Trending

बुलंदशहर विशेष – मॉबलिंचिंग का भुक्तभोगी

बुलंदशहर विशेष – मॉबलिंचिंग का भुक्तभोगी 

बीते हफ्ते देश की सियासत का पर्याय माने जाने वाला प्रदेश उत्तरप्रदेश फिर से सुर्ख़ियों में रहा |

इस बार सियासत की कुर्सी को बदलने को लेकर नहीं| बल्कि सुर्ख़ियों में था, गाय के मांस को लेकर भड़की हिंसा  जिसमे दो लोगों की मौत हो गयी |

एक भीड़ का हिस्सा मात्र बनकर रह गया सुमित था  और दूसरे थे पुलिस अधिकारी सुबोध कुमार सिंह |

बुलंदशहर की ये घटना जिसमे एक पूरा भीड़ का झुण्ड पुलिस चौकी पर हमला करता है,

और पुलिस के साथ मुठभेड़ को अंजाम देता है | जिसमे अपनी ड्यूटी करते हुए पुलिस अफसर की जान भी चली जाती है|

यहाँ सबसे बड़ा सवाल यह उठता है कि क्या ये खुलेआम गुंडागर्दी नहीं है ? और इसका जवाब यही है कि ये गुंडागर्दी ही नहीं ये खुले आम मॉब लिंचिंग है |

बुलंदशहर विशेष – मॉबलिंचिंग का भुक्तभोगी 

इस बार मॉब लिंचिंग के शिकार किसी और के पिता पुलिस अफसर सुबोध कुमार सिंह हुए हैं |

अगली बार कोई और हो सकता है | आखिर इस भीड़नुमा शिकारी को किसका सरंक्षण प्राप्त है |

जो हर बार भीड़ की शक्ल में आकर , धर्म का सहारा लेकर , किसी की  भी हत्या करके आगे बढ़ जाता है |

क्या ऐसे ही आज़ाद भारत की कल्पना सरदार पटेल और  गाँधी नें की थी |

या फिर जिस नए भारत की बात प्रधानसेवक नरेन्द्र मोदी करते हैं उसकी रूपरेखा इससे मिलती है |

निश्चित ही ऐसा नहीं होगा | फिर भी विश्व को अपनी पहचान बताने वाले लोकतंत्र में लगातार ऐसी घटनाये हो रहीं हैं |

बुलंदशहर विशेष – मॉबलिंचिंग का भुक्तभोगी 

इसकी जवाबदेही सिर्फ और सिर्फ सरकार की ही बनती है | क्यूंकि जनता नें अपनी सुरक्षा के लिए उसे चुना है |

ये घटना उत्तरप्रदेश की है तो निश्चित तौर पर प्रदेश की योगी सरकार की जवाबदेही बनती है |

कई महीनों से आपकी सरकार शहरों के नाम बदलने के मामले में सबसे आगे चल रही है,

और अगर विकास का पैमाना नाम बदलना होता तो आज उत्तरप्रदेश शिखर पर होता |

और उसी शिखर से देश की राजनीति को राह दिखा रहा होता | मगर ऐसा हो न सका और हालात किसी से छुपे हुए नहीं हैं |

अगर इस पूरे घटनाक्रम को आप गौर से देखेंगे तो सुनने समझने वाली बात बोली है ,

सुबोध कुमार सिंह के बेटे नें कि देश की व्यवस्था को बनाकर रखिये इसे धर्म की राजनीति के रूप में ना बाटिये |

मैंने अपने पिता को खोया है किसी और के पिता की जान इस धर्म की राजनीति में नहीं जानी चाहिए |

पर भारतीय राजनीति एक अलग ही दौर से गुज़र रही है | पार्टियों को सरकार बनाने से मतलब है |

उसके भले ही धर्म का सहारा लेना पड़े किसी को कोई गुरेज़ नहीं है |

क्यूंकि राजनीति अब समाज सरोकार के लिए कम और व्यक्तिगत सरोकार के लिए ज्यादा की जाती है |

सियासत की एक खासियत है , दंगे हो , फसाद हो , मॉब लिंचिंग हो ,

मरता सिर्फ आम इंसान ही है |

बुलंदशहर विशेष – मॉबलिंचिंग का भुक्तभोगी 

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error:
Close