breaking_news Home slider अन्य ताजा खबरें देश राज्यो की खबरें

नर्मदा बचाओ आंदोलन : नर्मदा तट पर स्थित राजघाट तोड़ना,महात्मा गांधी की दूसरी बार हत्या करना जैसा है

साभार गूगल

बड़वानी, 27 जुलाई :  मध्यप्रदेश के बड़वानी जिले में नर्मदा नदी के तट पर स्थित राजघाट को तोड़ने की कार्रवाई को नर्मदा बचाओ आंदोलन की प्रमुख मेधा पाटकर ने महात्मा गांधी की दूसरी बार हत्या करार दिया है। नर्मदा नदी पर बने सरदार सरोवर बांध की ऊंचाई 138 मीटर की जा रही है। इस पर सर्वोच्च न्यायालय ने निर्देश दिए हैं कि 31 जुलाई से पूर्व बांध की ऊंचाई बढ़ाने से डूब क्षेत्र में आने वाले गांव के निवासियों का पुनर्वास किया जाए। नर्मदा नदी का जलस्तर बढ़ने से राजघाट भी डूब क्षेत्र में आने वाला था। 

मेधा पाटकर पुनर्वास न होने का आरोप लगाते हुए गुरुवार सुबह बेमियादी उपवास पर बैठने वाली थी। वे जब वहां पहुंची तो देखा कि राजघाट को तोड़ दिया गया है और अस्थि कलशों को जेबीसी में ले जाया जा रहा है। इसका उन्होंने विरोध किया।

उन्होंने संवाददाताओं से चर्चा करते हुए कहा, “राजघाट को हटाना था तो उसकी बेहतर तैयारी की जानी चाहिए, महात्मा गांधी लोगों के दिल में बसते हैं। बड़वानी में जो कृत्य हुआ है, वह महात्मा गांधी की दूसरी बार हत्या जैसा है।” 

उन्होंने कहा, “राज्य सरकार असंवेदनशील हो चुकी है, वह न्यायालय में झूठी जानकारियां दे रही है, इतना ही नहीं विस्थापित होने वाले परिवारों की जो सूची बनाई है वह भी गड़बड़ है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सरदार सरोवर बांध की ऊंचाई बढ़ने से प्रभावित होने वाले परिवारों की समस्या पर चर्चा तक को तैयार नहीं हैं। जनतंत्र में ऐसा नहीं होता है, जैसा मध्यप्रदेश में हो रहा है।”

उन्होंने कहा कि गुजरात को पानी की जरूरत नहीं है, वहां इस समय बाढ़ के हालात हैं, इसलिए बांध की ऊंचाई बढ़ाने के काम को एक वर्ष के लिए रोक देना चाहिए, ताकि विस्थापन का काम बेहतर तरीके से हो सके।

ज्ञात हो कि बड़वानी में बनाई गई ‘राजघाट’ समाधि में महात्मा गांधी ही नहीं कस्तूरबा गांधी और उनके सचिव रहे महादेव देसाई की देह राख (एश) रखी हुई थी। इस स्थान पर गांधीवादी काशीनाथ त्रिवेदी तीनों महान विभूतियों की देह राख जनवरी, 1965 में लाए थे और समाधि 12 फरवरी, 1965 को बनकर तैयार हुई थी।

–आईएएनएस

About the author

समय धारा

Add Comment

Click here to post a comment

अन्य ताजा खबरें