breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशराजनीतिराज्यों की खबरें
Trending

कांग्रेस की सरकार बनने पर सरकारी नौकरियों में महिलाओं को मिलेगा 33 प्रतिशत आरक्षण

राहुल गांधी ने कहा कि यूपीए महिलाओं के लिए 33 प्रतिशत सरकारी नौकरियों को आरक्षित करेगी

नई दिल्ली/चेन्नई,14 मार्च: Rahul Gandhi says 33percent reservation for women in government jobs- देश में लोकसभा चुनाव 2019 की तिथियों का बिगुल बज चुका है। राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने चुनावों से पहले घोषणा की है कि इस बार अगर केंद्र में कांग्रेस की सरकार बनती है तो कांग्रेस सरकारी नौकरियों में महिलाओं को 33 फीसदी आरक्षण (33percent reservation for women in government jobs) देगी।

दरअसल, कांग्रेस(Congress) अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने बुधवार को कहा कि यूपीए (UPA) महिलाओं के लिए 33 प्रतिशत सरकारी नौकरियों को आरक्षित करेगी और लोकसभा की चुनावी लड़ाई जीतने पर लोकसभा में 33 प्रतिशत सीटें देने वाले महिला आरक्षण विधेयक को पारित करेगी।

श्री गांधी ने यहां स्टैला मैरिस कॉलेज फॉर वूमेन के छात्रों के साथ बातचीत करते हुए यह भी कहा कि यूपीए सरकार गुड्स एंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) में प्रक्रियाओं को सरल बनाएगी और कम एकल कर दर होगी।

जींस और टी-शर्ट पहने हुए, राहुल गांधी ने कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए की आर्थिक विकास की योजनाओं, जम्मू-कश्मीर में शांति लाने, अपने बहनोई रॉबर्ट वाड्रा के खिलाफ आरोपों पर कई सवालों का सामना किया और मोदी सरकार व संसद में मोदी को गले लगाने का कारण…सरीखे सवालों के बेबाकी से जवाब दिए।

देश में महिलाओं की स्थिति पर एक सवाल पर उन्होंने कहा कि उत्तर भारत की तुलना में दक्षिण भारत में स्थिति बेहतर है। उन्होंने कहा कि इसका सांस्कृति पहूल भी है।

आगे उन्होंने कहा, “तमिलनाडु में अभी भी बहुत कुछ किए जाने की जरूरत है।”

राहुल गांधी ने कहा कि अगर यूपीए ने सरकार बनाई तो महिला आरक्षण विधेयक पारित किया जाएगा और केंद्र और राज्य सरकारों में 33 फीसदी नौकरियां महिलाओं के लिए आरक्षित होंगी।

कांग्रेस नेता ने कहा कि उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कोई नफरत नहीं है।

उन्होंने कहा, “प्यार हर धर्म की नींव है, चाहे वह हिंदू धर्म हो, इस्लाम या ईसाई धर्म। मैं संसद में प्रधानमंत्री का भाषण देख रहा था, जहां वह मेरे पिता, दादी, परदादा और कांग्रेस की आलोचना कर रहे था।”

“मेरे अंदर, मैं उनके लिए स्नेह महसूस कर रहा था। वह इतने गुस्से में थे कि वह दुनिया की सुंदरता नहीं देख पा रहे थे।”

श्री गांधी ने कहा कि उन्होंने महसूस किया कि मोदी को वह प्यार नहीं मिला जो वह चाहते थे। “मैं स्नेह दिखाना चाहता था और इसलिए मैनें उन्हें गले लगाया।”

उन्होंने कहा कि 2014 में यूपीए की हार ने उन्हें कई सबक सिखाए।

“मैं मोदी से सीखता हूं। मैं उनसे नफरत नहीं करता। क्या आप उस व्यक्ति से नफरत करते हैं जो आपको सिखाता है?” गांधी ने छात्रों से पूछा और जवाब के रूप में एक बड़ा “नहीं” मिला।

“सबसे बड़ा शिक्षक हमला करने वाले लोग हैं। जितना अधिक आप पर हमला किया जाता है, उतना ही आप प्यार और स्नेह वापस देते हैं।”

जम्मू-कश्मीर में शांति वापस लाने पर, उन्होंने कहा कि पहला कदम वहां के लोगों के लिए पुल का निर्माण करना था। इसे यूपीए सरकार के दौरान 2004 से 2014 के बीच बनाया गया था।

परिणामस्वरूप, आतंकी हमलों में भारी कमी आई और चुनावों को रोककर लोगों को सत्ता दी गई।

पाकिस्तान आतंकी हमलों को अंजाम देगा। “लेकिन हमें जम्मू और कश्मीर के लोगों से जुड़ना होगा।”

उन्होंने नीरव मोदी, विजय माल्या जैसे व्यापारियों की सुविधा देने के लिए केंद्र सरकार की आलोचना की कि बैंकों को धोखा देने के बाद सरकार ने इन्हें देश छोड़ने दिया।

उन्होंने कहा, “नोटबंदी के दौरान लोगों द्वारा बैंकों में जमा किया गया पैसा इन व्यवसायियों को दिया गया था,”

जब एक छात्र ने सवाल किया कि उसने इन व्यापारियों के साथ रॉबर्ट वाड्रा के नाम का उल्लेख क्यों नहीं किया, तो श्री गांधी ने कहा: “सरकार को जांच का अधिकार है। कानून को चुनिंदा रूप से लागू नहीं किया जाना चाहिए। मैं पहला व्यक्ति हूं जिसने कहा वाड्रा की जांच हो। “

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि आर्थिक विकास के लिए सबसे बड़ी बाधा क्रोनी पूंजीवाद और भ्रष्टाचार था।

शिक्षा प्रणाली पर, श्री गांधी ने कहा कि सरकार के लिए जगह होनी चाहिए और सब कुछ निजी क्षेत्र के हाथों में नहीं छोड़ा जा सकता है।

राहुल गांधी के साथ बातचीत के दौरान कुछ हल्के क्षण भी थे। खासकर जब राहुल गांधी ने छात्रों से कहा कि वे उन्हें “राहुल” कहकर संबोधित करें न कि “सर- जिसे छात्रों ने सराहा।

राहुल गांधी ने कहा कि वह अभी भी एक युवा राजनेता हैं।

Tags

Reena Arya

रीना आर्य एक ज्वलंत और साहसी पत्रकार व लेखिका है। वे समयधारा.कॉम की एडिटर-इन-चीफ और फाउंडर भी है। लेखन के प्रति अपने जुनून की बदौलत रीना आर्य ने न केवल बड़े-बड़े ब्रांड्स में अपने काम के बल पर अपनी पहचान बनाई बल्कि अपनी काबलियत को प्रूव करते हुए पत्रकारिता के पांच से छह साल के सफर में ही अपने बल खुद एक नए ब्रैंड www.samaydhara.com की नींव रखी।रीना आर्य हर मुद्दे पर अपनी बेबाक राय रखने पर विश्वास करती है और अपने लेखन को लगभग हर विधा में आजमा चुकी है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: