Trending

मध्य प्रदेश चुनाव : क्या कांग्रेस पार्टी को खुद कांग्रेस ही हराती है

नई दिल्ली, 30 अक्टूबर : मौजूदा दौर की सियासत में अगर नज़र डाली जाए तो देश में सियासी सरगर्मियां बढ़ गयीं हैं |

दोनों ही प्रमुख पार्टियों नें अपनी कमर कस ली है,और किसी भी तरह सत्ता के शिखर पर पहुंचना चाहतीं हैं |

बीजेपी तो फिर भी काफी हद तक अपनी पैरेंट आर्गेनाइजेशन आरएसएस की तरह

एक निश्चित विचारधारा के साथ आगे बढ़ रही है | लेकिन कांग्रेस के अन्दर खासकर

दो प्रमुख राज्य मध्यप्रदेश और राजस्थान में सबकुछ सही नज़र नहीं आता |

बटी बटी नज़र आती है सरकार (कांग्रेस) –

मध्यप्रदेश के अन्दर तो एक कहावत भी चलती है|जो कि कांग्रेस की छोटी छोटी इकाइयों में भी प्रसिद्ध है कि

कांग्रेस को कोई और नहीं कांग्रेस खुद हराती है | ऐसी कहावत चले भी क्यूँ न ,

क्यूंकि अगर आप मध्यप्रदेश की सियासत को करीब से देखेंगें तो आपको कांग्रेस पार्टी एक नहीं कई धड़ों में बटी हुई नज़र आएगी |

विन्ध्य क्षेत्र का एक धड़ा जहाँ से कांग्रेस के पूर्व कद्दावर नेता अर्जुन सिंह के सुपुत्र और वर्तमान में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह आते हैं |

राघवगढ़ से पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह जो अपनी अलग ही धुन में चल रहें हैं |

कभी नर्मदा यात्रा के लिए निकल जाते हैं, तो कभी चुनावी सभा में भाषण देने ही नहीं आते |

ग्वालियर राज परिवार से आने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया का अपना एक अलग ही जनता का समावेश है |

जहाँ से बीच बीच में अबकी बार सिंधिया सरकार के नारे आते रहते हैं |

वहीँ सिंधिया भी अपने हाव भाव से मुख्यमंत्री वाली हवा को और तेज़ कर ही देतें हैं |

वहीँ अपनी केंद्र की राजनीति के लिए मशहूर , पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गाँधी के ख़ास रह चुकें कमलनाथ को प्रदेश का ज़िम्मा देकर,

कांग्रेस नें खुद ही एक नए धड़े को जन्म दे दिया था |

साथ ही साथ मुख्यमंत्री के एक और दावेदार को जनता के सामने लाकर खड़ा कर दिया था |

वहीँ मध्यप्रदेश कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अरुण यादव के भी पार्टी से तल्खिये रिश्तें चल रहें हैं |

कहीं न कहीं अध्यक्ष पद से हटाने से उनकी भी पार्टी से नाराज़गी चल रही है |

जो कि चुनावी रैलियों में साफ़-साफ़ नज़र आ जाती है |

एक अनार सौ बिमार जैसी कहानी –

मुख्यमंत्री का पद तो एक ही है ,वो किसी एक को ही मिलेगा | पर उसके दावेदार पार्टी के अन्दर कई नज़र आते हैं |

कोई बड़ा नेता भले ही खुलकर इस बात को स्वीकार ना करे पर सबकी महत्वकांछा  तो इसी ओर इशारा करती है |

बकौल कांग्रेस, मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार की घोषणा ना करना कांग्रेस की चुनावी रणनीति हो सकती है |

पर कहीं ये रणनीति कांग्रेस पर ही भारी ना पड़ जाए |

क्यूंकि आप जनता को संशय में रखकर अपने भीतरी घात नहीं छुपा सकते |

लोकतंत्र में जनता अपने जनप्रतिनिधि के चेहरे पर ही वोट देती है ,

सत्ताधारी पार्टी की सत्ताविरोधी लहर भी ख़त्म हो सकती है ,

अगर आप इसी तरह अलग थलग संशय में दिखने वाले आर्गेनाइजेशन के तौर पर चुनाव लड़े |

 

 

 

डिस्क्लेमर(अस्वीकरण): इस लेख में प्रस्तुत विचार लेखिका के व्यक्तिगत है। लेख में व्यक्त किसी भी सूचना की सच्चाई,सटीकता,संपूर्णता और व्यावहारिकता के प्रति समयधारा उत्तरदायी नहीं है। इस लेख में सभी सूचनाएं ज्यों की त्यों प्रस्तुत की गई है।लेख में प्रस्तुत कोई भी सूचना या तथ्य या व्यक्त विचारधारा समयधारा की नहीं है और समयधारा इसके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी या जवाबदेयी नहीं है।

 

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error:
Close