breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशराजनीति
Trending

मोदी का पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी पर फिर आरोप- INS विराट का निजी टैक्सी की तरह इस्तेमाल किया

मोदी ने आरोप लगाया कि गांधी परिवार ने छु्ट्टियों के लिए युद्धपोत का उपयोग कर इसका अपमान किया।

नयी दिल्ली, 9 मई: Modi’s allegations against former Prime Minister Rajiv Gandhi- लोकसभा चुनाव 2019 में छठे चरण का मतदान 12 मई को होने जा रहा है। देश की राजधानी दिल्ली में सात संसदीय सीटों के लिए मोदी (Modi) ने अपनी पहली चुनावी रैली में दोबारा स्वर्गीय पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी (former Prime Minister Rajiv Gandhi) पर निशाना साधा है। इस बार भी पीएम मोदी ने पूर्व पीएम राजीव गांधी पर एक सनसनीखेज और गंभीर आरोप लगाते हुए कहा है कि राजीव गांधी ने आईएनएस विराट का उपयोग एक निजी टैक्सी के रूप में किया था।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को सनसनीखेज आरोप (Modi’s allegations) लगाते हुए कहा कि जब राजीव गांधी प्रधानमंत्री थे तो गांधी परिवार युद्धपोत आईएनएस विराट का उपयोग ‘‘निजी टैक्सी’’ के रूप में करता था।

राजधानी में सात संसदीय सीटों के लिए 12 मई को होने वाले चुनाव से पहले यहां अपनी पहली रैली में मोदी ने आरोप लगाया कि गांधी परिवार ने छु्ट्टियों के लिए युद्धपोत का उपयोग कर इसका अपमान किया।

यह भी पढ़े: मोदी ने राजीव गांधी को बोला-‘भ्रष्टाचारी नं. 1’,राहुल,प्रियंका का पलटवार-पिता की शहादत का अपमान,आप बचोगे नहीं

मोदी ने इससे पहले राजीव गांधी पर आरोप लगाया था कि उनका अंत ‘भ्रष्टाचारी नंबर 1’ के रूप में हुआ। 

प्रधानमंत्री ने दावा किया कि राजीव गांधी के नेतृत्व वाली तत्कालीन सरकार और नौसेना ने उनके परिवार एवं ससुराल पक्ष की मेजबानी की और उनकी सेवा में एक हेलीकाप्टर को भी लगाया गया। 

मोदी ने कहा, ‘‘आईएनएस विराट का इस्तेमाल एक निजी टैक्सी की तरह करके इसका अपमान किया गया। यह तब हुआ जब राजीव गांधी एवं उनका परिवार 10 दिनों की छुट्टी पर गये हुए थे। आईएनएस विराट को हमारी समुद्री सीमा की रक्षा के लिए तैनात किया गया था, किन्तु इसका मार्ग बदल कर गांधी परिवार को लेने के लिए भेजा गया जो अवकाश मना रहा था।’’ 

उन्होंने यह भी दावा किया कि गांधी परिवार को लेने के बाद आईएनएस विराट द्वीप पर 10 दिनों तक खड़ा रहा। 

मोदी ने सवाल किया, ‘‘राजीव गांधी के साथ उनके ससुराल के लोग भी थे जो इटली से आये थे। सवाल यह है कि क्या विदेशियों को एक युद्धपोत पर ले जाकर देश की सुरक्षा के साथ समझौता नहीं किया गया?’’ 

विमान वाहक आईएनएस विराट को भारतीय नौसेना में 1987 में सेवा में लिया गया था। करीब 30 वर्ष तक सेवा में रहने के बाद 2016 में इसे सेवा से अलग किया गया।

यह भी पढ़े: LokSabha Election 2019: कांग्रेस को नहीं मिलेगा बहुमत,भाजपा को मिलेगी बस इतनी सीटें: कपिल सिब्बल

(इनपुट एजेंसी से)

 

Watch This:

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: