breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशदेश की अन्य ताजा खबरेंबिजनेसबिजनेस न्यूज
Trending

मोदी सरकार के दूसरें कार्यकाल का पहला बजट, उम्मीदें-चेलेंजेंस व रोजगार

जानियें बजट 2019 के बारें में, आखिर क्या है मोदी सरकार के पिटारें में

Modi Sarkar ka Budget-2019

नई दिल्ली, 4 जुलाई 2019 (समयधारा) : बजट आने में बस अभी कुछ घंटे ही रह गए है l

पहली बार देश की फुल टाइम महिला वित्त मंत्री बजद पेश करेगी l मोदी के पहले कार्यकाल में रक्षामंत्री रह चुकी

निर्मला सीतारमण बजट पेश करने के साथ ही कई अनोखे रिकॉर्ड अपने नाम भी करेगी l

उनके लिए बजट पेश करना उतना चैलेंज भरा नहीं होगा l जितना स्लो इकोनोमिक और रोजगार के क्षेत्र से निपटने को होगा l

आज के इकोनॉमिक सर्वे के बाद अब सबकी निगाहें कल आने वाले बजट पर टिकी हैं।

Modi Sarkar ka Budget-2019

देश की पहली फुल टाइम महिला वित्त मंत्री निर्मला सीतारामन पहली बात बजट पेश करेंगी।

मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में ये पहला बजट है। वित्त मंत्री के सामने सरकार की लोकप्रिय

योजनाओं के लिए धन जुटाना एक चुनौती होगी। देश में रोजगार 45 साल के निचले स्तर पर है।

उम्मीद करनी चाहिए कि इकोनॉमिक सर्वे में 7 फीसदी ग्रोथ का आशावाद जगाने के बाद कल वित्त मंत्री बजट में

इसे हासिल करने का रोड मैप पेश करेंगी। वित्त मंत्री को वित्तीय घाटे को भी GDP के 3.4 फीसदी तक बनाए रखने की चुनौती है।

वित्त मंत्री पर इकोनॉमी से सुस्ती दूर करने और कृषि, निवेश, कंजम्पशन को धक्का देने का दवाब भी है।

लेकिन इन सबके बीच अलग-अलग तबकों को राहत भी मिल सकती है।

अब मोदी सरकार की चुनाव बाद सबसे बड़ी चुनौती होगी रोजगार के क्षेत्र में जो कमी आयी है l

देश में रोजगार जो 45 साल के निचले स्तर पर आ गया है उसे भरना और रोजगार पैदा करना होगा l

विपक्ष के तमाम हमलों के जवाब के साथ-साथ बजट से लोगों के दिल को जितने का भी होगा l

उम्मीदों पर खरा उतरने पर भी होगा l आगे के पांच साल की रूपरेखा तय करेगा यह बजट l 

Modi Sarkar ka Budget-2019 

Tags

Dharmesh Jain

धर्मेश जैन एक स्वतंत्र लेखक है और साथ ही समयधारा के को-फाउंडर व सीईओ है। लेखन के प्रति गहन रुचि ने धर्मेश जैन को बिजनेस के साथ-साथ लेख लिखने की ओर प्रोत्साहित किया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: