होम > देश > राजनीति > Breaking: जज पिनाकी चंद्र घोष बने भारत के पहले ‘लोकपाल’
breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशराजनीति
Trending

Breaking: जज पिनाकी चंद्र घोष बने भारत के पहले ‘लोकपाल’

16 जनवरी 2014 को लोकपाल अधिनियम को अधिसूचित किए जाने के लगभग पांच साल बाद जस्टिस पीसी घोष की नियुक्ति हुई है

नई दिल्ली,19 मार्च: India first Lokpal Justice Pinaki Chandra Ghoseसुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज पिनाकी चंद्र घोष (Pinaki Chandra Ghose) को मंगलवार को राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद द्वारा भारत का पहला लोकपाल (#Lokpal) या भ्रष्टाचार विरोधी निगरानी दल (India first Lokpal Justice Pinaki Chandra Ghose) नियुक्त किया गया

इस खबर के साथ ही ट्विटर पर #Lokpal हैशटैग ट्रेंड करने लगा।

न्यायमूर्ति दिलीप बी भोसले, न्यायमूर्ति पी के मोहंती, न्यायमूर्ति अभिलाषा कुमारी और न्यायमूर्ति एके त्रिपाठी को न्यायिक सदस्य नियुक्त किया गया है।

भारत के राष्ट्रपति ने दिनेश कुमार जैन, अर्चना रामासुंदरम, महेन्द्र सिंह और आईपी गौतम को सदस्य नियुक्त किया है।

16 जनवरी 2014 को लोकपाल अधिनियम को अधिसूचित किए जाने के लगभग पांच साल बाद जस्टिस पीसी घोष की नियुक्ति हुई है।

कौन होता है लोकपाल?

लोकपाल एक तीन सदस्यीय, भ्रष्टाचार रोधी प्रहरी है जिसमें एक अध्यक्ष, एक न्यायिक और गैर-न्यायिक सदस्य होते हैं। लोकपाल के सदस्यों में आठ सदस्य शामिल होंगे – उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश और सिविल सेवक।

कानून लोकसेवकों के खिलाफ भ्रष्टाचार के मामलों की जांच के लिए केंद्र में लोकपाल और राज्यों में लोकायुक्तों के लिए प्रावधान करता है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई, लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन, और रविवार (17 मार्च) को प्रख्यात न्यायविद मुकुल रोहतगी की एक चयन समिति की बैठक में पीसी घोष का नाम अंतिम रूप दिया गया और उनकी सिफारिश की गई।

लोकसभा में विपक्ष के नेता और कांग्रेस सदस्य, मल्लिकार्जुन खड़गे, जो समिति का हिस्सा हैं, बैठक में शामिल नहीं हुए।

कौन है पिनाकी चंद्र घोष ?

न्यायमूर्ति घोष, 67, जो जून 2017 से राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (NHRC) के सदस्य हैं, 27 मई, 2017 को सुप्रीम कोर्ट से सेवानिवृत्त हुए। उन्होंने 8 मार्च, 2013 को सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश के रूप में पदभार ग्रहण किया था। लोकपाल खोज समिति द्वारा चुने गए शीर्ष 10 नामों में उनका नाम टॉप पर रहा।

पिनाकी चंद्र घोष कलकत्ता उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश और आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय के पूर्व मुख्य न्यायाधीश हैं।

 

 

 

Tags

Reena Arya

रीना आर्य एक ज्वलंत और साहसी पत्रकार व लेखिका है। वे समयधारा.कॉम की एडिटर-इन-चीफ और फाउंडर भी है। लेखन के प्रति अपने जुनून की बदौलत रीना आर्य ने न केवल बड़े-बड़े ब्रांड्स में अपने काम के बल पर अपनी पहचान बनाई बल्कि अपनी काबलियत को प्रूव करते हुए पत्रकारिता के पांच से छह साल के सफर में ही अपने बल खुद एक नए ब्रैंड www.samaydhara.com की नींव रखी।रीना आर्य हर मुद्दे पर अपनी बेबाक राय रखने पर विश्वास करती है और अपने लेखन को लगभग हर विधा में आजमा चुकी है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error:
Close