breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशराज्यों की खबरें
Trending

Breaking News: चिदंबरम को फौरी राहत नहीं, लंच के बाद होगा फैसला

चिदंबरम की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में याचिका देकर अंतरिम संरक्षण की मांग

नई दिल्ली, 21 अगस्त (समयधारा) : Breaking News-चिदंबरम को फौरी रहत नहीं, लंच के बाद होगा फैसला l

चिदंबरम की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में याचिका देकर अंतरिम संरक्षण की मांग

इससे पहले, Chidambaram Missing CBI-ED reaches P. Chidambaram house –

पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री पी. चिदंबरम गायब (Chidambaram Missing) है।

उनके घर के बाहर मंगलवार शाम CBI और ED दोनों पहुंचे लेकिन पूर्व वित्त मंत्री घर पर नहीं मिले। इसके बाद से ही  सोशल मीडिया पर हैशटैग #ChidambaramMissing टॉप पर ट्रेंड करने लगा।

इसके बाद कल देर शाम दोबारा सीबीआई चिदंबरम के घर पहुंची (CBI-ED reaches P. Chidambaram house)

और उनकी गैरहाजिरी पर चिदंबरम के घर के बाहर नोटिस चिपकाकर उन्‍हें दो घंटे के भीतर पेश होने का निर्देश दिया।

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार, 20 अगस्त को पी. चिदंबरम की अग्रिम जमानत याचिका (P. Chidambaram anticipatory bail pleas) पर फौरन सुनवाई से इंकार कर दिया।

इसलिए वे कभी भी गिरफ्तार (Chidambaram might arrest) हो सकते है। इतना ही नहीं, चिदंबरम को मंगलवार उस समय बड़ा झटका लगा

जब दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High court)  ने उन्हें अग्रिम जमानत देने से साफ इंकार कर दिया।

इसके बाद वे शाम 5 बजे तक सुप्रीम कोर्ट में थे लेकिन यहां भी सुप्रीम कोर्ट (Supreme court) ने उनकी गिरफ्तारी पर

तत्काल सुनवाई से इंकार कर दिया और कहा कि वे बुधवार यानि आज (21 अगस्त 2019) को बात सुनेंगे।

इसके बाद कल शाम 6.30 बजे पहले सीबीआई (CBI) की टीम पी.चिदंबरम के घर पहुंची

लेकिन वे वहां नहीं मिले तो 10 मिनट बाद ही वे खाली हाथ वापस लौट गए।

सीबीआई (CBI) के बाद ईडी (ED) की टीम भी मंगलवार शाम 7:30 बजे चिदंबरम के घर पहुंची लेकिन उन्हें भी वापस लौटना पड़ा।

दोनों सरकारी एजेंसियां निरंतर उनके साथ संपर्क साधने की कोशिश कर रही है लेकिन

चिदंबरम गायब हो गए (#ChidambaramMissing) है। वे कहां है? किसी को नहीं पता।

चिदंबरम को ई-मेल से भी भेजा गया समन

चिदंबरम के घर दोबारा पहुंची सीबीआई टीम ने उन्हें जब वहां नहीं पाया तो उनके घर के बाहर नोटिस चस्पा (Chidambaram Missing CBI-ED reaches P. Chidambaram house) दिया।

फिलहाल यह स्पष्ट नहीं हो सका है कि सीबीआई चिदंबरम को गिरफ्तार करने पहुंची थी या केवल पूछताछ के लिए।

सीबीआई अधिकारियों ने बताया है कि पी. चिदंबरम के घर पहुंची टीम के मेंबर्स ने सीबीआई के हेडक्वाटर आकर भविष्य की स्ट्रेटजी पर चर्चा की।

Chidambaram Missing CBI-ED reaches P. Chidambaram house

CBI टीम ने जो नोटिस चिदंबरम के घर के बाहर चिपकाया है उसमें सीबीआई के उपाधीक्षक आर पार्थसारथी के सामने पेश होकर सीआरपीसी की धारा 161 के अंतर्गत बयान दर्ज कराने को निर्देश दिए गए है।

