breaking_news Home slider अन्य ताजा खबरें अपराध देश

हैदराबाद बम ब्लास्ट के लिए यासीन भटकल को सजा-ए-मौत

यासीन भटकल(गूगल)

नई दिल्ली, 19 दिसंबर: आज राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की स्पेशल कोर्ट ने 2013 में हुए हैदराबाद बम ब्लास्ट केस को जघन्य अपराध का मामला मानते हुए मुख्य आरोपी और इंडियन मुजाहिद्दीन (आईएम) के सहायक फाउंडर यासीन भटकल और चार अन्य आतंकियों को मौत की सजा सुना दी। गौरतलब है कि एनआईए कोर्ट ने इन लोगों को 13 नवंबर को इस मामले में दोषी करार दिया था।

राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने अपनी चार्जशीट में हैदराबाद बम ब्लास्ट के लिए छह लोगों को कसूरवार ठहराया था। इस ब्लास्ट का मास्टरमाइंड रियाज भटकल था। उसने ही इस कृत्य को पाकिस्तान के कराची से अंजाम दिया था। इसके अलावा यूपी का असदुल्लाह अख्तर, बिहार का तहसीन अख्तर, महाराष्ट्र का एजाज शेख, पाकिस्तान का जिया उर रहमान और कर्नाटक का यासीन भटकल अभियुक्त थे। हैदराबाद की चेरलापल्ली सेंट्रल जेल में इन पांचों को गिरफ्तार कर बंद कर दिया गया था।

हैदराबाद के दिलसुखनगर में 21 फरवरी 2013 को दो बम ब्‍लास्‍ट हुए थे। इसमें कम से कम 17 लोगों की मौत हो गई थी और 131 से ज्‍यादा लोग घायल हुए थे। यासीन भटकल समेत मौत की सजा पाने वाले पांचों आतंकवादियों ने हैदराबाद के दिलसुखनगर  में 21 फरवरी 2013 को दो जगह बम ब्लास्ट किए थे। पहला, शाम 7 बजे कोणार्क थियेटर के सामने और दूसरा, उसके कुछ मिनटों बाद दिलसुखनगर बस स्टैंड के समीप और तब  इस ब्लास्ट में तकरीबन 17 लोगों की मौत हो गई थी और 131से ज्यादा इस ब्लास्ट में घायल हो गए थे।

इस फैसले पर स्‍पेशल पब्लिक प्रॉसिक्‍यूटर उज्‍ज्‍वल निकम ने कहा, ‘यह एक ऐतिहासिक फैसला है क्‍योंकि पहली बार यासीन भटकल को दोषी पाया गया है और उसे सजा सुनाई गई है। देश के कई शहरों में हुए बम धमाकों में उसका हाथ रहा है।’

यासीन भटकल समेत आईएम के 4 आतंकियों को मिली सजा-ए-मौत के फैसले का स्वागत करते हुए स्पेशल पब्लिक प्रॉसिक्यूटर उज्जवल निकम ने कहा कि “यह एक ऐतिहासिक फैसला है। भटकल ने देश के कई शहरों में बम ब्लास्ट किए थे”

 

About the author

समय धारा

Add Comment

Click here to post a comment

अन्य ताजा खबरें