होम > देश > राज्यों की खबरें > गहरा गम-आखें नम, अमर रहें नारों के बीच शहीदों को देशवासियों ने दिया अंतिम नमन
breaking_newsअन्य ताजा खबरेंदेशराज्यों की खबरें

गहरा गम-आखें नम, अमर रहें नारों के बीच शहीदों को देशवासियों ने दिया अंतिम नमन

उत्तर प्रदेश, पंजाब, कोलकता आदि शहरों-गावों में शहीदों को अमर रहे नारों के साथ दी गई अंतिम विदाई

नई दिल्ली, 17 फरवरी : देश के विभिन्न स्थानों पर कश्मीर आतंकी हमले में मारे गए शहीदों को

उनके पैतृक स्थान पर नम आखों से देश भर ने श्रद्धांजलि दी l 

 जम्मू एवं कश्मीर के पुलवामा के आतंकी हमले में शहीद हुए जबलपुर के अश्विनी कुमार काछी को शनिवार को

उनके गृहग्राम खुड़ावल में नम आंखों से विदाई दी गई। मुख्यमंत्री कमलनाथ उनकी सरकार के मंत्री

और विपक्षी दल भाजपा के नेताओं ने श्रद्घांजलि अर्पित की। पुलवामा में गुरुवार को हुए आतंकी हमले में

सीआरपीएफ के जवान और जबलपुर के मंझौली तहसील के खुड़ावल गांव के अश्विनी शहीद हुए थे।

उनका पार्थिव शरीर शनिवार को उनके गांव पहुंचा। अश्विनी को श्रद्घांजलि देने हजारों की संख्या में लोग जमा हुए।

राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया। मुखाग्नि उनके भाई सुमंत कुमार ने दी। 

मुख्यमंत्री कमलनाथ, उनके मंत्रिमंडल के सदस्य खुड़ावल गांव पहुंचे और उन्होंने अश्विनी को श्रद्घासुमन अर्पित कर

उनके परिजनों को ढांढस बंधाया। वहीं भाजपा के प्रदेश अयक्ष व सांसद राकेश सिह, पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिह चौहान,

नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव, केंद्रीय मंत्री वीरेंद्र कुमार खटीक, सांसद प्रहलाद पटेल ने श्रद्घासुमन अर्पित कर अश्विनी को अंतिम विदाई दी।

kashmir/pulwama terror attack
kashmir/pulwama terror attack

कोलकाता में शहीदों के पार्थिव शरीर पहुंचने पर भावुक हुए लोग

कोलकाता :  पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए राज्य के दो केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के

जवानों के पार्थिव शरीर जब शनिवार को शहर पहुंचे तो वहां जुटे सैकड़ों लोगों ने उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए ‘वंदे मातरम’,

‘भारत माता की जय’ और ‘पाकिस्तान मुर्दाबाद’ के नारे लगाए। तिरंगा में लिपटे हेड कॉन्सटेबल बबलू संतरा

और कॉन्सटेबल सुदीप बिस्वास के पार्थिव शरीर वाले ताबूत नेताजी सुभाष चंद्र बोस अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे (एनएससीबीआई) पर

तय समय से चार घंटे की देरी से पहुंचे क्योंकि पटना हवाईअड्डे पर वायुसेना के विशेष विमान में कुछ खराबी आ गई थी।

केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो, सीआरपीएफ के जवान और अन्य सुरक्षा बलों ने एनएससीबीआई हवाईअड्डे से पार्थिव शरीरों को निकाला।

शहीदों के प्रति सम्मान प्रकट करने के लिए हवाईअड्डे पर लोग सुबह से ही राष्ट्रीय ध्वज, बंदनवार और पोस्टर लेकर खड़े हुए थे।

ताबूतों को रखने के लिए द्वार नंबर चार के बाहर एक अस्थायी मंच बनाया गया था, जहां सीआरपीएफ ने शहीदों को गार्ड ऑफ ऑनर दिया।

बिस्वास के तीन करीबी रिश्तेदार ताबूत को देखते ही रो पड़े, जिन पर उनका नाम लिखा हुआ था। बिस्वास नादिया के तेहाट्टा के रहने वाले थे।

सुप्रियो भाजपा नेता लॉकेट चट्टर्जी, सेना, वायुसेना, सीआरपीएफ

और स्थानीय पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों ने श्रद्धांजलि दी और शहीदों को सलामी दी।

अंत्येष्टि हेतु पार्थिव शरीरों को उनके घर पहुंचाने के लिए ट्रक में रखने से पहले एक मिनट का मौन भी रखा गया।

उप्र : शहीद का पार्थिव शरीर देख तिरंगा लेकर उमड़े लोग

लखनऊ/चन्दौली –  जम्मू एवं कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले में शहीद हुए

उत्तर प्रदेश के चन्दौली के अवधेश कुमार का पार्थिव शरीर शनिवार को उनके पैतृक गांव बहादुरपुर पहुंचा। सीआरपीएफ के डिप्टी कमांडेंट एसएस देव के नेतृत्व में पार्थिव शरीर लेकर जवान पहुंचे।

