Trending

कानून अपना काम करेगा पर माला पहनाना कानून हाथ में लेना है, तो इसपर खेद है-जयंत सिन्हा

नई दिल्ली, 11 जुलाई : माला पहनाना कानून हाथ में लेना है, तो इस पर खेद है – जयंत सिन्हा 

केंद्रीय नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री जयंत सिन्हा ने एक व्यक्ति को पीट पीटकर मार डालने के जुर्म में

निचली अदालत द्वारा दोषी करार दिए गए मुजरिमों का स्वागत फूल माला पहनाकर करने पर बुधवार को खेद जताया।

समाचार एजेंसी एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार, जयंत सिन्हा ने कहा,

“मैं पहले भी कई बार कह चुका हूं कि मामला (हत्या का) अदालत के विचाराधीन है।

इस पर बात करना सही नहीं होगा। कानून अपना काम करेगा।

हमने हमेशा दोषियों को सजा दिलाने और निर्दोषों को बचाने का काम किया है।

अगर उन्हें (हत्या के दोषियों को) माला पहनाने से ऐसा संदेश गया है कि

मैं कानून को अपने हाथ में लेकर कार्रवाई करने वालों का समर्थन करता हूं तो इसका मुझे खेद है।”

हार्वर्ड के पूर्व छात्र जयंत ने झारखंड के अपने निर्वाचन क्षेत्र हजारीबाग स्थित

अपने आवास पर इन आठ दोषियों का स्वागत फूल माला पहनाकर किया था। ऊपरी अदालत ने इन सभी को जमानत पर छोड़ा है।

स्वागत की यह तस्वीर बड़े पैमाने पर आनलाइन साझा की गई

और विपक्ष तथा जयंत सिन्हा के पिता व पूर्व भाजपा नेता यशवंत सिन्हा ने उनकी निंदा की।

कांग्रेस ने जयंत के इस्तीफे की मांग की थी और कहा था कि इससे साफ हो गया है कि

भाजपा ऐसे अपराधों के आरोपियों और दोषियों का परोक्ष समर्थन करती है।

एक फास्ट ट्रैक अदालत ने इन सभी आठों को मांस व्यापारी अलीमुद्दीन अंसारी की 29 जून को की गई हत्या में दोषी ठहराया था।

अंसारी की हत्या भीड़ ने गोमांस ले जाने के शक में पीट पीटकर कर दी थी।

यह भी पढ़े : शेयर बाजार मामूली तेजी के साथ बंद, सेंसेक्स 26 व निफ्टी 1 अंक ऊपर

इसे भी पढ़े : बैडमिंटन-थाईलैंड ओपन : कश्यप, सिंधु, व प्रणॉय प्री-क्वार्टर फाइनल में

यह भी पढ़े : अब सरकार 20 लाख से कम कर संबंधी मुकदमें की अपील दायर नहीं करेंगी

इसे भी पढ़े : ताजमहल की उपेक्षा से नाराज सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को लगाई फटकार-प्रशासन ताजमहज को संरक्षित  करें या ढहा दें वर्ना हम बंद कर देंगे

अमरनाथ यात्रा के लिए 4,956 तीर्थयात्रियों का जत्था रवाना

पढ़े :  समलैंगिक संबंध अपराध है या नहीं, इसका फैसला सुप्रीम कोर्ट के विवेक पर छोड़ते है: केंद्र

आईएएनएस

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error:
Close