Trending

क्या कांग्रेस टोंक से निकालकर एक युवा को राजस्थान का सिरमौर बना पायेगी

blog on congress rajasthan cm candidate sachin pilot

राजस्थान की रणभेरी को थोड़ा आराम तो मिल ही गया |

क्यूंकि वहां करीब 75 प्रतिशत मतदान हो गया | दोनों प्रमुख सियासी दलों की कोशिश होगी कि

राजस्थान की धरती में पतंगा फेहरा कर , लोकसभा 2019 की तैयारी में लग जाएँ|

रेगिस्तान के ऊँट की सवारी किस प्रमुख दल के किस्मत में लिखी हुई है इसका जवाब तो वक्त दे देगा |

लेकिन एग्जिट पोल की बहार नें फिलहाल कांग्रेस पार्टी के लिए खुशियों की खबर ज़रूर ला दी है |

अगर एग्जिट पोल का अनुमान सही होता है | और कांग्रेस पार्टी राजस्थान का रण जीतने में कामयाब होती है |

तो पहला सवाल यही उठेगा की ज्यादा खुशियाँ किसके आएँगी पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के लिए |

या फिर टोंक से मौजूदा प्रत्याशी और सांसद सचिन पायलट के लिए | 

blog on congress rajasthan cm candidate sachin pilot 

क्यूंकि ये बात तो जगजाहिर है कि मध्यप्रदेश की ही तरह राजस्थान में भी कांग्रेस के अन्दर एक अनार और दो बीमार वाले हालात हैं |

26 वर्ष के उम्र में ही एक युवा सांसद के तौर पर राजस्थान की दौसा सीट का प्रतिनिधित्व करने वाले पायलट के लिए

ये विधानसभा चुनाव इसलिए भी ख़ास है| क्यूंकि राजस्थान में एक बड़े तबके अपने भविष्य के

मुख्यमंत्री के तौर पर सचिन पायलट को ही देखना है | और कहीं न कहीं उड़ान भरने का संकेत देते ही रहते हैं| 

blog on congress rajasthan cm candidate sachin pilot 

इसी उड़ान को तेज़ करने के लिए सचिन पायलट इस बार टोंक विधानसभा क्षेत्र से चुनाव मैदान में हैं |

आप को बता दें कि टोंक विधानसभा क्षेत्र मुस्लिम आबादी अच्छी खासी है |

और इस चुनाव में चर्चा का विषय भी रही है टोंक विधानसभा क्षेत्र | यहीं से भाजपा नें यूनुस खान के ऊपर दांव खेला है |

यूनुस खान भाजपा की तरफ से राजस्थान में इस विधानसभा चुनाव में एकमात्र मुस्लिम चेहरा भी हैं|

मौजूदा समय में भाजपा की तरफ से 160 विधायक और कांग्रेस की तरफ से 25 विधायक जनता की नुमायन्दगी कर रहें हैं |

और कांग्रेस पार्टी पूरी तरह से आश्वस्त है कि इस बार के परिणाम इस तस्वीर को बदल के रख देंगे |

वहीँ भाजपा नें भी चुनाव प्रचार में अपनी पूरी ताकत झोंक दी है | 

blog on congress rajasthan cm candidate sachin pilot 

अगर हालिया तस्वीर बदलती भी है तो सबसे बड़ा सवाल कांग्रेस के सामने यही खड़ा होता है कि

क्या पार्टी की  आलाकमान टोंक से निकालकर एक युवा को राजस्थान का सिरमौर बना सकती है |  

राजस्थान को नए मुख्यमंत्री के चेहरे से अवगत करा सकती है |

राजस्थान का किला ना सिर्फ भाजपा , कांग्रेस के लिए महत्वपूर्ण है |

बल्कि कांग्रेस के पूर्व कद्दावर नेता राजेश पायलट के पुत्र सचिन पायलट के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण है |

ये बात भी जगजाहिर है कि मध्यप्रदेश और राजस्थान जो फ़तह करेगा | उसके लिए आने वाले आम चुनाव की राह भी आसान होगी | 

blog on congress rajasthan cm candidate sachin pilot 

भाजपा को कोई राजस्थान में बचा सकती है तो वो है सिर्फ प्रधानमंत्री मोदी की लहर |

क्यूंकि मुख्यमंत्री के खिलाफ आवाजें तो बहुत पहले से उठती हुई आई हैं |

एक नारा राजस्थान में चलता आया है कि रानी तेरी खैर नहीं ,पर मोदी से कोई बैर नहीं |

तो अगर मोदी प्रेम जाग गया होगा ईवीएम में बटन दबाने के पहले तभी यह किला बच पाएगा |

 blog on congress rajasthan cm candidate sachin pilot 

 

 

डिस्क्लेमर(अस्वीकरण): इस लेख में प्रस्तुत विचार लेखिका के व्यक्तिगत है। लेख में व्यक्त किसी भी सूचना की सच्चाई,सटीकता,संपूर्णता और व्यावहारिकता के प्रति समयधारा उत्तरदायी नहीं है। इस लेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई है।लेख में प्रस्तुत कोई भी सूचना या तथ्य या व्यक्त विचारधारा समयधारा की नहीं है और समयधारा इसके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी या जवाबदेयी नहीं है।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error:
Close