कोई बीमारी है?

तो जवाब है कि नहीं ये बीमारी नहीं वरन जोड़ों के घिसने और उनमें सूजन आने की समस्या है।

Knee arthritis, Rheumatoid arthritis
घुटनों की सर्जरी का सही समय जानें,(तस्वीर-प्रतीकात्मक,साभार-गूगल सर्च)

बहुत से आर्थराइटिस (arthritis) मरीज साइक्लॉजिकल ब्लॉक के कारण दर्दनाक और लिमिटेड लाइफ जीते है

और कुछ तो इसी भ्रम में रह जाते है कि अगर घुटनों की सर्जरी (Knee surgery) कराई तो

संभव है कि उनका नी रिप्लेसमेंट (Knee replacement) सफल न हो।

नतीजा, वे घुटनों या जोड़ों की सर्जरी (Total Knee replacement or Knee surgery right time) से

बचने के ऑप्शन तलाशते रहते है और घुटनों की समस्या कब गंभीर बीमारी का रूप ले लेती है उन्हें पता ही नहीं चलता।

देश में तकरीबन पांच लाख लोग ऐसे है जिन्हें अपनी जिंदगी में किसी न किसी समय घुटनों की सर्जरी या

फिर टीकेआर(TKR) यानि टोटल नी रिप्लेसमेंट (Total Knee replacement) करवाने की आवश्यकता पड़ती है

लेकिन समस्या तब खड़ी होती है जब इसे कराने की सही उम्र,समय और कब तक सफल रहेगा…इत्यादि बातों की जानकारी नहीं होती।

इसके लिए जरूरी है की नी रिप्लेसमेंट या घुटनों की सर्जरी (Knee replacement or Knee surgery) से जुड़े भ्रम या मिथक तोड़े जाएं।

क्या घुटनों की सर्जरी किसी खास उम्र तक ही करवाई जा सकती है?-Total Knee replacement or Knee surgery right time

इस सवाल का जवाब जाने माने आर्थोपेडिक सर्जन (कैलाश हॉस्पिटल,नोएडा) व आर्थराइटिस फाउंडेशन ऑफ इंडिया के चेयरमैन

डॉ. सुशील शर्मा ने देते हुए कहा कि देश में इस समय प्रत्येक वर्ष 1,20,000 लोगों की घुटनों की सर्जरी की जाती है।

ऐसे में यह जानना अहम है कि नी सर्जरी (Knee surgery)  में उम्र कोई मायने नहीं रखती बल्कि चलना-फिरना महत्व रखता है।

जैसे कि अगर कोई मरीज रूमेटॉयड आर्थराइटिस (Rheumatoid arthritis) से पीड़ित है तो उसे कम उम्र में ही टोटल नी रिप्लेसमेंट करवाने की आवश्यकता पड़ सकती है।

वहीं इसके उलट अगर किसी मरीज को ऑस्टियोआर्थराइटिस (osteoarthritis) है तो

इसके लिए घुटनों की सर्जरी  (Knee surgery) ज्यादा उम्र में करीब पंद्रह साल बाद करवाने की आवश्यकता पड़ती है।

टोटल नी रिप्लेसमेंट करवाने का क्या है सही समय या लक्षण?-Total Knee replacement or Knee surgery right time

1.अगर घुटनों या जोड़ों की मोबिलिटी के कारण आपका सीढ़िया चढ़ना,चलना-फिरना,घुमने-फिरने जाना सीमित हो गया है या फिर आप अपने दैनिक कामों को ठीक प्रकार से नहीं कर पा रहे है तो यही वो समय है जब आपको घुटनों की सर्जरी या टोटल नी रिप्लेसमेंट करवा लेना चाहिए।

2.अगर आप 1 या 2 किमी. भी नहीं चल पाते और एक्सरे में भी सीरियस डैमेज या चेंजेस दिखाई दे रहे है तो नी सर्जरी का यही सही समय है।

घुटनों की सर्जरी  कितने समय तक सफल रहती है?- Knee surgery success rate

1.साइंस के तरक्की करने के बाद से जॉइंट इम्पलांट्स (Joint Implant) में बहुत बदलाव आ गया है। अगर कोई नी सर्जरी कराता है तो यह 20 से 25 सालों तक चलता है।

2.टीकेआर (TKR) करवाने वाले 55 साल से ज्यादा उम्र के लोगों को शायद ही कभी अपने जीवनकाल में दोबारा सर्जरी की नौबत आती है।

3.कुछ लोगों को लगता है कि सर्जरी के बाद न वे व्यायाम कर सकते और न ही ज्यादा दूर तक चल सकते,लेकिन ऐसा नहीं है।

नी सर्जरी (Knee surgery)के बाद भी लोग साइकिल चला सकते है, एक्सराइज कर सकते है और लंबी वॉक पर भी जा सकते है।

 

(इनपुट एजेंसी से भी)

Tags

Reena Arya

रीना आर्य एक ज्वलंत और साहसी पत्रकार व लेखिका है। वे समयधारा.कॉम की एडिटर-इन-चीफ और फाउंडर भी है। लेखन के प्रति अपने जुनून की बदौलत रीना आर्य ने न केवल बड़े-बड़े ब्रांड्स में अपने काम के बल पर अपनी पहचान बनाई बल्कि अपनी काबलियत को प्रूव करते हुए पत्रकारिता के पांच से छह साल के सफर में ही अपने बल खुद एक नए ब्रैंड www.samaydhara.com की नींव रखी।रीना आर्य हर मुद्दे पर अपनी बेबाक राय रखने पर विश्वास करती है और अपने लेखन को लगभग हर विधा में आजमा चुकी है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: