breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशराजनीति
Trending

साजिश में फंसे CJI- SC ने दिए जांच के आदेश, पूर्व जज एके पटनायक करेंगे जांच

सुप्रीम कोर्ट की पूर्व जूनियर महिला कर्मचारी ने चीफ जस्टिस रंजन गोगोई पर यौन-शोषण के आरोप लगाएं है और इसी मसले को लेकर चीफ जस्टिस के खिलाफ सुनवाई हो रही है

नई दिल्ली,25 अप्रैल :Conspiracy against CJI Ranjan Gogoiचीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (CJI) के खिलाफ साजिश हुई है और सुप्रीम कोर्ट ने इसकी जांच के आदेश दे दिए है। CJI रंजन गोगोई के खिलाफ रची गई साजिश (Conspiracy against CJI Ranjan Gogoi) की जांच सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज एके पटनायक करेंगे। सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया है कि इस जांच में सीबीआई,आईबी और दिल्ली पुलिस मदद करें।

दरअसल, सुप्रीम कोर्ट के वकील उत्सव बैंस का कहना था कि भारत के प्रधान न्यायधीश के खिलाफ साजिश रची जा रही है। इसपर सुप्रीम कोर्ट की स्पेशल बेंच ने कहा है कि इन दावों की जांच रिटायर जस्टिस एके पटनायक करेंगे।

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट की पूर्व जूनियर महिला कर्मचारी ने चीफ जस्टिस रंजन गोगोई (CJI Ranjan Gogoi) पर यौन-शोषण के आरोप लगाएं है और इसी मसले को लेकर चीफ जस्टिस के खिलाफ सुनवाई हो रही है।

सुप्रीम कोर्ट के वकील बैंस ने एक हलफनामा दायर करके कहा था कि भारत के प्रधान न्यायधीश के खिलाफ साजिश करके उन्हें यौन शोषण के केस में फंसाया जा रहा है।

ध्यान दें कि CJI के खिलाफ साजिश के दावों पर सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को कहा था जिस प्रकार से इस संस्था से पेश आया जा रहा है, उससे हम नाराज है…अगर ऐसा होगा तो हम काम नहीं कर सकेंगे।  

सुप्रीम कोर्ट ने सीजेआई के खिलाफ षड्यंत्र से जुड़े दावों पर कहा है कि इस संस्था को बदनाम करने की साजिश एक सोचा-समझा हमला है और सोचा-समझा खेल खेला जा रहा है।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि 4 से 5 प्रतिशत वकील ऐसे है जो इस महान संस्था को बदनाम कर रहे है।

उन्होंने आगे कहा कि ‘अब समय आ गया है कि हम खड़े हों और देश के अमीर एवं ताकतवर लोगों को बताएं कि वे ऐसा नहीं कर सकते।’ इस मामले की सुनवाई जस्टिस अरुण मिश्रा, न्यायमूर्ति आर. एफ. नरीमन और न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता की पीठ इसकी सुनवाई कर रही थी।

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने उच्चतम न्यायालय में फिक्सिंग के दावों और सीजेआई रंजन गोगोई पर लगाएं गए यौन उत्पीड़न के आरोपों के लिए कहा कि ये ‘अत्यधिक संवेदनशील’ है और कोर्ट की जिम्मेदारी है कि कोर्ट को पाक-साफ रखा जाए,जिससे छवि धूमिल न हो।

जज अरूण मिश्रा की अध्यक्षता वाले तीन जजों की विशेष पीठ ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट की पीठ में ‘फिक्सिंग’ के विषय में वकील उत्सव सिंह बैंस ने हलफनामा दायर करके जो आरोप लगाए और जिन नामों का खुलासा किया है वो बहुत ही सीरियस पहलू है। स्पेशल बेंच ने कहा कि, ‘यह हमारी जिम्मेदारी बनती है कि संस्था (अदालत) को पाक – साफ रखा जाए और यह सुनिश्चित किया जाए कि इस तरह के आरोपों से इस संस्था की छवि धूमिल ना हो…’

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: