Trending

AMU मन्नान वानी प्रकरण : मानव संसाधन मंत्रालय हुआ सख्त , प्रशासन से रिपोर्ट की तलब

नई दिल्ली,14 अक्टूबर : AMU मन्नान वानी प्रकरण, मानव संसाधन मंत्रालय हुआ सख्त , प्रशासन से रिपोर्ट की तलब l 

देशी की बड़ी यूनिवर्सिटीज में से एक अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी -एएमयू में

कल ऐसा प्रकरण हुआ जिससे यह यूनिवर्सिटी फिर से विवादों के घेरे में है|

यहीं से पढ़ाई करने वाले रिसर्च स्कॉलर व आंतकी मन्नान वानी जो कि सेना द्वारा मुठभेड़ में ढेर किया गया,

उसके लिए यूनिवर्सिटी में नमाज़ -ए-जनाज़ा पढ़े जाने की कोशिश की गई थी

और साथ ही आज़ादी के नारे भी लगे जिससे यूनिवर्सिटी में बवाल खड़ा हो गया

जिसके बाद इसमें शामिल कश्मीर छात्रों के खिलाफ सीनियर छात्र -गण खड़े हो गए

जिसके बाद प्रॉक्टोरियल टीम वहां आ गई और यह प्रकरण विफल हुआ

लेकिन फिर कश्मीरी छात्रों और प्रॉक्टोरियल टीम के बीच तू-तड़ाक शुरू हो गई

जिसके बाद वहां सुरक्षाकर्मियों को वहां बुलाना पड़ा और उन्होंने कश्मीरी छात्रों को वहां से खदेड़ा|

एएमयू प्रशासन से अनुशनात्मक कार्यवाही करते हुए तीन छात्रों को निलंबित कर दिया है

और साथ ही उन्हें कारण बताओ नोटिस भी ज़ारी किया गया है|

यह बात दिल्ली तक जा पहुंची है और मानव संसाधन मंत्रालय इसको लेकर हरकत में आ चूका है|

सरकारी सूत्रों के अनुसार मंत्रालय ने एएमयू प्रशासन से पुछा है कि कैंपस में आंतकी के लिए

शोक सभा का आयोजन और आज़ादी के नारे लगाने के प्रकरण में क्या कर्यवाही अभी तक की गई है ?

मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी ने कुलपति व रजिस्ट्रार से डिटेल रिपोर्ट मांगी है

जिसमे पूछा गया है कि कैंपस में शोक सभा आयोजित हुई भी या नहीं ? इसमें कितने छात्र शामिल थे और वे कौन थे ?

वहां आज़ादी नारे कैसे लगे और इसमें शामिल छात्र कौन हैं ?

ऐसा भी माना जा रहा कि मंत्रालय की ओर से एक टीम वहां जल्द ही हालत का जायजा लेने जाएगी

लेकिन फिलहाल तो हालात बेहद संजीदा व तनावपूर्ण है|

यह दूसरी बार है कि अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी इस साल विवादों में घिरा है|

इससे पहले पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्नाह की स्टूडेंट यूनियन हॉल में

लगी तस्वीर को लेकर भी खासा बवाल खड़ा हुआ था|

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error:
Close