Trending

#DUSUresults: DUSU इलेक्शन में ABVP की अध्यक्ष समेत तीन पदों पर जीत, NSUI को  सचिव का  एक पद

ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी की खबरों के बीच दिल्ली के मुख्य चुनाव अधिकारी की ओर से कहा गया है कि DUSU चुनावों के लिए उन्होंने ईवीएम मशीनें मुहैया ही नहीं कराई तो अब सवाल उठ रहा है कि फिर DUSU में ईवीएम मशीनें आई कहां से?

नई दिल्ली ,14 सितंबर:  #DUSUresults: ABVP wins three posts and NSUI grab one : DUSU यानि  दिल्ली यूनिवर्सिटी छात्र संघ चुनावोंं में फिर से ABVP ने बाजी मार ली है और अध्यक्ष समेत तीनों सीटों को जीत लिया है। वहीं NSUI को इस बार केवल एक ही सीट मिली है। इतना ही नहीं, पहली बार आम आदमी पार्टी ने लेफ्ट के साथ मिलकर लड़ा DUSU चुनाव करारी हार के साथ खो दिया है।

DUSU अध्यक्ष पद पर  ABVP  के उम्मीदवार अंकिव बसोया  ने विजय हासिल की और साथ ही उपाध्यक्ष व संयुक्त सचिव की पोस्ट पर भी ABVP उम्मीदवारों ने ही जीत का परचम लहराया है। इस बार NSUI को केवल एक पद सचिव का मिला है। ABVP की ओर से  DUSU उपाध्यक्ष शक्ति सिंह, संयुक्त सचिव पद पर ABVP  के ही ज्योति चौधरी  और NSUI  की ओर से सचिव पद पर आकाश चौधरी  ने विजय हासिल की है।

फिर दिखाया ईवीएम मशीनों ने कमाल?

DUSU चुनावों में भी ईवीएम मशीनों की गड़बड़ी की खबरें मिलने पर शुरूआत के कुछ घंटो में वोट काउंटिंग रोक दी गई और साथी संगठनों इसका कड़ा विरोध भी किया। एनएसयूआई (NSUI) जोकि कांग्रेस से जुड़ा संगठन है, ने ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी की खबर मिलने पर दोबारा नए सिरे से चुनाव कराने को कहा लेकिन आरएसएस के छात्र संगठन ABVP ने काउंटिंग को दोबारा शुरू करने को कहा और फिर काउंटिग दोबारा से शुरू कर दी गई।

काउंटिंग यानि मतगणना रुकने से पहले कांग्रेस का छात्र संगठन NSUI अध्यक्ष पद पर लीड कर रहा था लेकिन उपाध्यक्ष पद पर ABVP का उम्मीदवार आगे था। इस दौरान ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी की खबरें आई तो एक घंटे के लिए मतगणना रोक दी गई। जब छात्रों अपनी आपत्ति जताई तो इलेक्शन ऑफिसर्स ने काउंटिंग रोकने का निर्णय लिया। एक इलेक्शन ऑफिसर ने बताया कि डिटेल में  डिस्कशन के बाद यह निर्णय लिया गया है कि काउंटिंग आज दोबारा से शुरू होगी और इस बात पर सभी उम्मीदवार बाद में सहमत हो गए।

सूत्रों से पता चला है कि एक ईवीएम में 10वें नंबर के बटन पर कुल 40 वोट डाले गए है जबकि नोटा समेत कुल उम्मीदवार 9 है । दूसरे शब्दों में कहा जाए तो कायदे से 10 वें नंबर का बटन वर्क नहीं करना चाहिए लेकिन फिर भी उससे वोट डाले गए। वैसे इस बात के लिए फिलहाल आधिकारिक स्टेटमेंट या बयान नहीं दिए गए है। इतना ही नही, इस बात पर  तोड़फोड़ के दौरान  ABVP के सचिव पद के उम्मीदवार को चोट भी लगी।

इस बाबत NSUI के उम्मीदवारों की ओर से कहा गया है कि हमारी जीत अध्यक्ष और सचिव पद पर सुनिश्चित थी लेकिन उसी समय अचानक ईवीएम में गड़बड़ी होनी शुरू हो गई। इससे स्पष्ट है कि भाजपा समर्थित ABVP ने जीत हासिल करने के लिए डर्टी गेम खेला। इतना ही नहीं, NSUI के नेशनल प्रेजिडेंट फिरोज खान ने कहा कि हम लोग चारों सीटें जीत रहे थे लेकिन केंद्र सरकार ने इनमें गड़बड़ी कर दी। इधर, दिल्ली के मुख्य चुनाव अधिकारी की ओर से कहा गया है कि DUSU चुनावों के लिए उन्होंने ईवीएम मशीनें मुहैया ही नहीं कराई तो अब सवाल उठ रहा है कि फिर दिल्ली छात्र संघ चुनावों में ईवीएम मशीनें आई कहां से?

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error:
Close