Trending

उत्तर प्रदेश : शिवपाल यादव की नई पार्टी को क्या है मुलायम का साथ..? तस्वीरें कर रही है बयान

उत्तर प्रदेश की राजनीति में विपक्ष(मुलायम-मायावती) किस तरफ लेगा करवट..!!

उत्तर प्रदेश/लखनऊ ,14 अक्टूबर : शिवपाल यादव की नई पार्टी को क्या है मुलायम का साथ..? तस्वीरें कर रही है बयान l 

पूर्व समाजवादी पार्टी महासचिव शिवपाल यादव ने भतीजे अखिलेश सिंह यादव से नाराज़ होकर

बगावत करते हुए अपनी खुद की पार्टी समाजवादी सेक्युलर मोर्चा बना ली थी|

उन्होंने उत्तर प्रदेश में 2019 लोकसभा चुनाव लड़ने का एलान भी कर डाला है|

तब से ही वह पार्टी के प्रचार-प्रसार में लगे हुए है| शुक्रवार को समाजवादी विचारधारा के पुरोधा

डॉ राम मनोहर लोहिया की पुण्यतिथि के अवसर पर लखनऊ में लोहिया ट्रस्ट में हुए कार्यक्रम में शिवपाल

अपने बड़े भाई और सपा के संरक्षक मुलायम सिंह यादव के साथ पार्टी बनाने के बाद पहली बार नज़र आए|

यह कार्यक्रम शिवपाल यादव की पार्टी समाजवादी सेक्युलर मोर्चा द्वारा ही आयोजित था

और यहाँ मुलायम सिंह को आमंत्रित किया गया था| मुलायम ने लोहिया की पुण्यतिथि पर उन्हें याद करते हुए कहा कि

लोहिया जी को लेकर आज दिल्ली से लेकर मुंबई तक में कार्यक्रम चल रहे हैं|

लोहिया जी का जन्म अम्बेडकरनगर में हुआ इसलिए उनकी विचारधारा यहीं से जन्मी है|

गरीब परिवार से आने के कारण लोहिया जी देश नहीं अपितु विदेश में भी प्रसिद्द हुए|

उन्होंने जनता को नैरा दिया था -“अन्याय का विरोध ,न्याय का साथ दो”|

शिवपाल यादव ने भी मंच से लोहिया को नमन करते हुए कहा कि आज़ादी की लड़ाई में

डॉ लोहिया का योगदान कोई नहीं भुला सकता है| उनके असली वैचारिक उत्तराधिकारी नेता जी ही है

जिन्होंने उनके विचारो और सिद्धांतो के लेकर आजीवन संघर्ष किया है|

लोहियावाद के सिद्धांतो पर ही हमने समाजवादी सेक्युलर मोर्चा का गठन किया है|

नेता जी का आशीर्वाद एवं मार्गदर्शन हमेशा हमारे साथ रहा है और आगे भी रहेगा जिससे शक्ति प्राप्त करते हुए हम चुनावो में

अच्छा प्रदर्शन करेंगे|  लोहिया जी के विचारों को आगे रखते हुए हम लोगों की आवाज़ बनेंगे और देश-प्रदेश में क्रान्ति लाएंगे|

शिवपाल ने यह भी कहा कि अगली केंद्र सरकार बिना सेक्युलर मोर्चे के सहयोग के नहीं बनने वाली

और प्रदेश की राजनीती में वही विपक्ष का सबसे बड़ा चेहरा हैं|

गौरतलब है कि योगी सरकार शिवपाल यादव पर कुछ ज़्यादा ही मेहरबान दिख रही है

वर्ना सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर पूर्व सीएम मायावती द्वारा छोड़ा बंगला उन्हें क्यों अलॉट किया जाता,

साफ़ ज़ाहिर है कुछ तो खिचड़ी पक रही है बस ढक्कन खुलना बाकी है|

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error:
Close