रोजाना 1 लाख तो त्योहारों में 5 लाख लोग सिर्फ दिल्ली गुरूद्वारे में खाते हैं लंगर प्रसाद

नई दिल्ली, 17 जून : दिल्ली के 10 ऐतिहासिक गुरुद्वारों में रोजाना लगभग एक लाख लोग लंगर प्रसाद ग्रहण करते हैं।

इसमें चपाती, दाल, सब्जी, खीर, सलाद आदि पूर्ण डाइट शामिल होती है।

जबकि गुरुपर्व होली, दीपावली तथा सप्ताह के अंतिम दिनों में इनकी संख्या बढ़कर लगभग पांच लाख तक पहुंच जाती है।

इन गुरुद्वारों के लंगर स्वच्छता, गुणवत्ता, पौष्टिकता और शुद्धता के मामले में केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के संगठन फूड सेफ्टी स्टैंडर्ड आथॉरिटी आफ इंडिया के सख्त मापदंडों पर खरे उतरे हैं।

इन गुरुद्वारों में विभिन्न साधनों के उपयोग से आम जनमानस को प्रदान किए जाने वाले लंगर प्रसाद को ज्यादा स्वास्थ्यवर्धक और पौष्टिक बनाया गया है ताकि समाज के श्रमिक वर्ग को सेहतमंद बनाया जा सके, जोकि अपने आहार के लिए मुख्यत: गुरुद्वारों के लंगर पर निर्भर रहते है।

नई दिल्ली के बंगला साहिब गुरुद्वारे में देश के विभिन्न हिस्सों से अपनी शिकायतों, मांगों को लेकर आने वाले आंदोलनकारियों, धरना-प्रदर्शनकारियों को नियमित रूप से ‘घर का खाना’ मुहैया कराया जाता है।

यहां जाति, धर्म, क्षेत्र एवं राजनैतिक भेदभाव के बिना लंगर प्रदान किया जाता है।

गुरुद्वारों में लंगर की गुणवत्ता, स्वच्छता, पौष्टिकता आदि सुधारने के लिए प्रबंधकसमीतियों का गठन किया गया है।

इसके अंतर्गत देशी घी, खाद्य तेल आदि को प्रयोग से पहले सरकारी प्रयोगशाला में जांच परखा जाता है जबकि सब्जियों की ताजगी तथा पौष्टिकता को सुनिश्चित करने के लिए सीधे आजादपुर मंडी से खरीदा जाता है।

दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष मंजीत सिंह जीके ने बताया, “सभी लंगर रसोइयों को पीला एप्रॉन, दस्ताने और पगड़ी पहनना अनिवार्य किया गया है ताकि सभी प्रकार के प्रदूषण को रोका जा सके।

उन्होंने कहा कि लंगर रसोइये का शारीरिक, मानसिक रूप से दृढ़ होना अनिवार्य है और किसी भी संक्रमण रोगी को लंगर बनाने की कतई अनुमति प्रदान नहीं की जाती।”

उन्होंने बताया कि प्रत्येक लंगर परिसर पूरी तरह वायु प्रवाहक है और रसोई परिसर की संगमरमर टाइलों को दिन में बार-बार धोया जाता है।

मंजीत सिंह जीके ने बताया कि लंगर में चपाती बनाने के लिए आधुनिक मशीन लगाई गई है।

उन्होंने कहा कि बचे हुए भोजन, फलों आदि को बड़ी ट्रालियों में ढक कर रखा जाता है।

उन्होंने कहा कि स्थानीय निकायों से नजदीकी समन्वय स्थापित करके सभी प्रकार के रोगों की रोकथाम और बचाव के समयबद्ध तरीके से उचित प्रबन्ध किए जाते हैं।

लंगर श्रद्वालुओं को स्वच्छ पेयजल प्रदान करने के लिए गुरुद्वारा परिसर में आर.ओ. लगाए गए हैं।

उन्होंने कहा कि प्रबन्धक समिति ने लंगर रसोइयों को खाना बनाने की नवीनतम तकनीक, उपकरणों तथा परंपराओं के प्रति कार्य कुशल बनाने के उद्देश्य से प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए एक गैर सरकारी संगठन का सहयोग लिया है।

गुरुद्वारा के लंगर की गुणवत्ता, महक, स्वाद तथा पौष्टिकता में पिछले कुछ समय से महत्वपूर्ण सुधार दर्ज किया गया है।

–आईएएनएस

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error:
Close