breaking_news Home slider अन्य ताजा खबरें देश राज्यो की खबरें

महंगाई में घर मिलेगा सस्ता, नोटबंदी ने बनाया बड़ा रस्ता

सस्ते हुए मकान

एक तरफ लोग लाइनों में लगे पड़े है l जहां-तहां लोगों को छुट्टे पैसो की किल्लत हो रही है l सरकार कह रही है की ईमानदार खुश है, तो विपक्ष कह रहा है आम आदमी त्रस्त व परेशान l क्या है सच्चाई यह तो आने वाला वक़्त ही बताएगा, पर इन सबके बीच मोदी की नोटबंदी के कारण बहुत लोगों का सपना सच हो सकता है l हमारे रिसर्च के मुताबिक़ भारत में रियल स्टेट के अन्दर काफी बड़ा बदलाव आया l जो घर-मकान-दुकान आपको ओने-पोने दामो में मिलते थे, वही 2007 के बाद आपके और हमारे लिए एक सपना हो गया और आम आदमी का अगर सपना सच हो जाए तो उससे ख़ुशी की बात क्या हो सकती हैl मकानों की कीमत आसमान छु रही हैl लोगो को अपना मकान खरिदने के लिए सोचना पड़ता था l वही इस नोटबंदी की वजह से बहुत से लोगो के सपने सच हो सकते है l बस जरुरत है तो कुछ जानने और समझने की l आइएं हम बताते है कि किस तरह आप इस महंगाई के इस दौर में व इस नोटबंदी के बीच सस्ता मकान कैसे ले सकते हैl 1)सबसे पहले हमें यह देखना है कि हमारा बजट कितना और क्या है l (हमारी कुल जमा पूंजी कितनी हैl) 2)हमें सरकार से कितना ऋण मिल सकता है (आपके कर्ज की सीमा) 3)कुछ बिल्डर पैसों की कमी के वजह से मकान में भारी डिस्काउंट दे रहे हैl उनके बारे में जाननाl लगातार हर तरफ से जानकारी इकठ्ठा करना l (रियल स्टेट एजेंट, लोकल समाचार पत्र, दोस्त यार, रिश्तेदार सब से संपर्क में रहना) 4)सही वक़्त पर बिल्डरों से संपर्क करना l (काले धन यानि की नोटबंदी की वजह से रियल स्टेट में ग्राहक नदारद है, पैसो की किल्लत व सही समय पर मकान न बिक पाने की वजह से उनकी लागत पर असर पड़ता हैl इस वजह से वो अपने मकान कम कीमतों पर बैच कर अपने होनेवाले नुकसान की भरपाई करते हैl) 5)नोटबंदी की वजह से कुछ लोगों का (बिल्डर के अलावा) मकानों का औने-पौने दामों में बेचनाl 6)सबसे बड़ी और आखिरी बात आपका ईमानदार होना आपको सस्ते मकान दिला सकता है l सरकार ने कहा है कि हर राज्य में दो से ज्यादा मकान एक ही के नाम होने चाहिए l इससे ज्यादा अगर हुए तो सरकार उन पर कार्रवाई करेंगी.. ऐसे समाचार इन दिनों हमें मिले है l तो एक बड़ी वजह यह भी है की मकान आपको सस्ते में आपके रिश्तेदार ही दे दे!!!

About the author

समय धारा

Add Comment

Click here to post a comment