हाथों में तिरंगा लेकर हुजूम उमड़ पड़ा। पिता हरिकेश यादव, माता मालती यादव, पत्नी शिल्पी यादव,

भाई बृजेश यादव ने श्रृद्धांजलि दी। पत्नी शिल्पी यादव पुष्प अर्पित करते ही बेहोश हो गईं। इस दौरान मौजूद लोग गमगीन दिखे।

साथ ही लोगों ने पाकिस्तान मुदार्बाद के नारे भी लगाए। शहीद का मासूम दो वर्षीय बेटा भी

इस दौरान हाथ उठाकर कुछ बोलने का प्रयास कर रहा था।

राजकीय सम्मान के साथ शहीद को गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया। गांव के ही गंगा किनारे शक्ति घाट पर पिता हरिकेश यादव ने मुखाग्नि दी।

सीआरपीएफ के डीआईजी जे. राजेंद्रम और कमांडेंट राजीव चौधरी ने शव को कंधा दिया।

इसके बाद भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्रनाथ पांडेय, जिला प्रभारी मंत्री जयप्रकाश निषाद,

पूर्व सपा सांसद रामकिशुन यादव, पूर्व भाजपा एमएलसी लक्ष्मण आचार्य, विधायक सुशील सिंह,

डीएम नवनीत सिंह चहल, एसपी संतोष सिंह, आदि ने पुष्प गुच्छ अर्पित कर श्रद्धांजलि दी।

हिमाचल : शहीद सीआरपीएफ जवान की अंतिम यात्रा में शामिल हुए मुख्यमंत्री

शिमला :  हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने पुलवामा आतंकी हमले में शहीद

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के जवान तिलक राज की अंतिम यात्रा में हिस्सा लिया और श्रद्धाजंलि अर्पित की।

शहीद का पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया।

ठाकुर ने कांगड़ा जिले के जवाली स्थित धारकलां गांव के निवासी शहीद तिलक राज के ताबूत पर माल्यार्पण कर उन्हें अंतिम सम्मान दिया। 

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में गुरुवार को जैश-ए-मोहम्मद के एक आत्मघाती हमलावर ने विस्फोटक से भरी

एसयूवी से सीआरपीएफ की बस में टक्कर मार कर उसमें विस्फोट कर दिया था, इस हमले में 49 जवान शहीद हुए हैं।

मुख्यमंत्री ने शहीद के पिता लायक राम, माता, पत्नी और शहीद के परिवार के

अन्य सदस्यों को सांत्वना देते हुए कहा कि शहीद तिलक राज ने देश की खातिर अपना जीवन न्यौछावर कर दिया। 

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार दुख की इस घड़ी में शहीद के परिवार के साथ है और उन्हें हर संभव सहायता प्रदान करेगी।

शहीद तिलक राज की अंतिम यात्रा पूरे राजकीय सम्मान के साथ उनके पैतृक गांव में हुई जिसमें मुख्यमंत्री ने हिस्सा लिया। 

पंजाब के 4 शहीद जवानों का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार

चंडीगढ़ : जम्मू एवं कश्मीर के पुलवामा जिले में आतंकी हमले में शहीद हुए

पंजाब के चार सीआरपीएफ जवानों का अंतिम संस्कार यहां शनिवार को उनके गांवों में कर दिया गया। 

चारों जवानों को राजकीय सम्मान के साथ भावभीनी विदाई दी गई। इस मौके पर सैकड़ों लोग उन्हें अंतिम विदाई देने पहुंचे।

लोगों ने सीआरपीएफ कर्मियों के पक्ष में और पाकिस्तान के विरोध में नारे लगाए।

शहीद होने वाले चार जवानों में मोगा जिले के कोट इसा खान गांव के जयमाल सिंह,

तरण तारण जिले के गंडीविंड गांव के सुखविंदर सिंह, गुरदासपुर जिले के दीनानगर के मनिंदर सिंह अत्री

और रोपड़ जिले के नुरपूर बेदी क्षेत्र के राउली गांव के कुलविंदर सिंह शामिल हैं।

इन चारों जवानों की अंतिम विदाई के वक्त मंत्री, राजनेता और स्थानीय प्रशासन के अधिकारी भी मौजूद थे।

तिरंगे से लिपटे सीआरपीएफ जवानों के पार्थिव शरीर शनिवार तड़के उनके गांव पहुंचा।

ग्रामीणों और परिजनों ने हमले पर अपना आक्रोश जताया और केंद्र से पाकिस्तान समर्थित आतंकवादियों को माकूल जवाब देने की मांग की।

जयमाल सिंह(44) उस बस के ड्राइवर थे जिसपर आतंकी हमला किया गया। उनके परिवार में पत्नी, 10 वर्ष का बेटा और एक छोटा भाई है।

सुखविंदर सिंह के परिवार में उनके माता-पिता, पत्नी, एक सात वर्षीय बेटा है।

मनिंदर सिंह 13 फरवरी को ही ड्यूटी पर लौटे थे। उनका छोटा भाई भी सीआरपीएफ में है और फिलहाल असम में कार्यरत है।

कुलविंदर सिंह की शादी इसी वर्ष होनी थी।

आईएएनएस

Tags

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
error:
Close