breaking_newsHome sliderदेशराज्यों की खबरें

बिहार में सियासी पारा चरम पर: तेज प्रताप पर लालू की सफाई-कोई साजिश में फंसाएगा तो जवान बेटा बोलेगा ही,फिर भी सही नहीं है

पटना, 27 नवंबर : राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष लालू प्रसाद के पुत्र और बिहार के पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेज प्रताप यादव द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर दिए गए एक विवादित बयान के बाद बिहार में सियासी गरमी बढ़ गई है। लालू प्रसाद की सुरक्षा में कटौती करने के एक प्रश्न के जवाब में उनके पुत्र तेज प्रताप ने सीधे शब्दों में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की खाल उधड़वा देंगे। इधर, तेज प्रताप के बयान के बाद लालू प्रसाद ने जहां सफाई दी है, वहीं बिहार में सत्ताधारी भाजपा और जद (यू) ने तेज प्रताप के बहाने लालू पर निशाना साधा है।

तेज प्रताप ने यहां संवाददाताओं से कहा, “हम लोग कार्यक्रमों में जाते रहते हैं। लालू प्रसाद जी भी इन कार्यक्रमों में जाते रहते हैं। ऐसे में सुरक्षा वापस लेना, उनकी हत्या कराने की साजिश है। हम इसका मुंहतोड़ जवाब देंगे, नरेंद्र मोदी जी की खाल उधड़वा देंगे।”

उल्लेखनीय है कि लालू की सुरक्षा श्रेणी ‘जेड प्लस’ से घटाकर ‘जेड’ कर दी गई है।

इस बयान के बाद बिहार की राजनीति अचानक गरम हो गई। बिहार के उपमुख्यमंत्री और भाजपा के नेता सुशील कुमार मोदी ने सधे अंदाज में कहा कि कोई भी व्यक्ति अपनी पसंद की भाषा का इस्तेमाल कर सकता है। लेकिन जो लोग ऐसी भाषा का इसतेमाल करते हैं, उन्हें देश के लोग ही सबक सिखाते हैं।

इधर, लालू ने तेज प्रताप के बयान पर सफाई देते हुए कहा कि पिता को कोई साजिश में फंसाएंगे तो जवान बेटा बोलेगा ही। उन्होंने हालांकि यह भी कहा कि यह सही नहीं है।

इधर, जद (यू) के प्रवक्ता और विधान पार्षद नीरज कुमार ने कहा कि तेज प्रताप को लालू प्रसाद स्नातक की शिक्षा भी नहीं दिला पाए और विधायक बना दिए, लेकिन राजनीति में वे अपनी हैसियत भूल गए।

उन्होंने कहा, “उनका पारिवारिक संस्कार कैसा है, यह मैं नहीं जानता। मुझे यह लगता है कि तेजस्वी यादव को जब लालू प्रसाद ने उपमुख्यमंत्री बनवा दिया और अब विधायक दल का नेता बनाया तो इनके घर में गृहक्लेश आरंभ हो गया। ऐसे बोलने वाले पुत्र से मां-पिता भी बोलने से परहेज करते हैं।”

उन्होंने कहा कि इस ढंग की भाषा का सार्वजनिक जीवन में इस्तेमाल, देश के प्रधानमंत्री पद पर किया जाना यह बताता है कि राजनीति के ‘लंपटीकरण’ का जो आरोप लालू प्रसाद पर लगता रहा है वह अब अपना संस्कार अपने बेटे को भी दे दिए।

कुमार ने कहा, “प्रधानमंत्री पद पर इस तरह की अमर्यादित टिप्पणी बताता है कि लालू का पूरा परिवार मानसिक राजनीतिक कारावास की स्थिति में है। ऐसे नेताओं से बिहार की जनता को भगवान ही बचाएं।”

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
error: