Trending

राहुल की NRC पर चुप्पी-ममता घुसपैठ बंगलादेशीयों से जीती – अमित शाह

शाह का तृणमूल पर भ्रष्टाचार के कई मामलों में शामिल होने और राज्य में कानून-व्यवस्था को ध्वस्त करने का आरोप

कोलकाता, 11 अगस्त : राहुल की NRC पर चुप्पी-ममता घुसपैठ बंगलादेशीयों से जीती – अमित शाह

शाह का तृणमूल पर भ्रष्टाचार के कई मामलों में शामिल होने और राज्य में कानून-व्यवस्था को ध्वस्त करने का आरोप 

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने शनिवार को यहां कहा कि

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को असम में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के मुद्दे पर अपना रुख स्पष्ट करना चाहिए।

उन्होंने दावा किया कि उनकी पार्टी तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी के

विरोध के बावजूद घुसपैठियों की पहचान के लिए पंजीकरण प्रक्रिया पूरा करने को प्रतिबद्ध है।

शाह ने यहां एक रैली में कहा, “ममतादी केवल आपके विरोध के कारण एनआरसी नहीं रुकेगा।

आप विरोध करने के लिए आजाद हैं। कांग्रेस नेता राहुल गांधी विरोध करने के लिए आजाद हैं।

लेकिन हमारी यह प्रतिबद्धता है कि सभी घुसपैठियों की एक-एक कर पहचान करें और कानून के मुताबिक असम में एनआरसी को पूरा करें।”

राहुल पर वोटबैंक की राजनीति के लिए एनआरसी पर अपना रुख स्पष्ट नहीं करने का आरोप लगाते हुए

शाह ने कहा कि असम समझौते के मुताबिक दस्तावेज पर कार्य हो रहा है।

इस समझौते पर 1985 में तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने हस्ताक्षर किए थे।

उन्होंने कहा, “असम समझौते के मुताबिक एनआरसी पर कार्य किया जा रहा है।

असम समझौता किसने बनाया? इसे 1985 में प्रधानमंत्री राजीव गांधी द्वारा तैयार किया गया था।”

शाह ने भारतीय जनता युवा मोर्चा द्वारा आयोजित रैली में कहा,

“तब कांग्रेस को कोई दिक्कत नहीं थी, लेकिन अब वोटबैंक की राजनीति के लिए राहुल गांधी अपना रुख साफ नहीं कर रहे हैं।”

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अध्यक्ष अमित शाह ने शनिवार को कहा कि केवल भाजपा ही बंगाल में प्रगति ला सकती है।

उन्होंने लोगों से राज्य की सत्तारूढ़ ममता बनर्जी नीत तृणमूल कांग्रेस की सरकार को जड़ से उखाड़ फेंकने का आग्रह किया।

मध्य कोलकाता के मायो रोड में एक विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए शाह पश्चिम बंगाल की सत्तारूढ़ पार्टी पर जमकर बरसे।

उन्होंने तृणमूल पर भ्रष्टाचार के कई मामलों में शामिल होने और राज्य में कानून-व्यवस्था को ध्वस्त करने का आरोप लगाया।

शाह ने कहा कि भाजपा ही एकमात्र विकल्प है।

शाह ने कहा, “सात साल पहले जब से बंगाल में तृणमूल कांग्रेस सत्ता में आई है,

तब से नारदा स्कैंडल, शारदा और रोज वैली पोंजी घोटालें..मवेशी माफिया व कोयला माफिया की

अवैध गतिविधियों और सिंडीकेटों की एक श्रंखला की चल पड़ी है।”

उन्होंने कहा, “बंगाल को इस भ्रष्टाचार की गिरफ्त से बाहर निकालने के लिए जरूरी हो चला है

कि नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली भाजपा को यहां सत्ता में लाया जाए।”

भाजपा अध्यक्ष ने कहा, “इस वक्त यह केवल परिवर्तन का सवाल नहीं है।

मैं आप सभी से कहता हूं कि तृणमूल कांग्रेस सरकार को उखाड़ कर फेंक दीजिए।”

राज्य को चलाने के लिए कांग्रेस, वाम मोर्चा और तृणमूल को मौका दिए जाने का जिक्र करते हुए

शाह ने पश्चिम बंगाल के लोगों से आग्रह किया कि वे एक मौका भगवा दल को भी दें

और उन्होंने वादा किया कि वह बंगाल के गौरवमयी अतीत को फिर से वापस ला देंगे।

शाह ने कहा, “तृणमूल कांग्रेस, माकपा और कांग्रेस बंगाल में समृद्धि नहीं ला सकते।

लोगों ने उन्हें मौका दिया, लेकिन वे विफल रहे। एक मौका नरेंद्र मोदी को दीजिए, वह बंगाल में विकास लाएंगे।”

वर्तमान में भारत के 19 राज्यों में भाजपा के सत्ता में होने का जिक्र करते हुए शाह ने दावा किया कि

जब तक उनकी पार्टी यहां पश्चिम बंगाल में जीत हासिल नहीं कर लेती,

तबतक उनके सफर को पूरा नहीं माना जा सकता।

बंगाल जनसंघ के संस्थापक श्यामा प्रसाद मुखर्जी और कई अन्य राजनेताओं की भूमि रही है।

उन्होंने कहा, “मैं बंगाल के सभी भाजपा कार्यकर्ताओं से कहना चाहता हूं कि

जबतक हम बंगाल में जीत हासिल नहीं कर लेते, तबतक 19 राज्यों में हमारी सरकार का महत्व ज्यादा नहीं रहेगा।

यह श्यामा प्रसाद मुखर्जी, स्वामी विवेकानंद और रबिंद्रनाथ टैगोर की जमीन है।”

शाह ने कहा, “जबतक हम बंगाल में विजयी नहीं हो जाते तबतक हमारा विजय रथ रुकना नहीं चाहिए।”

उन्होंने यह भी दावा किया कि राज्य में वर्तमान शासन के अंतर्गत कानून-व्यवस्था चरमरा गई है।

उन्होंने कहा, “राज्य में कानून-व्यवस्था लचर हो गई है। बंगाल में बमों और गोलियों की आवाजें सुनाई देती हैं।

हर दिन हमें अवैध बम और बंदूकों की फैक्ट्रियों के खुलासे की खबरें सुनने को मिलती हैं।”

शाह ने कहा, “इस तृणमूल कांग्रेस सरकार के अंतर्गत दिन-ब-दिन अवैध हथियारों की फैक्ट्रियों की संख्या बढ़ रही है।”

आईएएनएस

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error:
Close