Trending

#KarunanidhiDeath Live: करुणानिधि का मरीना बीच पर ही अंतिम संस्कार – हाईकोर्ट का फैसला

समर्थक चाहते है करुणानिधि की समाधि भी मरीना बीच पर ही बने

नई दिल्ली, 8 अगस्त: #KarunanidhiDeath Live:मद्रास हाईकोर्ट ने अपने फैसले में कह दिया है कि करुणानिधि को मरीना बीच पर ही अंतिम संस्कार।

पीएम मोदी भी करुणानिधि के अंतिम दर्शन के लिए पहुंचे।

डीएमके ने आखिरकार अपने प्रिय नेता के लिए मरीना बीच पर अंतिम संस्कार की अनुमति जीत ही ली।

इससे पहले

DMK चीफ और तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री करुणानिधि का मंगलवार 94 वर्ष की आयु में निधन हो गया। करुणानिधि के देहातं के साथ ही उनके पार्थिव शरीर को दफनाने को लेकर विवाद शुरू हो गया है। इसकी सुनवाई इस समय मद्रास हाईकोर्ट में चल रही है। करुणानिधि के समर्थकों ने मांग की है कि चेन्नई के फेमस मरीना बीच पर उनके प्रिय नेता को दफनाया जाएं और वहीं समाधि भी बनें। किंतु तमिलनाडु सरकार ने ऐसा करने से स्पष्ट मना कर दिया है।

तमिलनाडु सरकार ने कोर्ट में डीएमके की मांग के खिलाफ अपना जवाब दाखिल करते हुए कहा है कि हमने दो एकड़ जमीन और राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार करने का फैसला लिया है।

तमिलनाडु सरकार ने अपने जवाब में आगे कहा है कि खुद करुणानिधि ने भी पूर्व सीएम जानकी रामाचंद्रन को भूमि नहीं दी थी क्योंकि वे प्रोटोकॉल को समझते थे जबकि उस समय करुणानिधि खुद भी एक मुख्यमंत्री थे।

करुणानिधि को दफनाने पर क्यों है विवाद

तमिलनाडु सरकार ने मंगलवार को पूर्व मुख्यमंत्री एम. करुणानिधि के पार्थिव शरीर को मरीना बीच पर पार्टी के संस्थापक सी.एन. अन्नादुरई के स्मारक के पास दफनाने के लिए जगह देने से इंकार कर दिया। मुख्य सचिव गिरिजा वैद्यनाथन ने एक बयान में कहा कि मरीना बीच पर नेताओं को दफनाने को लेकर कई मामले मद्रास उच्च न्यायालय में लंबित हैं। सरकार अन्नादुरई स्मारक के पास जगह देने में सक्षम नहीं है।

उनके अनुसार, मुख्यमंत्री के. पलनीस्वामी ने कहा कि सरदार पटेल रोड पर गांधी मंडपम के पास करुणानिधि को दफनाने के लिए दो एकड़ जमीन मुहैया कराई जाएगी, जहां पहले से ही के.कामराज और अन्य के स्मारक मौजूद हैं।

द्रमुक नेता दुरुमुरुगन ने पत्रकारों से कहा, “इससे पहले द्रमुक के कार्यकारी अध्यक्ष एम.के. स्टालिन की अगुवाई में करुणानिधि के परिजन और पार्टी के अधिकारी अन्नादुरई स्मारक के पास जगह की मांग के लिए मुख्यमंत्री पलनीस्वामी से मुलाकात की थी।”

 (इनपुट आईएएनएस से भी)

यह भी पढ़े: करूणानिधि देहांत : राष्ट्रीय ध्वज बुधवार को झुका रहेगा

यह भी पढ़े: DMK प्रमुख करूणानिधि नहीं रहें

यह भी पढ़े: NRC पर सुप्रीम कोर्ट की हजेला को फटकार

 

Tags

Reena Arya

रीना आर्य एक ज्वलंत और साहसी पत्रकार व लेखिका है। वे समयधारा.कॉम की एडिटर-इन-चीफ और फाउंडर भी है। लेखन के प्रति अपने जुनून की बदौलत रीना आर्य ने न केवल बड़े-बड़े ब्रांड्स में अपने काम के बल पर अपनी पहचान बनाई बल्कि अपनी काबलियत को प्रूव करते हुए पत्रकारिता के पांच से छह साल के सफर में ही अपने बल खुद एक नए ब्रैंड www.samaydhara.com की नींव रखी।रीना आर्य हर मुद्दे पर अपनी बेबाक राय रखने पर विश्वास करती है और अपने लेखन को लगभग हर विधा में आजमा चुकी है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error:
Close