इतना ही नहीं, उन्हें (चिदंबरम को) समन ई-मेल के द्वारा भी भेजा गया है।

कांग्रेस के अनुसार, मोदी-अमित शाह की बदले की कारर्वाई

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा है कि मोदी सरकार बदले की कारर्वाई कर रही है।

कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने भी कहा है कि मोदी सरकार विपक्ष व विरोधियों के खिलाफ

सरकारी तंत्र का दुरुपयोग कर रही है और विपक्षियों के खिलाफ बदले की कारर्वाई कर रही है।

कांग्रेस ने कहा है कि चिदंबरम वर्तमान सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री भी है।

बुधवार सुबह उनकी सुप्रीम कोर्ट में अर्जी लगी है।

10-12 घंटों में कोई आसमान नहीं टूट जाएगा। ये तो मोदी सरकार की कार्यशैली बन चुकी है।

यदि रातों रात इस तरह की चीजें हो रही है तो इनकी विश्वसनीयता पर सवाल है।

इस तरह की कारर्वाई से भारत के लोकतंत्र की कोई अच्छी इमेज नहीं बनती।

इससे पूर्व आईएनएक्स मीडिया (INX Media Case) मामले में जब दिल्ली हाईकोर्ट ने

चिदंबरम की अग्रिम जमानत याचिका खारिज (Chidambaram anticipatory bail pleas rejected by HC) कर दी

तो उन्होंने चुप्पी साध रखी थी और मीडिया से भी दूरी बनाए रखी थी।

आईएनएक्स मीडिया मामला क्या है ? What is INX Media case

CBI,ED का दावा है कि वर्ष 2007 में में पी.चिदंबरम जब वित्तमंत्री थे तो तब उन्होंने इंद्राणी मुखर्जी और पीटर मुखर्जी की कंपनी आईएनएक्स मीडिया (INX Media) (जोकि वर्तमान में 9X के नाम से जानी जाती है) को मंजूरी दिलवाई थी।

फिर कथित रूप से 305 करोड़ का विदेशी निवेश (FIPB मंजूरी) इस कंपनी में आया।

जबकि अनुमति केवल पांच करोड़ के निवेश की मिली थी लेकिन INX Media में 300 करोड़ से ज्यादा का निवेश हुआ।

आरोप है कि आईएनएक्स मीडिया ने कथित रूप से खुद को बचाने के लिए चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम के साथ षड्यंत्र रचा और सरकारी अधिकारियों को प्रभावित करने की कोशिश की।

एजेंसियों का दावा है कि चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम ने रिश्वत ली थी।

इतना ही नहीं, वर्ष 2006 के एयरसेल-मैक्सिम समझौते में FIPB मंजूरी देने में कथित अनियमितता की जांच भी सीबीआई कर रही है।

ED भी मनी लॉन्ड्रिंग केस की जांच कर रही है। इसी केस के चलते बीते वर्ष चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम को गिरफ्तार किया गया था।

तब वे 23 दिनों तक हिरासत में थे। चिदंबरम पर भी हवाई जहाज की खरीद और एयरसेल मामले में अलग-अलग केस चल रहे है।

CBI ने आरोप लगाया है कि एक चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम का एक प्राइवेट कंपनी पर कंट्रोल था।

इस कंपनी को इंद्राणी मुखर्जी और पीटर मुखर्जी के आईएनएक्स मीडिया हाउस से फंड ट्रांसफर हुआ था।

आरोप में सीबीआई ने कहा है कि कार्ति ने अपने प्रभाव का गलत इस्तेमाल करके INX को फॉरेन डायरेक्ट इनवेस्टमेंट क्लियरेंस हासिल करने में मदद की थी।

आईएनएक्स मीडिया (INX Media) मामले में सीबीआई (CBI) ने 15 मई 2017 को एफआईआर दर्ज की थी।

इसके पश्चात ईडी (ED) ने बीते वर्ष इस संबंध में मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज किया था।

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: