breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशराजनीति
Trending

फाइनेंस मिनिस्ट्री ने खुफिया खर्च पर खुद के आदेशों का उल्लंघन किया: CAG

वित्त वर्ष 2017-18 के लिए गृह मंत्रालय के तहत पुलिस से संबंधित अनुदान '41-खुफिया सेव व्यय' में कुल मूल प्रावधान 163.65 करोड़ रुपये था। 

नई दिल्ली, 12 फरवरी : CAG- वित्त मंत्रालय (Ministry of Finance) ने दो मामलों में ‘खुफिया सेवा खर्च’ के तहत प्रावधान को बढ़ाने के लिए पुनर्विनियोजन आदेश की सहमति प्रदान करने से पूर्व CAG के पूर्व अनुमोदन के संबंध में अपने स्वयं के अनुदेशों का उल्लंघन किया। लोकसभा में रखे गए एक लेखा परीक्षा रिपोर्ट में मंगलवार को यह जानकारी दी गई।

भारत के नियंत्रक एवं महालेखापरीक्षक की वित्त वर्ष 2017-18 की रिपोर्ट में कहा गया है कि वित्त मंत्रालय (Ministry of Finance) ने पहले कहा था कि निधियों का कोई भी पुन:विनियोजन, जो ’41-खुफिया सेवा व्यय’ के प्रावधान को मूल प्रावधान के 25 फीसदी या उससे अधिक तक बढ़ाता है, तो उसे कैग के पूर्वानुमोदन से ही किया जाना चाहिए। 

रिपोर्ट में कहा गया है, “लेखापरीक्षा में दो दृष्टांत पाए गए, जहां वित्त मंत्रालय ने पुनर्विनियोजन से पहले कैग (CAG) के पूर्वानुमोदन के संबंध में अपने खुद के आदेशों का उल्लंघन किया।”

रिपोर्ट में कहा गया है कि वित्त वर्ष 2017-18 के लिए गृह मंत्रालय के तहत पुलिस से संबंधित अनुदान ’41-खुफिया सेव व्यय’ में कुल मूल प्रावधान 163.65 करोड़ रुपये था। 

रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि गृह मंत्रालय ने पिछले साल जनवरी में वित्त मंत्रालय (Ministry of Finance) के अनुमोदन से उपरोक्त मद के तहत प्रावधान को बढ़ाने के लिए 150 करोड़ रुपये के पुनर्विनियोजन का आदेश जारी किया। 

एक और उदाहरण का हवाला देते हुए, रिपोर्ट में कहा गया है कि गृह मंत्रालय के तहत ‘कैबिनेट’ से संबंधित अनुदान के लिए कुल मूल प्रावधान केवल पांच करोड़ रुपये था। 

रिपोर्ट में कहा गया है कि गृह मंत्रालय ने पिछले साल सात फरवरी को वित्त मंत्रालय के अनुमोदन से ’41-खुफिया सेवा व्यय’ के तहत प्रावधान को बढ़ाने के लिए 1.25 करोड़ रुपये के पुनर्विनियोजन के आदेश जारी किए। 

कैग (CAG) को भेजे अपने जवाब में मंत्रालय ने कहा कि पुनर्विनियोजन से पहले कैग का अनुमोदन प्राप्त करने की जिम्मेदारी संबंधित विभाग की है। 

रिपोर्ट में कहा गया है, “यह जवाब स्वीकार्य नहीं है, यह वित्त मंत्रालय की अंतिम जिम्मेदारी है कि खुफिया सेवा व्यय के बजट प्रावधान में बढ़ोतरी करने के लिए वह पहले कैग का अनुमोदन प्राप्त करे।”

–आईएएनएस

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: