breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशराजनीति
Trending

Breaking News: पूर्व वित्तमंत्री,भाजपा नेता अरुण जेटली का एम्स में निधन

12.07pm पर ली उन्होंने अंतिम सांस,

former finance minister Arun Jaitley passes away-

नई दिल्ली, 24 अगस्त (समयधारा) : पूर्व वित्तमंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली का आज एम्स में निधन हो गया। उन्हें सांस लेने में तकलीफ के चलते शनिवार (9अगस्त 2019) सुबह ही एम्स में भर्ती कराया गया था। उनका निधन आज दिनक 24 अगस्त को हो गया l 

66 वर्षीय अरुण जेटली की मौत भाजपा और देश की राजनीति के लिए एक और बड़ी क्षति है। अभी 6 अगस्त 2019 को ही पूर्व विदेशमंत्री और भाजपा की वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया था।

अब अरुण जेटली की मौत (Arun Jaitley dies) भाजपा व देश के लिए एक बहुत बड़ा आघात है।

गौरतलब है कि अरुण जेटली पिछले काफी समय से अस्वस्थ चल रहे थे और इसी के चलते उन्होंने लोकसभा चुनाव 2019 भी नहीं लड़ा था।

मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में बतौर वित्तमंत्री अरुण जेटली ने कार्यभार संभाला था।

जबकि 2014 को लोकसभा चुनाव को अरुण जेटली हार गए थे।

फिर भी पीएम मोदी ने अरुण जेटली को अपनी अपनी कैबिनेट में सबसे अहम पद वित्तमंत्री का दिया था।

2016 में नोटबंदी और फिर 2017 में देश में जीएसटी लगाने में बतौर वित्तमंत्री अरुण जेटली का प्रमुख योगदान रहा है।

लोकसभा स्पीकर ओम बिड़ला भी अरुण जेटली को देखने एम्स पहुंच चुके थे। पीएम मोदी और स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन , गृहमंत्री अमित शाह भी  उन्हें देखने एम्स पहुंच गए थे।

गौरतलब है कि अरुण जेटली का इलाज (Arun Jaitley treatment) कार्डियोलॉजिस्ट और नेफ्रोलॉजिस्ट डॉक्टरों की देखरेख में हो रहा था।

कार्डियोलॉजी विभाग के प्रमुख डॉक्टर वीक बहल अरुण जेटली का इलाज कर रहे है। जेटली को देखने सभी वरिष्ठ भाजपा सांसद,नेता एम्स पहुंच चुके थे।

अरुण जेटली का बीते वर्ष किडनी प्रत्यार्पण हुआ था। लेकिन इसके बाद अरुण जेटली बाएं पैर में सॉफ्ट टिशू कैंसर से पीड़ित हो गए थे। इसकी सर्जरी के लिए जेटली इसी साल जनवरी में अमेरिका रवाना हुए थे।

ध्यान दें कि मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में किसी भी मंत्रिपद को स्वीकार न करने की इच्छा खुद अरुण जेटली ने चिट्ठी लिखकर जताई थी।

पीएम मोदी को लिखे अपने खत में अरुण जेटली ने कहा था कि वे अपने स्वास्थ्य कारणों की  वजह से मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल में मंत्री नहीं बनना चाहते।

जेटली राज्यसभा के सदस्य थे। बीते 18 महीनों से वे विभिन्न स्वास्थ्य बीमारियों से पीड़ित थे।

यही कारण है कि फ्यूचर में किसी भी जिम्मेदारी को वे निभाना नहीं चाहते थे और पूरी तरह स्वास्थ्य लाभ ले रहे थे।

उनकी दर्दननाक मौत ने भारतीय राजनीति के एक और कद्दावार नेता का अध्याय खत्म कर दिया है।

गौरतलब है कि अगस्त का महीना भाजपा पार्टी के लिए पिछले एक साल से बहुत मारक साबित हो रहा है।

पिछले साल 16 अगस्त 2018 को देश के पूर्व प्रधानमंत्री और भाजपा के संस्थापक सदस्य अटल बिहारी वाजपेयी का निधन हुआ था।

इसके बाद इसी साल 6 अगस्त 2019 को पूर्व विदेशमंत्री और भाजपा की वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज का भी दिल का दौरा पड़ने से देहांत हो गया।

और आज 9 अगस्त 2019 को पूर्व वित्तमंत्री और भाजपा के कद्दावर नेता अरुण जेटली का निधन (Arun Jaitley died) हो गया है।

former finance minister Arun Jaitley passes away

Breaking: पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का पार्थिव शरीर पंचतत्व में विलीन, नम आंखों से विदाई 

Breaking News : पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज का AIIMS में निधन

 

Tags

Reena Arya

रीना आर्य एक ज्वलंत और साहसी पत्रकार व लेखिका है। वे समयधारा.कॉम की एडिटर-इन-चीफ और फाउंडर भी है। लेखन के प्रति अपने जुनून की बदौलत रीना आर्य ने न केवल बड़े-बड़े ब्रांड्स में अपने काम के बल पर अपनी पहचान बनाई बल्कि अपनी काबलियत को प्रूव करते हुए पत्रकारिता के पांच से छह साल के सफर में ही अपने बल खुद एक नए ब्रैंड www.samaydhara.com की नींव रखी।रीना आर्य हर मुद्दे पर अपनी बेबाक राय रखने पर विश्वास करती है और अपने लेखन को लगभग हर विधा में आजमा चुकी है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: