breaking_newsअन्य ताजा खबरेंघरेलू नुस्खेहेल्थ
Trending

हैजा, मुँह के रोग, पेशाब की जलन आदि के लिए रामबाण है नींबू

नींबू मुँह में कीटाणुओं की वृद्धि को रोकता है, भोजन के बाद नींबू-पानी से कुल्ला करने से मुँह की दुर्गंध ठीक हो जाती है

Lemon Benefits for Mouth Disease – Urine Burn – Body Cleaning etc.

नई दिल्ली, 29 (समयधारा) : आपके शरीर की शुद्धता के लिए बेहतरीन  फल  है नींबू l 

नींबू अनुष्ण अर्थात न अति उष्ण है, न अति शीत | यह उत्तम जठराग्निवर्धक, पित्त व वातशामक, रक्त,

ह्रदय व यकृत की शुद्धि करनेवाला, कृमिनाशक तथा पेट के लिए हितकारी है |

ह्रदयरोगों को ठीक करने में यह अंगूर से भी अधिक गुणकारी सिद्ध हुआ है |

इसमें प्रचुर मात्रा में उपलब्ध विटामिन ‘सी’ शरीर की रोगप्रतिकारक शक्ति को बढाता है |

आधुनिक खानपान, मानसिक तनाव एवं प्रदूषित वातावरण से शरीर में सामान्य मात्रा से कहीं अधिक अमल (एसिड) उत्पन्न होता है,

जिसके शरीर पर होनेवाले परिणाम अत्यंत घातक हैं |

Lemon Benefits for Mouth Disease,Urine Burn Body Cleaning etc.

यह अतिरिक्त अमल कोशिकाओं को क्षति पहुँचाकर अकाल वार्धक्य व धातुक्षयजन्य रोग (degenerative diseases) उत्पन्न करता है |

नींबू स्वाद में अम्ल है परंतु पाचन के उपरांत इसका प्रभाव मधुर हो जाता है | यह माधुर्य अम्लता को आसानी से नष्ट कर देता है |

एक गिलास गर्म पानी में एक नींबू व 25 तुलसी के पत्तों का रस मिला के हफ्ते में 2 से  4 दिन पीने से शरीर में संचित विषाक्त द्रव्य,

हानिकारक जीवाणु व अतिरिक्त चर्बी नष्ट होकर कई गम्भीर रोगों से रक्षा होती है |

डॉ. रेड्डी मेलर के अनुसार ‘कुछ दिन ही नींबू का सेवन रक्त को शुद्ध करने में अत्यधिक मदद करता है |

शुद्ध रक्त शरीर को खूब स्फूर्ति व मांसपेशियों को नयी ताकत देता है |’

Lemon Benefits for Mouth Disease,Urine Burn Body Cleaning etc.
Lemon Benefits for Mouth Disease,Urine Burn Body Cleaning etc.

औषधीय प्रयोग

1) अम्लपित्त (एसिडिटी) : नींबू-पानी में मिश्री व सेंधा नमक मिला के पीने से अम्लपित्त में राहत मिलती है |

रोग पुराना हो तो गुनगुने पानी में १ नींबू निचोड़कर सुबह खाली पेट कुछ दिनों तक नियमित लेना चाहिए |

2) पेट की गड़बड़ियाँ : भोजन से पूर्व नींबू, अदरक व सेंधा नमक का उपयोग अरुचि,

भूख की कमी, गैस, कब्ज, उलटी व पेटदर्द में लाभदायी है |

Lemon Benefits for Mouth Disease,Urine Burn Body Cleaning etc.

3) यूरिक एसिड की वृद्धि : राजमा, उड़द, पनीर जैसे अधिक प्रोटीनयुक्त पदार्थो का अति सेवन करने से

शरीर में यूरिक एसिड की मात्रा बढ़ जाती है, जिससे जोड़ों में खासकर एडी में दर्द होने लगता है |

सुबह खाली पेट गुनगुने पानी में नींबू का रस लेने से यह यूरिक एसिड पेशाब के द्वारा निकल जाता है |

इसमें नींबू की आधी मात्रा में अदरक का रस मिलाना विशेष लाभदायी है |

4) मुँह के रोग : नींबू मुँह में कीटाणुओं की वृद्धि को रोकता है | भोजन के बाद नींबू-पानी से कुल्ला करने से मुँह की दुर्गंध ठीक हो जाती है |

विटामिन ‘सी’ की कमी से होनेवाले स्कर्वी रोग में मसूड़ों से खून आने लगता है, दाँत हिलने लगते हैं |

कुछ दिनों तक नींबू के सेवन से व एक नींबू के रस को एक कटोरी पानी में मिलाकर कुल्ले करने से इसमें लाभ होता है

नींबू का छिलका मसूड़ों पर घिसने से मसूड़ों से मवाद आना बंद हो जाता है |

5) पेशाब की जलन : मिश्रीयुक्त नींबू-पानी उपयुक्त है |

6) हैजा : नींबू का रस हैजे के कीटाणुओं को शीघ्रता से नष्ट करता है |

उपवास के दिन गुनगुने पानी में नींबू का रस व शहद मिलाके पीने से शरीर की शुद्धि होकर स्फूर्ति आती है |

रस की मात्रा : 5 से 10 मि. ली.

Lemon Benefits for Mouth Disease – Urine Burn – Body Cleaning etc.

(इनपुट सोशल  मिडिया व समयधारा के पुराने पन्नों से)

Tags

Reena Arya

रीना आर्य एक ज्वलंत और साहसी पत्रकार व लेखिका है। वे समयधारा.कॉम की एडिटर-इन-चीफ और फाउंडर भी है। लेखन के प्रति अपने जुनून की बदौलत रीना आर्य ने न केवल बड़े-बड़े ब्रांड्स में अपने काम के बल पर अपनी पहचान बनाई बल्कि अपनी काबलियत को प्रूव करते हुए पत्रकारिता के पांच से छह साल के सफर में ही अपने बल खुद एक नए ब्रैंड www.samaydhara.com की नींव रखी।रीना आर्य हर मुद्दे पर अपनी बेबाक राय रखने पर विश्वास करती है और अपने लेखन को लगभग हर विधा में आजमा चुकी है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: