breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंब्लॉग्सविचारों का झरोखा
Trending

रक्षा बंधन-15 अगस्त स्पेशल : रक्षाबंधन पर बहनें माँगे सैनिक भाईयों के लिए भी दुआ

Raksha-Bandhan-15-August-Special-Sisters-Pray-Protection-for-Soldiers-on-Rakhi
नई दिल्ली,13 अगस्त (समयधारा) :  भाई -बहन का पावन त्योंहार राखी व राष्ट्रीय पर्व 15 अगस्त एक साथ देश में हर्षोल्लास से मनाये जायेंगा।
दोनों पर्व हमारे लिए रक्षा की मिशाल हैं। उधर बहनें अपने भाईयों को राखी बाँध अपनी रक्षा का वादा लेती हैं,
वह भाईयों की लंबी उम्र की कामना करती हैं।उधर स्वतंत्रता दिवस हमारे सैनिकों की शहीदी व दिन रात,
हमारी चौकसी में तैनात अपनी हर कुर्बानी की कहानी याद करा जाता है।
जाने कितने देशभक्तों ने देश को स्वतंत्र कराने के लिए अपने प्राण न्योछावर कर दिये,
और न जाने कितने इसकी इस स्वतंत्रता पर आँच न आने देने के लिए व इसकी सुरक्षा का भार अपने कँधों पर उठा बोर्डर पर तैनात हैं।
चाहें सुरक्षाकर्मी हो,पुलिसकर्मी हो या हमारी तीनों सेनाओं के जवान जिनका हर त्योंहार का जश्न,
सिर्फ हमारी सुरक्षा व खुशी देने में ही है। हम उनकी खुद की रक्षा व लंबी आयु की कामना ईश्वर से करना कैसे भूल सकते हैं।
राखी के पर्व पर जहाँ बहनें भाईयों को राखियां बाँधेगी वहीं जो भाई दूर बैठें हैं उनको ऑनलाइन,
पोस्ट या किसी अन्य जरिए से राखियां भेजेंगीं।सुंदर- सुंदर मनमोहने वाली राखियां बाजारों से भरपूर हैं तो पतंगों की भी भरमार है।
Raksha-Bandhan-15-August-Special-Sisters-Pray-Protection-for-Soldiers-on-Rakhi
जिन बहनों के भाई सुरक्षा के लिए तैनात हैं जिनको न जाने अंतिम बार कब बहनों के हाथ से राखी बँधवाना नसीब हुआ था,
वे सिर्फ अपनी बहनों की ही नहीं हर बहन और हर भाई की रक्षा का वादा पूरा करने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं।
राखी का इतिहास लगभग 6000 साल पुराना बताया जाता है ।
सिंधुघाटी की सभ्यता से लेकर राजा -महाराजाओं के जमाने में भी इतिहास इसका गवाह है।
मध्यकालीन युग में राजपूत और मुस्लिमों के बीच संघर्ष चल रहा था,
तब चित्तौड़ के राजा की विधवा रानी कर्णावती ने गुजरात के सुल्तान बहादुर शाह से अपनी और,
अपनी प्रजा की सुरक्षा का कोई रास्ता न निकलता देख  हुमायूं को राखी भेजी थी।
तब हुमायूं ने उनकी रक्षा कर उन्हें बहन का दर्जा दिया था।  ऐसे अनेक उदाहरण मिल जायेंगे।
 द्रोपदी ने कृष्ण को भाई माना बदले में चीरहरण के वक्त चीर बढ़ा अपनी रक्षा का दायित्व निभाया।
इसलिए मेरी हर बहन से विनम्र निवेदन है कि अपने भाईयों के साथ उन सैनिक भाईयों को भी न भूलें,उनका जज्बा
जैसे कभी कम नहीं पड़ता वे भी उनके इस प्रयास, उनकी कुशलता व  दीर्घ आयु के लिए कामना ईश्वर से सदैव नेक करें।
“जय हिंद!”
जो हम यहाँ हर पल चैन आजादी की साँस लेते हैं न
यह हमारे उन्हीं सैनिक भाईयों की सुरक्षा बदौलत है
बिन किसी स्वार्थ के दिन-रात प्रहरी बन अडिग खड़े
किसी एक के भाई नहीं वो जो अंतिम साँस तक लड़े
हर दुआ उनके लिए कम वे देश की अमूल्य दौलत हैं।
Raksha-Bandhan-15-August-Special-Sisters-Pray-Protection-for-Soldiers-on-Rakhi
Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: